Vande Bharat Mission: जानिए विदेश में फंसे भारतीयों को कैसे निकालेगा एयर इंडिया

विदेश में फंसे भारतीयों को देश वापस लाने के लिए वंदे भारत मिशन की शुरुआत 7 मई से हो गई है
अपडेटेड May 07, 2020 पर 16:26  |  स्रोत : Moneycontrol.com

पूरी दुनिया में कोरोना काल चल रहा है। कोरोना वायरस (Coronavirus) की वजह से कई देशों में लॉकडाउन घोषित किया गया है। भारत में भी इस समय लॉकडाउन चल रहा है। लॉकडाउन के इस दौर में सरकार ने विदेशों में फंसे हुए भारतीय नागरिकों को बाहर निकालने का फैसला लिया गया है। इसके लिए एयर इंडिया (Air India) को तैयार किया गया है। यानी एयर इंडिया विदेश में फंसे भारतीयों को वतन वापसी कराएगी। एयर इंडिया ने इसके लिए कमर कस ली है। स्टैंडर्ड ऑपरेटिंग प्रोसीजर (Standard Operating Procedures-SoPs) के बाद एयरलाइन ने अपने पायलटों (pilots) क्रू (crews) का कोविड-19 टेस्ट किया।


क्या है वंदे भारत मिशन ((Vande Bharat Mission)


कोरोना संकट के कारण विदेश में फंसे भारतीयों को लाने के लिए मोदी सरकार ने वंदे भारत मिशन ((Vande Bharat Mission) की शुरुआत की है। 7 मई यानी आज से 7 दिनों तक 12 देशों में फंसे लोगों की वतन वापसी कराई जाएगी। इसके लिए एयर इंडिया और उसकी सहायक कंपनी एयर इंडिया एक्सप्रेस (Air India Express) 12 देशों में फंसे 14,800 भारतीयों को वापस लाने के लिए 64 उड़ानों का संचालन करेगी। दोनों कंपनियां वंदे भारत मिशन के तहत काम करेंगी। इसमें यात्रियों को अपना किराया देना होगा। 


वंदे भारत मिशन समय सारिणी


एयर इंडिया की पहली फ्लाइट दिल्ली से सिंगापुर जाएगी। ये पहली फ्लाइट IGI एयरपोर्ट से 11 बजे सिंगापुर के लिए रवाना होगी। फ्लाइट शुक्रवार सुबह 7 बजे दिल्ली आ जाएगी।
इसी तरह एयर इंडिया एक्सप्रेस कोचीन-अबू धाबी और कोझीकोड-दुबई सर्विस संचालित की जाएगी। 64 फेरी सर्विस में ऐसा पहली बार होगा जो दोनों एयरलाइनों द्वारा 8-14 मई तक संचालित की जाएंगी।


वंदे भारत का प्रभाव


इसकी तुलना 1990 के एयरलिफ्ट से की जा रही है। तीन दशक पहले के ऑपरेशन की बात करें तो एयर इंडिया ने एयरलाइनों के एक समूह का नेतृत्व किया था, जिसमें करीब 111,711 भारतीयों को वापस लाया गया था। इस काम में भारतीय वायुसेना शामिल थी। यह उस समय की बात है जब इराक ने 1990 में कुवैत पर हमला कर दिया था और वहां फंसे भारतीयों को वापस लाना पड़ा था। उस 59 दिन ऑपरेशन में 488 उड़ानें शामिल हुई थीं।


मौजूदा प्लान के मुताबिक, UAE से भारतीयों को वापस लाने के लिए 10 उड़ानें संचालित की जाएंगी। जबकि 7 अमेरिका, 7 मलेशिया और 5 को सऊदी अरब भेजा जाएगा। अपनी वित्तीय स्थितियों से जूझ रही एयर इंडिया ने अभी तक कोरोना वायरस के संकट के चलते 9,000 से अधिक लोगों को भारत ला चुकी है।


सोशल मीडिया अपडेट्स के लिए हमें Facebook (https://www.facebook.com/moneycontrolhindi/) और Twitter (https://twitter.com/MoneycontrolH) पर फॉलो करें।