BMC ने बंगले पर कार्रवाई करते समय दिखाई तत्परता, अब जवाब देने में देरी क्यों: Bombay HC

कंगना के बंगले पर बीएमसी द्वारा की गई तोड़क कार्रवाई के मामले पर आज सुनवाई करते हुए बॉम्बे हाईकोर्ट ने बीएमसी को कड़ी फटकार लगाई है।
अपडेटेड Sep 24, 2020 पर 18:36  |  स्रोत : Moneycontrol.com

कंगना रनौत के बंगले पर बीएमसी द्वारा की गई तोड़क कार्रवाई के मामले पर आज सुनवाई करते हुए बॉम्बे हाईकोर्ट ने बीएमसी को कड़ी फटकार लगाई है। हाईकोर्ट द्वारा उनको जवाब देने के लिए दी गई मोहलत खतम होने के बाद बीएमसी के रवैये पर कड़ा रुख अपनाया है। जवाब देने पर देरी होने पर कोर्ट ने कहा कि जब बंगले पर कार्रवाई करने की बात थी तो आपने बड़ी तत्परता दिखाई और अब अपना जवाब देने की बात आई तो बड़ी सुस्ती दिखाई जा रही है।


कंगना के केस पर सुनवाई के दौरान BMC के वकील ने कहा कि उन्हें इस मामले में जवाब देने के लिए अभी दो दिन का और समय चाहिए जिस पर न्यायाधीश कठावला नाराज हो गए और उन्होंने कहा कि किसी का घर तोड़ दिया गया है और अदालत उस ढांचे को बरसात के मौसम में इस तरह से नहीं रहने दे सकती है।


अदालत ने आगे कहा कि कार्रवाई करने में तो आप लोग बहुत तेज हैं लेकिन जब आप पर आरोप लगते हैं और आप लोगों से जवाब मांगा जाता है तो आप लोग पीछे हटने लगते हैं। हालांकि जवाब देने के लिए कोर्ट ने कल दोपहर 3 बजे तक का समय बीएमसी को दिया है।


कंगना रनौत के बंगले पर कार्रवाई किये जाने के बाद कंगना की तरफ हाईकोर्ट में दायर याचिका में बृहन्मुंबई महानगरपालिका के अधिकारी भाग्यवंत लाटे और शिवसेना का सांसद संजय राउत को प्रतिवादी बनाया गया है। संजय राउत संसद का अधिवेशन होने के कारण दिल्ली में होने की बात कहने पर कोर्ट ने उन्हें अधिवेशन के बाद जवाब जमा करने की मोहलत दी है लेकिन बीएमसी पर कल तक जवाब देने को कहा है क्योंकि मानसून के कारण किसी के टूटे हुए घर को ऐसी अवस्था में नहीं रखा जा सकता ऐसी टिप्पणी कोर्ट ने की।


सोशल मीडिया अपडेट्स के लिए हमें Facebook (https://www.facebook.com/moneycontrolhindi/) और Twitter (https://twitter.com/MoneycontrolH) पर फॉलो करें।