Weather Updates: मध्य प्रदेश के इन चार जिलों में हो सकती है भारी बारिश, IMD ने जारी किया ऑरेंज अलर्ट

28 जिलों में आंधी और बिजली की चेतावनी के साथ भारी बारिश होने के दो अलग-अलग येलो अलर्ट भी जारी किए हैं
अपडेटेड Aug 23, 2021 पर 08:04  |  स्रोत : Moneycontrol.com

भारत मौसम विज्ञान विभाग (India Meteorological Department -IMD) ने मध्य प्रदेश (Madhya Pradesh) के चार जिलों में ऑरेंज अलर्ट (orange alert) जारी किया है। इसमें भारी बारिश का अनुमान जताया गया है।


मध्य प्रदेश के पश्चिमी भाग में आने वाले चार जिलों में धार, रतलाम, उज्जैन और देवास में 64.5 मिमी से 204.4 मिमी तक बारिश होने की आशंका जताई गई है। IMD ने राज्य के 28 जिलों में आंधी और बिजली की चेतावनी के साथ भारी बारिश होने के दो अलग-अलग येलो अलर्ट भी जारी किए हैं।


इन जिलों के लिए यलो अलर्ट जारी


IMD के भोपाल ऑफिस के सीनियर मौसम विज्ञनी पीके साहा (PK Saha) ने कहा कि प्रदेश के 13 जिलों मंदसौर, नीमच, दतिया, भिंड, मुरैना, शिवपुरी, आगर-मालवा, शाजापुर, झाबुआ, बैतूल, राजगढ़, नरसिंहपुर और छिंदवाड़ा में अलग-अलग स्थानों पर बिजली चमकने और गरज के साथ भारी बारिश के लिए येलो अलर्ट जारी किया गया है।


उन्होंने कहा कि इसके अलावा 15 जिलों देवास, मंदसौर, नीमच, शाजापुर, उज्जैन, ग्वालियर, शिवपुरी, श्योपुर, दतिया, अशोक नगर, गुना, भिंड, आगर, रतलाम और मुरैना में अलग अलग स्थानों पर गरज और बिजली चमकने के साथ भारी बारिश के पूर्वानुमान के साथ येलो अलर्ट (yellow alert) जारी किया गया है।


Weather Updates: 23 अगस्त तक इन राज्यों में भारी बारिश के आसार, जानिए देश भर में मानसून का हाल


इस बीच, मध्य प्रदेश के बड़े हिस्से में पिछले तीन दिनों से रुक-रुक कर बारिश हो रही है। शनिवार को सुबह 8.30 से शाम 5.30 बजे के बीच ग्वालियर, बैतूल, रतलाम और भोपाल शहर में क्रमश: 25.6 मिमी, 12 मिमी, 9 मिमी और 8.4 मिमी बारिश हुई।


साहा ने कहा कि मानसून ट्रफ (monsoon trough) मध्यप्रदेश के टीकमगढ़ और सीधी जिलों से होकर गुजर रहा है। इसके अलावा चक्रवाती हवाओं का दबाव उत्तर-पूर्व राजस्थान और उससे सटे उत्तर-पश्चिम मध्य प्रदेश पर बना हुआ है। इन दोनों सिस्टम के मिलने से नमी आ रही है जिससे मध्यप्रदेश में बारिश हो रही है।


अधिकारियों ने बताया कि इस महीने की शुरुआत में मध्यप्रदेश के ग्वालियर और चंबल डिवीजन में भारी बारिश ने कहर बरपाया था जिससे बाढ़ आई थी और एक से सात अगस्त के बीच कम से कम 24 लोगों की मौत हो गई थी।


Weather Update: इस हफ्ते इन दो राज्यों में भारी बारिश की आशंका, जानिए यूपी-बिहार, दिल्ली के मौसम का हाल


जानिए क्या होता है येलो, ग्रीन,और रेड अलर्ट का मतलब


येलो अलर्ट आने वाले खतरे के प्रति सचेत करता है। मौसम विज्ञान विभाग जैसे-जैसे मौसम खराब होता है वैसे-वैसे येलो अलर्ट को ऑरेंज अलर्ट में बदल देता है।


वहीं ऑरेंज अलर्ट बारिश और आंधी की पूरी संभावनाएं होती हैं। इस अलर्ट का मकसद लोगों को सावधान करना होता है। उन्हें सुरक्षित स्थान पर रहने के लिए सतर्क किया जाता है।


और रेड अलर्ट का मतलब होता है कि मौसम ज्यादा खराब है। भारी बारिश होने की संभावना है। ऐसे मौसम में लोगों को बाहर जाने से बचना चाहिए।


सोशल मीडिया अपडेट्स के लिए हमें Facebook (https://www.facebook.com/moneycontrolhindi/) और Twitter (https://twitter.com/MoneycontrolH) पर फॉलो करें।