PM मोदी ने लॉन्च किया National Digital Health Mission, जानिए इस योजना के बारे में पूरा डिटेल्स

पीएम मोदी ने National Digital Health Mission के बारे में बताया कि इस योजना के तहत हर भारतवासी का अपना एक यूनिक आइडेंटिटी नंबर (Unique Identity Number) होगा। इस नंबर के अंतर्गत आपके स्वास्थ्य से जु़ड़ी सभी जानकारियां इसमें शामिल रहेंगी
अपडेटेड Aug 16, 2020 पर 09:59  |  स्रोत : Moneycontrol.com

प्रधानमंत्री नरेंद मोदी (PM Narendra Modi) ने 74वें स्वतंत्रता दिवस (Independence Day 2020) के मौके पर लाल किले की प्राचीर से देश को संबोधित करते किया। इस दौरान पीएम मोदी देश को एक बड़ा तोहफा दिया। पीएम मोदी लाल किला की प्राचीर से नेशनल डिजिटल हेल्थ मिशन (National Digital Health Mission) की शुरूआत की। माना जा रहा है कि आयुष्मान भारत (Aayushman Bharat) जैसी यह योजना दूर-दराज के क्षेत्रों में रहने वाले लोगों के लिए फायदेमंद साबित हो सकती है।


अपने संबोधन के दौरान पीएम मोदी ने कहा, आज से देश में एक और बहुत बड़ा अभियान शुरू होने जा रहा है। ये है नेशनल डिजिटल हेल्थ मिशन। नेशनल डिजिटल हेल्थ मिशन, भारत के हेल्थ सेक्टर में नई क्रांति लेकर आएगा। प्रधानमंत्री ने National Digital Health Mission का ऐलान करते हुए कहा कि आपके हर टेस्ट, हर बीमारी, आपको किस डॉक्टर ने कौन सी दवा दी, कब दी, आपकी रिपोर्ट्स क्या थीं, ये सारी जानकारी इसी एक Health ID में समाहित होगी।


सबका तैयार होगा Unique Identity Number


पीएम मोदी ने इस बारे में बताया कि इस योजना के तहत हर भारतवासी का अपना एक यूनिक आइडेंटिटी नंबर (Unique Identity Number) होगा। इस नंबर के अंतर्गत आपके स्वास्थ्य से जु़ड़ी सभी जानकारियां इसमें शामिल रहेंगी। प्रधानमंत्री के मुताबिक, National Digital Health Mission योजना से हर देशवासी को एक तरह की सुरक्षा मुहैया कराई जाएगी। उन्होंने बताया कि इस मिशन के अंतर्गत पर्सनल मेडिकल रिकॉर्ड और जांच सेंटर जैसे संस्थानों को एक ही डिजिटल प्लेटफॉर्म पर लेकर आएंगे। पीएम के मुताबिक ऐसा इसका इसलिए किया जा ताकि दूरदराज के इलाकों में रहने वाले लोगों तक चिकित्सकीय सुविधाएं पहुंचाई जा सकें।


क्या है National Digital Health Mission?


इस स्कीम के तहत देश के हर नागरिक के हेल्थ का डाटा एक प्लेटफॉर्म पर होगा। इसके अलावा हर किसी का हेल्थ ID कार्ड (Health Card) तैयार किया जाएगा। इस डाटा में डॉक्टर की डिटेल्स के साथ देशभर में स्वास्थ्य सेवाओं की जानकारी उपलब्ध होगी। इसका एक बड़ा फायदा यह होगा की एक ही प्लेटफॉर्म पर स्वास्थ्य से जुड़ी तमाम जानकारी उपलब्ध हो जाएगी। इसके अलावा इसका सबसे बड़ा फायदा यह होगा कि देश में किसी भी हॉस्पिटल या डॉक्टर के पास जब इलाज कराने जाएंगे तो साथ में आपको सारे पर्चे और टेस्ट रिपोर्ट नहीं ले जाना पड़ेगा।


यानी डॉक्टर कहीं से भी बैठकर आपकी यूनिक आईडी के जरिए सारा मेडिकल रिकॉर्ड देख सकेगा। National Digital Health Mission में मुख्य तौर पर चार चीजों पर फोकस किया गया है। Health ID, व्यक्तिगत स्वास्थ्य रिकॉर्ड (Digitisation of Health Records), देशभर के डिजी डॉक्टरों और स्वास्थ्य सुविधाओं का रजिस्ट्रेशन (Registry of Doctors and Health Facilities Across the Country)। इन चार चीजों के साथ इसकी शुरूआत की जाएगी। फिर इसके बाद इस मिशन में टेलीमेडिसीन सेवाओं को जोड़ा जाएगा। इस सभी चीजों के लिए गाइडलाइंस तैयार किए जा रहे हैं।


वित्त मंत्रालय ने 470 करोड़ रुपये की दी मंजूरी


रिपोर्ट के मुताबिक इस स्कीम की शुरुआत पहले देश के चुनिंदा राज्यों में की जाएगी और इसके बाद अलग-अलग चरणों में देशभर में लागू कर दिया जाएगा। इसके लिए वित्त मंत्रालय ने 470 करोड़ रुपये की मंजूरी भी दी है। इस योजना में हेल्थ ID धारकों के डाटा की गोपनीयता का पूरा ख्याल रखा जाएगा। उनकी मर्जी के बिना उनकी जानकारी किसी और को नही मिल पाएगी। इस यूनिक Health ID को लोग Aadhaar कार्ड से भी जोड़ सकते हैं, इसके लिए भी विकल्प खुला रहेगा।


सोशल मीडिया अपडेट्स के लिए हमें Facebook (https://www.facebook.com/moneycontrolhindi/) और Twitter (https://ttter.com/MoneycontrolH) पर फॉलो करें।