जानिए, CBI-ED के दबाव को कम करने के लिए मेहुल चोकसी के वकीलों ने कौन सी चाल चली?

चोकसी ED और CBI की टीमों को डोमिनिका से जाने को विवश करने के लिए अपनी कानूनी सुनवाई को लंबा खींचना चाहता है
अपडेटेड Jun 14, 2021 पर 22:33  |  स्रोत : Moneycontrol.com

पंजाब नेशनल बैंक धोखाधड़ी (PNB Scam) केस के आरोपों में भारत से फरार भगोड़ा हीरा व्यापारी मेहुल चोकसी (Mehul choksi) को डोमिनिका की हाई कोर्ट ने पड़ोसी एंटीगा और बारबुडा से रहस्यमय परिस्थितियों में गायब होने के बाद द्वीपीय देश में अवैध रूप से घुसने के मामले में जमानत देने से शनिवार को इनकार कर दिया। हाईकोर्ट ने इस आधार पर जमानत देने से इनकार कर दिया, क्योंकि उसके भागने का खतरा है।


इस बीच शीर्ष सूत्रों ने सीएनएन-न्यूज 18 को बताया कि चोकसी ईडी और सीबीआई की टीमों को डोमिनिका से जाने को विवश करने के लिए डोमिनिका में अपनी कानूनी सुनवाई को लंबा खींचना चाहता है। चोकसी की कानूनी टीम ने उसे सुनवाई को यथासंभव लंबा करने का सुझाव दिया है, ताकि प्रवर्तन निदेशालय (ED) और केंद्रीय जांच ब्यूरो (CBI) की भारतीय टीमें वहां से निकल जाएं।


वकीलों ने चोकसी के परिवार को इसे मानवाधिकार का भी मुद्दा बनाने का सुझाव दिए हैं। सूत्रों ने कहा कि भारतीय एजेंसियों के डोमिनिका छोड़ने से अदालतों पर दबाव कम होगा और स्थानीय वकीलों के लिए तथ्यों के आधार पर मामले पर बहस करना मुश्किल हो जाएगा। वकीलों ने चोकसी के परिवार को मीडिया से कैसे बात करनी है इसके बारे में भी सुझाव दिया है।


बता दें कि पंजाब नेशनल बैंक (PNB) में 13,500 करोड़ रुपये के धोखाधड़ी मामले में वांछित हीरा कारोबारी फिलहाल डोमिनिका पुलिस की हिरासत में है। चोकसी को कैरिबियाई द्वीपीय देश में अवैध रूप से प्रवेश करने के लिए 23 मई को गिरफ्तार कर लिया गया था।


चोकसी ने जनवरी 2018 में भारत से भागने से पहले ही, 2017 में कैरिबियाई द्वीपीय देश एंटीगुआ एवं बारबुडा की नागरिकता हासिल कर ली थी। चोकसी और उसके भतीजे नीरव मोदी पर कुछ बैंक अधिकारियों की मिलीभगत से PNB के साथ कथित तौर पर 13,500 करोड़ रुपये की धोखाधड़ी करने का आरोप है। नीरव मोदी अभी लंदन की एक जेल में बंद है।


दोनों के खिलाफ CBI जांच कर रहा है। डोमिनिका हाईकोर्ट और मजिस्ट्रेट कोर्ट में उसकी सुनवाई हो रही है। हाईकोर्ट को ये तय करना है कि डोमिनिका में चोकसी की एंट्री कानूनी थी या गैरकानूनी? साथ ही ये भी तय करना है कि पुलिस ने उसको कानूनी रूप से गिरफ्तार किया है या गैरकानूनी तरीके से? इसके बाद ही चोकसी को किसी दूसरे देश को सौंपने पर कोई फैसला लिया जाएगा।


सोशल मीडिया अपडेट्स के लिए हमें Facebook (https://www.facebook.com/moneycontrolhindi/) और Twitter (https://twitter.com/MoneycontrolH) पर फॉलो करें।