Yes Bank लोन केस में ED ने HDIL के प्रमोटर्स की 77 करोड़ रुपये की संपत्ति जब्त की, PMC Bank घोटाले से ये है कनेक्शन

ED ने 200 करोड़ रुपये के Yes Bank धोखाधड़ी मामले में आज HDIL के प्रमोटर्स की 77 करोड़ रुपये की संपत्ति जब्त की
अपडेटेड Apr 10, 2021 पर 09:32  |  स्रोत : Moneycontrol.com

यस बैंक लोन घोटाले (Yes Bank loan case) में प्रवर्तन निदेशालय (ED) ने हाउसिंग डेवलपमेंट इंफ्रास्ट्रक्चर लिमिटेड (HDIL) के प्रमोटर्स पर शिकंजा कसा है। ED ने HDIL के प्रमोटर्स राकेश वाधवन (Rakesh Wadhawan) और सारंग वाधवन (Sarang Wadhawan) के साथ PMC बैंक के पूर्व चेयरमान वरयाम सिंह (Waryam Singh) की संलिप्तता वाले 200 करोड़ रुपये के यस बैंक धोखाधड़ी मामले में आज 77 करोड़ रुपये की संपत्ति जब्त की है।

ED ने यह कार्रवाई मनी लॉन्ड्रिंग प्रिवेंशन एक्ट (PMLA) के तहत की है। प्रवर्तन निदेशालय ने कहा कि सनलाइट हाउसिंग डेवलपमेंट प्राइवेट लिमिटेड (SHDPL) के खिलाफ कुर्की का आदेश जारी किया गया है। यह आदेश PMLA के प्रावधानों के तहत जारी किया गया है। इस मामले में ED ने अब तक कुल 147.49 करोड़ रुपये की संपत्ति जब्त की है। 

ईडी ने कहा कि HDIL के प्रमोटर्स के जो ऐसेट्स अटैच किए गए हैं वे 5 कमर्शियल ऐसेट्स हैं और 32,300 स्क्वायर फीट में फैले हैं। इनमें दो फ्लैट मुंबई के अंधेरी स्थित अटलांटिस बिल्डिंग में हैं। इसके अलावा 1.40 करोड़ रुपये की नकद राशि भी जब्त की गई है।

आपको बता दें कि यह मामला Yes Bank द्वारा मंजूर किए गए 200 करोड़ रुपये के कर्ज की हेराफेरी से जुड़ा हुआ है। यह कर्ज मैक स्टार मार्केटिंग प्राइवेट लिमिटेड (Mack Star Marketing Private Limited) दिया गया था। लेकिन HDIL के प्रमोटर्स ने फ्रॉड करके फ्री में यह राशि SHDPL को ट्रांसफर करवा दिया।

ED ने कहा कि राकेश वाधवन और उनके बेटे सारंग वाधवन ने इन संपत्तियों को मेजोरिटी शेयरहोल्डर्स की मंजूरी के बिना धोखाधड़ी करते बिना कोई पेमेंट किए मुकेश दोषी नाम के एक शख्स को ट्रांसफर कर दी। इसमें मैक स्टार मार्केटिंग के 83.96% हिस्सेदारी वाले शेयरहोल्डर DE Shaw Group की सहमति नहीं ली गई।

सोशल मीडिया अपडेट्स के लिए हमें Facebook (https://www.facebook.com/moneycontrolhindi/) और Twitter (https://twitter.com/MoneycontrolH) पर फॉलो करें।