Moneycontrol » समाचार » क्रेडिट कार्ड

ऑनलाइन लेनदेन में इन चीजों से बचें नहीं तो लगेगा चूना

क्रेडिट कार्ड की डिटेल चोरी होने सहित कई अलग-अलग तरह के धोखे हैं
अपडेटेड Jul 19, 2019 पर 11:35  |  स्रोत : Moneycontrol.com

ऑनलाइन लेनदेन में चूना लग सकता है। यह बात सब जानते हैं। लेकिन इनसे बचने के तरीके के बारे में किसी को कोई जानकारी नहीं होती है। 2018 में ऑनलाइन धोखाधड़ी के 6515 रिपोर्ट हुई हैं। इसमें क्रेडिट कार्ड की डिटेल चोरी होने सहित कई अलग-अलग तरह के धोखे हैं। आज हम कुछ ऐसे ही ऑनलाइन फ्रॉड के बारे में बता रहे हैं।


क्लासिक फ्रॉड


इस तरीके फ्रॉड में फंसने की आशंका ज्यादा होती है। इसमें डार्क वेब पर क्रेडिट कार्ड के क्रिडेंशियल्स चुराकर उसका इस्तेमाल करते हैं और आपको चूना लगा सकते हैं।


ट्रांएगुलेशन फ्रॉड


इस फ्रॉड में एक जालसाज, एक ईकॉमर्स स्टोर और एक वाजिब दिखने वाला दुकानदार होता है। इस तरह के फर्जीवाड़े में जालसाज एक ऑनलाइन स्टोर के जरिए लोगों को चूना लगाता है। इसमें किसी हाई-डिमांड प्रोडक्ट की कीमत उम्मीद से कम रहेगी. आप इसे देखकर उत्साहित होंगे और प्रोडक्ट खरीदेंगे। दुकानदार को प्रोडक्ट की कीमत मिलेगी और जालसाज आपके उस क्रेडिट कार्ड/डेबिट कार्ड की पूरी डिटेल चुरा लेगा जिससे आपने पेमेंट की होगी।


पहचान छिपाकर फ्रॉड


इस तरह के फर्जीवाड़े में जालसाज किसी दूसरे व्यक्ति की पहचान चुराकर उसके क्रेडिट कार्ड से शॉपिंग करता है। ऐसे जालसाजों का पता लगाना मुश्किल होता है।


मर्चेंट आइडेंटिटी फ्रॉड


B2C एक्टिविटीज में होने वाला यह सबसे बड़ा स्कैम है लेकिन यह B2B पर भी असर डालता है। किसी सही दिखने वाले वेबसाइट पर कोई महंगा प्रोडक्ट बहुत ही कम दाम पर अवलेबल होता है। कस्टमर ऑनलाइन पेमेंट करके वह प्रोडक्ट ऑर्डर करता है लेकिन उसे कभी वह प्रोडक्ट डिलीवर नहीं होता है।