Moneycontrol » समाचार » क्रेडिट कार्ड

CoronavirusLockdown की वजह से क्रेडिट कार्ड से भर सकते हैं किराया, जानिए इसके फायदे

मकान का किराया देते समय डिजिटल पेमेंट करें, इससे आपको कई तरह के फायदे मिलेंगे
अपडेटेड May 04, 2020 पर 16:20  |  स्रोत : Moneycontrol.com

कोरोना वायरस की वजह से लॉकडाउन घोषित किया गया है। लिहाजा लोगों की आवाजाही पूरी तरह से ठप हो चुकी है। कोरोना वायरस की वजह से अर्थव्यवस्था में भी इसका बुरा असर पड़ा है। कई कंपनियों में छंटनी तक की नौबत आ गई है। वहीं कई कंपनियों में वेतन में कौटती भी हो गई है। जाहिर है कि ऐसे हालात में जो लोग किराए से रह रहे होंगे, उनके लिए किराया देना थोड़ा कठिन काम हो जाएगा। इन दिनों एक आदमी के लिए किराया देना सबसे बड़ा मासिक खर्च होता है।  इस कठिन दौर में अगर आप किराया देने के लिए क्रेडिट कार्ड का रास्ता चुनते हैं तो आपके लिए काफी आसान हो सकता है। क्रेडिड कार्ड के जरिए किराया देने का सबसे बड़ा फायदा यह है कि आपको 45 दिन की मोहलत मिलेगी।


कई राज्य सरकारों ने मकान मालिकों से मार्च-मई 2020 का किराया नहीं लेने की अपील की है। क्योंकि इस महामारी के चलते कई लोगों की रोजी रोटी प्रभावित हुई है। लेकिन यह किराया लेना नहीं लेना मकान मालिक के ऊपर निर्भर करता है कि वो किराया ले या छोड़ दें।


क्रेडिट कार्ड के जरिए किराया भरने वालों की संख्या में अचानक से बढ़ोतरी ही है। क्रेडिट कार्ड किरायादोरों को किराया देने के लिए कई तरह के ऑफर पेश करते हैं। इससे सुनिश्चित हो जाता है कि मकान मालिक को समय पर किराया मिल जाता है। किरायेदार किसी तरह की वित्तीय कठिनाइयों का सामने नहीं करना पड़ता है। उन्हें तकरीबन 45 दिन का टाइम पीरियड मिलता है।


ज्यादातर लोग संक्रमण के डर से कैश का लेन-देन नहीं करना चाहते हैं। इसके अलावा लॉकडाउन की वजह से सब लोग घरों पर कैद हो गए हैं। शायद यही वजह है कि ज्यादातर किराये दार अपने मालिक को किराया डिजिटल तरीके से ट्रांसफर कर रहे हैं। डिजिटली (digitally) पेमेंट करते समय समय क्रेडिट कार्ड बेहतर विकल्प है। इसका कारण यह है कि यह न केवल रिवार्ड पॉइंट (reward points) देता है बल्कि प्री क्रेडिट पीरियड (free credit period) भी देता है।


कोरोना वायरस की इस परिस्थिति को देखते हुए क्रेडिट कार्ड से किराया भरना काफी मायने रखता है। क्योंकि कोरोना की वजह से जो स्थितियां पैदा हुई हैं, ये सब अस्थाई हैं, जो कि जल्द ही खत्म हो जाएंगी। जब तक चीजें सामान्य नहीं हो जाती हैं और अर्थव्यवस्था की स्थिति बेहतर नहीं होती है तब तक लिक्विडिटी का लाभ उठाने के लिए बेहतर है कि डिजिटल का फायदा उठाएं। डिजटलीकरण (digitization) का जो विकल्प है इसी सुविधा का लाभ उठाएं।


सोशल मीडिया अपडेट्स के लिए हमें Facebook (https://www.facebook.com/moneycontrolhindi/) और Twitter (https://twitter.com/MoneycontrolH) पर फॉलो करें।