Moneycontrol » समाचार » मनीकंट्रोल बाजार

Bharat 22 ETF: 4 अक्टूबर को खुलेगा इश्यू, क्या निवेश के लिए सही है?

Bharat 22 ETF 22 कंपनियों में निवेश करता है जो S&P BSE Bharat 22 index में शामिल हैं। इनमें से 19 सरकारी कंपनियां हैं और 3 प्राइवेट सेक्टर की कंपनियां हैं
अपडेटेड Oct 04, 2019 पर 09:45  |  स्रोत : Moneycontrol.com

Bharat 22 ETF। इंडिविजुअल इनवेस्टर्स के लिए सरकार  Bharat 22 ETF के चौथे चरण के इश्यू लेकर आई है। एंकर इनवेस्टर्स के लिए ये इश्यू 3 अक्टूबर को खुल गए हैं। जबकि बाकी निवेशकों के लिए इश्यू 4 अक्टूबर को खुलेगा। Bharat 22 ETF का बेस साइज 2000 करोड़ रुपए है। इश्यू के ओवरसब्सक्रिप्शन पर अतिरिक्त फंड रखने का अधिकार सरकार ने अपने पास रखा है। इंडिविजुअल इनवेस्टर्स कम से कम 5000 रुपए से निवेश कर सकते हैं। इसके साथ ही उन्हें 3 फीसदी का डिस्काउंट भी मिलेगा।


क्या है Bharat 22 ETF?


यह 22 कंपनियों में निवेश करता है जो S&P BSE Bharat 22 index में शामिल हैं। इनमें से 19 सरकारी कंपनियां हैं और 3 प्राइवेट सेक्टर की कंपनियां हैं। इंडेक्स में प्राइवेट सेक्टर की कंपनियों का वेटेज 39.4 फीसदी है। 4 सितंबर तक के आंकड़ों के मुताबिक, Bharat 22 index का अलॉटमेंट सबसे ज्यादा 22 फीसदी इंडस्ट्रियल्स में है। इसके बाद 21 फीसदी फाइनेंस सेक्टर, 21 फीसदी यूटिलिटीज में है। 


मार्केट कैपिटलाइजेशन की बात करें तो इंडेक्स में 88 फीसदी लार्ज कैप कंपनियां हैं। 5 सबसे बड़ी लार्जकैप कंपनियों में L&T (16.7%), ITC (14.3%), SBI (9.4%), Axis Bank (8.4%) और NTPC (7.70%) हैं। इंडेक्स में 20 फीसदी का सेक्टोरल कैप और 15 फीसदी का स्टॉक कैप है। इसका मतलब है कि इनमें से कुछ निवेश घटाया जा सकता है। शेयरों में इनवेस्टमेंट रीबैलेंसिंग हर साल मार्च में एकबार की जाती है।


निवेशकों को क्या करना चाहिए?
 
मिंट के मुताबिक, Bharat 22 ने चौथी बार यह इश्यू जारी किया है। इससे कई सरकारी कंपनियों की री-रेटिंग हो सकती है। फिलहाल सरकारी कंपनियों के शेयर निचले लेवल पर ट्रेड कर रहे हैं। इनवेस्टमेंट साइकिल पर सरकार के ज़ोर से सरकारी कंपनियों को फायदा हो सकता है।


हालांकि इसे लेकर सभी एक्सपर्ट्स की राय एक जैसी नहीं है। IIFL वेल्थ मैनेजमेंट लिमिटेड के सीनियर पार्टनर गौरव अवस्थी ने कहा कि ETF में निवेश करने का मकसद निफ्टी और सेंसेक्स के साथ तो ठीक है लेकिन Bharat 22 जैसे डिसइनवेस्टमेंट ETF में निवेश ठीक नहीं है। निवेशकों को यह ध्यान रखना चाहिए कि उन्हें जो 3 फीसदी का डिस्काउंट दिया गया है वह एक दिन की गिरावट में ही धुल सकती है। लिहाजा इसमें सोच-समझकर निवेश करें।


सोशल मीडिया अपडेट्स के लिए हमें Facebook (https://www.facebook.com/moneycontrolhindi/) और Twitter (https://twitter.com/MoneycontrolH) पर फॉलो करें।