Moneycontrol » समाचार » मनीकंट्रोल बाजार

सितंबर तिमाही में 50 कंपनियों के प्रमोटर्स ने स्टेक बढ़ाया और 100 ने घटाया, जानिए निवेशक क्या करें?

जिस कंपनी के प्रमोटर अपनी कंपनी में हिस्सेदारी बढ़ाते हैं, उन्हें निवेश के लिहाज से बेहतर समझा जाता है
अपडेटेड Nov 20, 2019 पर 09:06  |  स्रोत : Moneycontrol.com

शेयर बाजार अपने रिकॉर्ड हाई के करीब ट्रेड कर रहा है। लेकिन निवेशकों को यह समझ नहीं आ रहा है कि खरीदारी कहां करें? अगर आप सही जगह दाव लगाना चाहते हैं तो सबसे पहले यह गौर कीजिए कि किन शेयरों में प्रमोटर्स अपनी हिस्सेदारी घटा रहे हैं और किन शेयरों में बढ़ा रहे हैं।


AceEquity के आंकड़ों के मुताबिक, अगर आप सितंबर तिमाही के आंकड़ों को जून तिमाही के आंकड़ों से तुलना करके देखेंगे तो आपको पता चलेगा कि S&P BSE 500 इंडेक्स की 54 कंपनियों में प्रमोटर्स ने अपनी हिस्सेदारी बढ़ाई है। AceEquity ने ये आंकड़े 1 नवंबर को जारी किया था।


जिस कंपनी के प्रमोटर अपनी कंपनी में हिस्सेदारी बढ़ाते हैं, उन्हें निवेश के लिहाज से बेहतर समझा जाता है। हालांकि जिस कंपनी के प्रमोटर अपनी हिस्सेदारी घटाते हैं उनमें निवेश करने से बचना चाहिए। हालांकि निवेश करने से पहले इस बात पर भी गौर करना चाहिए कि किन हालात में प्रमोटर्स ने हिस्सेदारी घटाई या बढ़ाई है।


पिछले एकसाल में जिन कंपनियों में उनके प्रमोटर्स ने हिस्सेदारी बढ़ाई है उनमें से 70 फीसदी कंपनियों का रिटर्न इस दौरान नेगेटिव रहा है। ऐसे में आप यह समझ सकते हैं कि ये स्टॉक्स अंडरवैल्यूड या अट्रैक्टिव वैल्यू पर हैं। लेकिन ध्यान रहे कि गिरावट का मतलब यह नहीं है कि सभी शेयर खरीदने लायक हैं।


TradingBells के सीनियर एनालिस्ट संतोष मीणा ने मनीकंट्रोल को बताया कि जिन शेयरों में प्रमोटर ने हिस्सेदारी बढ़ाई है, वो सभी शेयर अंडरवैल्यूड नहीं हैं। प्रमोटर्स RIL के शेयर खरीद रहे हैं जबकि यह पहले ही 52 हफ्ते के हाइएस्ट लेवल पर है। इसका मतलब है कि इसके शेयरों की वैल्यू आगे और बढ़ सकती है।


मीणा ने कहा कि IT और फार्मा सेक्टर में प्रमोटर के हिस्सेदारी बढ़ाने के मायने आकर्षक वैल्यूएशन हो सकता है। उन्होंने आगे कहा कि इंडियाबुल्स हाउसिंग फाइनेंस जैसे शेयरों में प्रमोटर खरीदारी कर रहे हैं क्योंकि वो अपने शेयरों की गिरावट को थामना चाहते हैं।


जून तिमाही के मुकाबले सितंबर तिमाही में ऐसी 94 कंपनियां हैं जिनमें प्रमोटर्स ने अपनी हिस्सेदारी घटाई है। इस दौरान जिन कंपनियों में प्रमोटर्स ने स्टेक घटाया है उनमें HDFC AMC, SBI Life Insurance, SpiceJet, Can Fin Homes, Kotak Mahindra Bank, Bharti Airtel, HDFC Bank, Axis Bank, Avanti Feeds सहित कुछ दूसरी कंपनियां हैं।


सोशल मीडिया अपडेट्स के लिए हमें Facebook (https://www.facebook.com/moneycontrolhindi/) और Twitter (https://twitter.com/MoneycontrolH) पर फॉलो करें।