Moneycontrol » समाचार » मनीकंट्रोल बाजार

राकेश झुनझुनवाला, डॉली खन्ना के पोर्टफोलियो के ज्यादातर शेयर गिरे, जानिए आप क्या करें?

बाजार के जानकारों कभी भी यह सलाह नहीं देते हैं कि छोटे निवेशकों को आंख बंदकर बड़े निवेशको को कॉपी करना चाहिए
अपडेटेड Dec 17, 2019 पर 09:29  |  स्रोत : Moneycontrol.com

2019 में अब तक शेयर बाजार में 11 फीसदी की तेजी आ चुकी है। हालांकि राकेश झुनझुनवाला, डॉली खन्ना और आशीष कचोलिया जैसे दिग्गज निवेशकों के पोर्टफोलियो में शामिल ज्यादातर शेयरों का रिटर्न सितंबर तिमाही तक नेगेटिव रहा है।


यह सिर्फ इन निवेशकों के पोर्टफोलियो का एक रिफ्लेक्शन है क्योंकि हमने सिर्फ उन्हीं शेयरों पर गौर किया है जिनमें इनकी हिस्सेदारी 1 फीसदी से ज्यादा है।


झुनझुनवाला के 30 शेयरों के पोर्टफोलियो में से 24 शेयर 2019 में 90 फीसदी से ज्यादा गिर गए। इनमें DHFL, DB रियल्टी, ऑटोलाइन इंडस्ट्रीज, बिलकेयर, NCC,इडलवाइज फाइनेंशियल सर्विसेज और करूर वैश्य बैंक हैं।


डॉली खन्ना


चेन्नई की दिग्गज निवेशक डॉली खन्ना और राजीव खन्ना का फोकस मिड और स्मॉलकैप शेयरों में होता है। AceEquity के आंकड़ों के मुताबिक, 2019 में इनके पोर्टफोलियो में भी अच्छी खासी गिरावट आई है।


इनके पोर्टफोलियो में सबसे खराब प्रदर्शन नोसिल (Nocil) का है जिसमें 41 फीसदी की गिरावट आ चुकी है। इसके बाद 29 फीसदी गिरावट के बाद रेन इंडस्ट्रीज (Rein Industries) और 13 फीसदी गिरावट के साथ नीलकमल है।


आशीष कचोलिया के पोर्टफोलियो के 70 फीसदी शेयरों ने इस साल नेगेटिव रिटर्न दिया है। कचोलिया के पास CHD डेवलपर्स के शेयर है जो 84 फीसदी गिर चुका है। इसके बाद मर्क इलेक्ट्रॉनिक्स (Merc Electronics) है जो 75 फीसदी गिर चुका है। V2 रिटेल 66 फीसदी और हिकल में 26 फीसदी की गिरावट आ चुकी है।


क्या करें छोटे निवेशक?


पिछले 2 साल से स्मॉलकैप और मिडकैप शेयरों का प्रदर्शन इतना अच्छा नहीं रहा है। बाजार के जानकारों कभी भी यह सलाह नहीं देते हैं कि छोटे निवेशकों को आंख बंदकर बड़े निवेशको को कॉपी करना चाहिए।


दिग्गज और छोटे निवेशकों की जोखिम उठाने की क्षमता भी अलग-अलग होती है लिहाजा दोनों के निवेश की रणनीति भी अलग होनी चाहिए। 


इडलवाइज के पर्सनल वेल्थ एडवाइजरी के हेड राहुल जैन ने कहा, "यह एक ऐसी गलती है जो ज्यादातर छोटे निवेशक करते हैं और नुकसान उठाते हैं। निवेशक कई बार सुनी-सुनाई बातों को आधार मानकर निवेश करते हैं और फंस जाते हैं।"


छोटे निवेशकों को कभी बाजार को पकड़ने की कोशिश नहीं करना चाहिए। यानी कभी किसी छोटे निवेशक को शेयर खरीदने के लिए सबसे निचला स्तर और  बेचने के लिए सबसे हाइएस्ट लेवल पकड़ने की कोशिश नहीं करना चाहिए।


निवेश के विचार निवेशकों के निजी हैं।


सोशल मीडिया अपडेट्स के लिए हमें Facebook (https://www.facebook.com/moneycontrolhindi/) और Twitter (https://twitter.com/MoneycontrolH) पर फॉलो करें।