Moneycontrol » समाचार » फाइनेंशियल प्लानिंग

जानिए Spouse के क्रेडिट स्कोर का Loan Eligibility पर क्या पड़ेगा प्रभाव?

जब आप जॉइंट होम लोन लेते हैं तो आपके स्पाउस के क्रेडिट स्कोर पर आपकी लोन एलिजबिलिटी पर प्रभाव पड़ता है।
अपडेटेड Sep 10, 2019 पर 15:42  |  स्रोत : Moneycontrol.com

आज व्यक्ति को अपनी बड़ी जरूरतें पूरी करने के लिए लोन की आवश्यकता पड़ती ही है। ऐसे में लोन पाने के लिए कड़ी मशक्कत करनी पड़ती है। लोन देने वाली कंपनियां कई तरह के डॉक्यूमेंट्स चेक करती हैं। साथ ही आपकी इनकम से कितना लोन मिल सकता है, इसकी जांच पड़ताल होती है। इसके अलावा आपका क्रेडिट स्कोर भी देखा जाता है। क्रेडिट स्कोर ही बताता है कि आपको कितना लोन मिलना चाहिए और ब्याज की दर कितनी होनी चाहिए। अगर आपका क्रेडिट स्कोर खराब है, तो आपको लोन मिलना मुश्किल हो जाएगा। आपका क्रेडिट स्कोर एक तरह से आपके फाइनेंशियल लाइफ का स्नैपशॉट होता है। जिसे बनाने में कई साल गुजर जाते हैं। अब आप सोच रहे होंगे कि क्या आपके स्पाउस का क्रेडिट स्कोर आपकी फाइनेंशियल लाइफ को प्रभावित करेगा?  तो बता दें कि आम तौर पर आपके स्पाउस का क्रेडिट स्कोर आपकी फाइनेंशियल लाइफ में कोई प्रभाव नहीं डालेगा। 


स्पाउस के क्रेडिट स्कोर का लोन पर कोई प्रभाव नहीं पड़ता


शादी के बाद क्रेडिट के लिए जॉइंट रूप से आवेदन करने की कोई आवश्यकता नहीं है। अगर आप अपने लिए क्रेडिट के लिए आवेदन करना चाहते हैं और इंडीविजुअल (व्यक्तिगत) रूप से आवेदन करना चाहते हैं तो बैंक के पास आपके स्पाउस के क्रेडिट स्कोर की जांच करने का कोई कारण नहीं है। लोन का आवेदन पूरी तरह से आपकी क्रेडिट मेरिट के आधार पर माना जाएगा। फैमिली इंश्योरेंस पॉलिसी आमतौर पर प्रीमियम तय करते समय इनकम, रोजगार, बीमित संख्या और अन्य पैरामीटर्स पर विचार करती हैं।
प्रीमियम का कैलकुलेशन करते समय क्रेडिट स्कोर सर्वोपरि नहीं हैं। इसलिए, न तो आपको और न ही आपके स्पाउस को अपने बीमा प्रीमियम को प्रभावित करने वाले क्रेडिट स्कोर के बारे में चिंता करना होगा।


जॉइंट होम लोन आवेदन


अगर आप पति-पत्नी घर लेने की योजना बना रहे हैं तो जॉइंट होम लोन लेना बेहतर होता है। इससे आपको EMI का भुगतान करते समय कर्ज का बोझ कम करने में मदद मिलती है। साथ ही आपको इनकम टैक्स के सेक्शन 80C और 24 के तहत इंडेपेंडेंट टैक्स बेनीफिट भी मिलता है। साथ ही महिला को Co-Borrowers को ब्याज दर में रियायत भी मिलती है।
लेकिन इसका मतलब ये भी है कि आपके लोन पैकेज को निर्धारित करते समय आप दोनों लोगों के क्रेडिट स्कोर को ध्यान में रखा जाएगा। अगर आपके क्रेडिट स्कोर में रिस्क (जोखिम) दिख रहा है तो आपको लोन मे दिक्कत होगी। इसलिए अगर आप में से किसी एक का क्रेडिट स्कोर खराब है तो हो सकता है कि आपको हाई लोन न मिले।
आपके स्पाउस के क्रेडिट स्कोर का आपके फाइनेंस में क्या प्रभाव पड़ेगा यह व्यकितगत परिस्थियों पर निर्भर करता है।
हालांकि बेहतर स्कीम पाने के लिए आपको और आपके स्पाउस को अपना क्रेडिट स्कोर बेहतर रखना चाहिए। ताकि कहीं पर भी आपक फाइनेंशियली अड़चन न हो।      
   
सोशल मीडिया अपडेट्स के लिए हमें Facebook (https://www.facebook.com/moneycontrolhindi/) और Twitter (https://twitter.com/MoneycontrolH) पर फॉलो करें।