Moneycontrol » समाचार » फाइनेंशियल प्लानिंग

आश्का के साथ अपने पर्सनल फाइनेंस को करें दुरुस्त

प्रकाशित Sat, 18, 2017 पर 17:37  |  स्रोत : CNBC-Awaaz

अपने सपनों को हकीकत में बदलना चाहते हैं। जानना चाहते हैं कि आपके इरादों का साथ आपकी जेब दे पाएगी या नहीं। अपने पर्सनल फाइनेंस की प्लानिंग खुद आमने सामने बैठ कर करवाना चाहते हैं तो आवाज़ पर मिलिए आश्का से। आश्का को आप एक मशहूर टीवी एक्ट्रेस के तौर पर तो जानते हैं लेकिन पर्सनल फाइनेंस की दुनिया में भी उन्होंने दर्शकों से एक नया नाता जोड़ लिया है।


गेट रिच विद आश्का का सफर शुरू हुआ 2014 में सीएनबीसी- बाजार के साथ। गुजरात के अलग-अलग शहरों में आश्का लोगों के घर गईं उनके जीवन की फाइनेशिंयल परेशानियों के हल लेकर। यही नहीं गेट रिच, आश्का के साथ कॉलिजों में गया, सेवा जैसे संस्थानों में गया और वहां युवाओं और कामकाजी महिलाओं को निवेश करने का महत्व बताया। दर्शकों के सवालों पर आश्का के साथ काम किया हमारे एक्पर्ट पैनल ने जिसमें अर्नव पांड्या, गौरव मश्रूवाला और कलपेश अशर जैसे जाने माने पर्सनल फाइनेंस एक्सपर्ट शामिल हैं। लोगों ने आश्का से अपने दिल की बात की और उनकी सलाह मानी। कई परिवारों ने हमें बताया की उनहें शो पर आने से काफी फायदा हुआ।


गेट रिच विद आश्का में आज आश्का के साथ मुंबई के भरत जेठवा जुड़े हैं जो पिछले 10 साल से मर्चेंट नेवी में काम कर रहे हैं। ये 3 महीने घर पर रहते हैं और 3 महीनें शिप पर रहते हैं। जब ये घर पर रहते हैं तो कंपनी इनको सैलरी नहीं देती है। इनकी प्रति माह औसत आय 60 हजार रुपये के आसपास है।  इनका परिवार छोटा है, ये मुंबई में पत्नी और बच्चे के साथ रहते हैं। इन्होंनें छुट्टियों के दिन के खर्चे के लिए 2 लाख रुपये का इमर्जेंसी फंड बनाया है। भरत का लक्ष्य रिटायरमेंट के लिए 1 करोड़ के आसपास का कॉर्पस बनाना, बच्चों की पढ़ाई के लिए 15 साल में 25 लाख इकट्ठे करना है। भरत जेठवा के पास हेल्थ इंश्योरेंस फेमिली फ्लोटर प्लान जिसमें 3 लाख का कवर है और जिसका प्रीमियम 7 हजार रुपये है। भरत पीपीएफ में हर महीनें 2 हजार रुपये निवेश करते हैं।


भरत जेठवा को आश्का की सलाह है कि 3 महीने की सैलरी या 6 महीने के खर्च के बराबर के रकम का इमर्जेंसी फंड बनाएं। आश्का के मुताबिक भरत जेठवा के फेमिली फ्लोटर प्लान में प्रीमियम के हिसाब से कवर कम है। 7 हजार प्रीमियम में ज्यादा कवर लेने की कोशिश करें और दोनों के लिए अलग-अलग प्लान लें।


बच्चों की पढ़ाई के लिए बैलेंस फंड, 50 फीसदी इक्विटी और 50 फीसदी डेट में निवेश करें। 8 हजार रुपये का निवेश चाइल्ड प्लान में करें। रिटायरमेंट के कॉर्पस के लिए एमएफ से इक्विटी निवेश शुरू करें। इसके लिए लार्जकैप फंड चुने और कम से कम 13000 रुपये महीना निवेश करें।