Moneycontrol » समाचार » कंपनी समाचार

निवेश के लिए अभिनेत्री आश्का गोराड़िया की रणनीति

प्रकाशित Sat, 07, 2018 पर 18:59  |  स्रोत : CNBC-Awaaz

अपने सपनों को हकीकत में बदलना चाहते हैं। जानना चाहते हैं कि आपके इरादों का साथ आपकी जेब दे पाएगी या नहीं। अपने पर्सनल फाइनेंस की प्लानिंग खुद आमने सामने बैठ कर करवाना चाहते हैं तो आवाज़ पर मिलिए आश्का से। आश्का को आप एक मशहूर टीवी एक्ट्रेस के तौर पर तो जानते हैं लेकिन पर्सनल फाइनेंस की दुनिया में भी उन्होंने दर्शकों से एक नया नाता जोड़ लिया है।


गेट रिच विद आश्का में आज आश्का के साथ हैं वड़ोदरा के रघुवीर सिंह परमार जो नौकरी पेशा हैं और एक फार्मा कंपनी में पिछले 6 साल से काम कर रहे हैं। रघुवीर के परिवार में माता-पिता, पत्नी और 1 साल का बेटा है। इनकी प्रति माह 42 हजार रुपये कमाई है जिसमें से 35 हजार हाथ में आते हैं। इनका 15000 महेने का खर्च है। इनके माता-पिता हैं आत्मनिर्भर हैं।


रघुवीर की फाइनेंशियल सेहत की बात करें तो इमरजेंसी फंड के रूप में लिक्विड फंड में 90 हजार रुपये जमा हैं। एलआईसी का 50 लाख रुपये का टर्म प्लान है। 3.5 लाख का टर्म कवर कंपनी से मिला है।


रघुवीर को 17 साल बाद बच्चे की पढ़ाई के लिए 30 लाख की जरूरत है। 5 साल में 30 लाख का घर खरीदने का इरादा है। रघुवीर डाउन पेमेंट के साथ होम लोन की मदद से घर लेंगे। रघुवीर का तीसरा लक्ष्य है रिटायरमेंट के लिए 1 करोड़ रुपये की राशि जुटाना। हर साल परिवार के साथ छुट्टियां मनाना भी इनका लक्ष्य है।


रघुवीर को आश्का की सलाह है कि इमरजेंसी फंड को 90 हजार से बढ़ाकर 1.5 लाख रुपये करें। परिवार में छोटा बच्चा होने से ज्यादा इमरजेंसी फंड रखना बेहतर रहेगा। अलग से 3 लाख रुपये का हेल्थ इंश्योरेंस लें। महंगाई दर को ध्यान में रखकर समय-समय पर इंश्योरेंस कवर बढ़ाएं। रघुवीर के पास बेटे की पढ़ाई का गोल पूरा करने के लिए लंबा समय है। मौजूदा हालात में हर साल परिवार के साथ छुट्टी मनाना लक्ष्य नहीं एक सपना है। फाइनेंशियल सेहत को देखते हुए रघुवीर के लिए छुट्टी पर हर साल 1 लाख खर्च करना नामुमकिन है।


रघुवीर रिटायरमेंट के लिए प्रति माह 4-5 हजार की एसआईपी करें, 25 साल बाद इससे 1 करोड़ रुपये मिलेंगे। बढ़ती आमदनी के साथ निवेश की रकम भी बढ़ाएं। समय-समय पर टर्म प्लान का कवर बढ़ाएं। पैसे होने पर एजूकेशन लोन को चुकता करें, ब्याज चुकाने से बेहतर कर्ज मुक्त हों। लाइफ कवर में ट्रेडिशनल पॉलिसी नहीं टर्म प्लान लें।