Moneycontrol » समाचार » फाइनेंशियल प्लानिंग

महीने के आखिर तक खाली हो जाती है जेब? इन टिप्स की मदद से बचेंगे पैसे

अपनी फाइनेंशियल पर्सनैलिटी में बदलाव करके आप मंथ-एंड मनी क्रंच से बच सकते हैं, साथ ही बचत भी कर सकते हैं।
अपडेटेड Jul 15, 2019 पर 15:04  |  स्रोत : Moneycontrol.com

नौकरी कर रहे अधिकतर युवाओं की एक समस्या होती है। महीना खत्म होते-होते पैसे खत्म हो जाना। फाइनेंस मैनेज न कर पाना आजकल के युवाओं की सबसे बड़ी समस्या है और इसके लिए उनकी आदतें ही जिम्मेदार हैं।


अपनी फाइनेंशियल पर्सनैलिटी में बदलाव करके आप मंथ-एंड मनी क्रंच से बच सकते हैं, साथ ही बचत भी कर सकते हैं।


खर्चों को मॉनिटर करें


सबसे पहली बात। पैसे मेहनत से आ रहे हैं तो उसकी कीमत समझिए। अपने खर्चों का हिसाब रखिए। बजट बनाने से काफी मदद मिलती है लेकिन बजट इधर-उधर भी हो सकता है इसलिए जरूरी है कि खर्चों का हिसाब रखा जाए। इसके लिए हर वक्त कॉपी पेन ढूंढने की जरूरत भी नहीं। अब इसके लिए कई ऐप्लीकेशन आ गए हैं, जो आपके लिए आपके खर्चों का हिसाब रखेंगे। साथ ही आपको गैर-जरूरी खर्च करने से भी बचाएंगे।


फालतू के खर्चों में कमी लाएं


बाहर खाना, दोस्तों के साथ कैफै या बार जाना ऐसी एक्टिविटीज हैं, जिनमें बहुत गैरजरूरी खर्चा हो जाता है। इन आदतों में कटौती करें। बड़े शहरों में रह रहे युवाओं को आदतन या मजबूरी के चलते बाहर खाना खाने की आदत हो जाती है लेकिन ये ऐसा खर्च है, जिससे बचा जा सकता है।


कम्यूट का तरीका बदलें


कम्यूट का खर्च ऐसा होता है जो टुकड़ों-टुकड़ों में ज्यादा खर्च होता है लेकिन आपको दिखाई नहीं देता। पब्लिक ट्रांसपोर्टेशन अपनाने से काफी बचत होती है। आराम और कई ऑनलाइन राइड सर्विसेज आ जाने के बाद हम आमतौर पर प्राइवेट राइड का इस्तेमाल करते हैं लेकिन इस तरीके से हम ज्यादा खर्च करते हैं। डिस्काउंट और कैशबैक ऑफर्स भी बहुत फायदा नहीं देते इसलिए पब्लिक ट्रांसपोर्ट काफी हद तक सेविंग्स में मदद करता है।


निवेश करें


SIP Systematic Investment Plan में निवेश करना युवाओं के लिए सेविंग्स करने का बहुत अच्छा विकल्प माना जाता है। एसआईपी में इन्वेस्ट करने के लिए बहुत सारे ऐप्स हैं जो आपको सही गाइडेंस दे सकते हैं। आप छोटे अमाउंट से भी एसआईपी करना शुरू कर सकते हैं। इससे आप सेविंग्स तो कर ही रहे होते हैं, भविष्य के लिए पूंजी भी जोड़ रहे होते हैं।