Moneycontrol » समाचार » फाइनेंशियल प्लानिंग

चुनावों में भूलकर भी निवेश की ये गलती ना करें

ये कुछ ऐसी गलतियां हैं जो आम निवेशक करते हैं और फिर नुकसान उठाते हैं
अपडेटेड Apr 22, 2019 पर 14:38  |  स्रोत : Moneycontrol.com

लोकसभा चुनावों के दौरान बाजार में उतार-चढ़ाव बना रहता है। बाजार की अगली चाल कैसी रहेगी, चुनाव के नतीजों से ही यह तय होगा। बाजार के इस उतार चढ़ाव के बीच कई निवेशक गलत फैसले ले लेते हैं। कई बार ऐसा देखा गया है कि निवेशक छोटी-छोटी चीजों को लेकर ज्यादा परेशान होते हैं और किसी बड़े मुद्दे पर ध्यान नहीं दे पाते हैं। हम यहां कुछ ऐसी गलतियों के बारे में बता रहे हैं जो आम निवेशक चुनाव के दौरान कर बैठते हैं। 


पैनिक सेलिंग से बचें


घबराहट में कोई शेयर बेचना सबसे गलत आदत है। निवेश पर सबसे ज्यादा असर निवेशकों की गलत आदतों का पड़ता है। ऐसे कई मौके आते हैं जब निवेशक भावनाओं में बहकर गलत फैसला कर बैठता है। मसलन, जैसे ही कोई आम निवेशक म्यूचुअल फंड में गिरावट की खबर सुनता है तुरंत अपने निवेश से निकल जाता है। मामूली गिरावट में निवेश से निकलना ठीक नहीं है। जब किसी खबर की वजह से कोई बहुत बड़ा फाइनेंशियल उलटफेर आने की आशंका हो तभी शेयर या म्यूचुअल फंड बेचना चाहिए।


मार्केट के पकड़ने की कोशिश करना


इस बारे में एक कहावत है। बाजार की चाल के बारे में सिर्फ दो लोग जानते हैं। पहला भगवान और दूसरा झूठा। यानी अगर कोई बाजार की चाल को पकड़ने का दावा करता है तो मान लीजिए कि वह झूठ बोल रहा है। कोई भी निवेशक शेयरों को सबसे निचले स्तर पर खरीदकर सबसे ऊपरी स्तर पर नहीं बेच सकता। लिहाजा शेयर चुनते हुए हमेशा शेयरों की क्वालिटी पर फोकस करना चाहिए।


चुनाव का असर


बाजार पर चुनाव के नतीजों को लेकर हमेशा ही अनिश्चितता बनी रहती है। यह माहौल तब तक ऐसा रहता है जब तक चुनाव के नतीजे ना आ जाएं। लोकसभा चुनावों के बाद बाजार स्टेबल होगा। कोई भी सरकार आए GDP 6 फीसदी पर बनी रहेगी। गुड गवर्नेंस से बाजार में तेजी आ सकती है। साथ ही भारत अभी भी सबसे तेजी से बढ़ने वाली अर्थव्यवस्था है। लिहाजा मार्केट पर चुनाव का बहुत ज्यादा असर नहीं होगा।


शेयरों में निवेश को FD से तुलना ना करें 
 
कभी भी शेयरों में निवेश की तुलना FD से नहीं करना चाहिए क्योंकि दोनों का रिटर्न और रिस्क अलग होता है। पिछले एक साल में जब बाजार में गिरावट आई थी तब लोगों ने स्टॉक मार्केट से पैसा निकालकर FD में ब्लॉक कर दिया। हमेशा यह ध्यान रखें कि बाजार की गिरावट आपको खरीदने का मौका देती है। यही वो मौका होता है जब आप लाइफ टाइम पोर्फफोलियो बना सकते हैं। अगर आपके पास बाजार को समझने का वक्त नहीं है तो बिना सोचे-समझे निवेश ना करें। बेहतर होगा किसी एक्सपर्ट की मदद ले लें।