पहला कदम: जाने अलग-अलग एसेट क्लास की एबीसी -
Moneycontrol » समाचार » फाइनेंशियल प्लानिंग

पहला कदम: जाने अलग-अलग एसेट क्लास की एबीसी

प्रकाशित Sat, 04, 2018 पर 16:05  |  स्रोत : CNBC-Awaaz

पहला कदम सीजन- 4 के पहले एपिसोड्स में आपका तहेदिल से स्वागत है। पहला कदम अपने सफर के 3 साल कामयाबी के साथ पूरे कर चुका है। इस दौरान आप सबका प्यार और समर्थन भरपूर मिला। सीएनबीसी-आवाज़ ने भी आपकी उम्मीदों पर खरा उतरने की पूरी कोशिश की। पिछले 3 साल में हमने बचत, टैक्स और निवेश से जुड़ी हर बारीकी को सीधी-सरल भाषा में समझाने की कोशिश की। हमने बैंकिंग और फाइनेंस की कठिन शब्दाबली की गांठे खोलकर आपको अपनी बोली में समझाने का प्रयास किया है।


उम्मीद है कि उस कोशिश में हम काफी हद तक सफल भी हुए होंगे। फिर भी अगर कुछ सवाल आपके जेहन में रह जाते हैं तो आप हमें हमारे फेसबुक पेज,ट्टिवटर हैंडल और पहला कदम की वेबसाइट पर जाकर हम तक पहुंचा सकते हैं। पहला कदम सीजन-4 के इस पहले एपिसोड की हम शुरुआत कर रहे हैं अलग-अलग एसेट क्लास से।  एसेट क्लास का क्या मतलब होता है और ये आपके लिए किस तरह फायदेमंद हो सकते हैं। यहां इसी पर चर्चा करेंगे। बतौर एक्सपर्ट सीएनबीसी-आवाज़ के साथ हैं एसबीआई म्यूचुअल फंड्स के सीनियर वाइस प्रेसिडेंट रजत चट्टोपाध्याय और रूंगटा सिक्योरिटीज के सीएफपी हर्षवर्धन रूंगटा।


इन जानकारों को मुताबिक एसेट एलोकेशन के जरिए निवेश को सही दिशा दी जाती है। निवेशकों को पारंपरिक तरीके से हटकर निवेश की प्लानिंग करनी चाहिए। इस बात को ध्यान में रखें की बैंक एफडी के मुकाबले डेट फंड बेहतर होते हैं। इक्विटी फंड्स में वंबे नजरिए से निवेश फायदेमंद होता है। एसेट क्लास की बात करें तो इसमें डेट, इक्विटी, कमोडिटी, गोल्ड और रियल एस्टेट आते हैं।


जानकारों का राय है कि लिक्विड फंड में निवेश के कई फायदे हैं। लिक्विड फंड में 1 दिन का निवेश भी मुमकिन है। म्युचुअल फंड निवेश का एक बेहतरीन विकल्प है। म्युचुअल फंड में निवेश की तरफ निवेशकों का रुझान बढ़ा है। निवेशकों को सलाह है कि वे बाजार की गिरावट से घबराएं नहीं, अलग-अलग फंड में निवेश करें और पोर्टफोलियो बना कर ही निवेश करें। निवेशकों को गोल्ड, रियल एस्टेट और कैश मार्केंट में भी निवेश करना चाहिए।