Moneycontrol » समाचार » फाइनेंशियल प्लानिंग

SBI: 1 जनवरी से बदलेगा चेक पेमेंट का तरीका, जानिए आप पर क्या असर होगा

ये नए नियम चेक पेमेंट को सेफ बनाने और बैंक फ्रॉड को रोकने के लिए बनाए गए हैं
अपडेटेड Dec 29, 2020 पर 17:14  |  स्रोत : Moneycontrol.com

भारतीय रिजर्व बैंक (Reserve Bank of India, RBI) ने चेक के भुगतान के लिए पॉजिटिव पे सिस्टम (Positive Pay System) की शुरुआत की है। इसके तहत 50,000 से ऊपर के चेक के लिए जरूरी जानकारी की दोबारा से पुष्टि की जाएगी। चेक भुगतान के नए नियम 1 जनवरी 2021 से लागू होंगे। ये नए नियम चेक पेमेंट को सेफ बनाने और बैंक फ्रॉड को रोकने के लिए बनाए गए हैं। भारतीय स्टेट बैंक (State Bank of India, SBI) पॉजिटिव पे सिस्टम को लागू करने के लिए पूरी तरह तैयार है।


SBI ने एक बयान जारी कर कहा है कि नया चेक भुगतान नियम (New Cheque Payment Rule) 1 जनवरी 2021 से लागू होगा। बैंक ने कहा कि RBI के दिशानिर्देशों के अनुसार, हम अतिरिक्त सुरक्षा सुनिश्चित करने के लिए पॉजिटिव पे सिस्टम को 01/01/2021 से शुरू कर रहे हैं। 1 जनवरी से अब चेक जारी करने वाले व्यक्ति को इलेक्ट्रॉनिक माध्यम से चेक की तारीख, लाभार्थी का नाम, प्राप्तकर्ता और पेमेंट की रकम के बारे में दोबारा जानकारी देनी होगी।


साथ ही पॉजिटिव पे सिस्टम के जरिए चेक की जानकारी SMS, मोबाइल ऐप, इंटरनेट बैंकिंग और ATM के माध्यम से दी जा सकती है। चेक की पेमेंट करने से पहले इन जानकारियों की दोबारा जांच की जाएगी। अगर इसमें कोई गड़बड़ी पाई जाती है तो चेक ट्रंकेशन सिस्टम द्वारा इसे चिन्हित कर ड्राई बैंक (जिस बैंक में चेक पेमेंट होना है) और प्रेजेंटिंग बैंक (जिस बैंक के अकाउंट से चेक जारी हुआ है) को जानकारी दी जाएगी।


RBI ने बताया है कि ऐसी स्थिति में जरूरी कदम उठाया जाएगा। यह नियम 50,000 रुपये और उससे ऊपर के सभी भुगतान मामलों के लिए होगा। RBI के गर्वनर शक्तिकांत दास (RBI Governor Shaktikanta Das) ने अगस्त में ही इस बारे में घोषणा की थी। पॉजिटिव पे सिस्टम (Positive Pay System) के तहत किसी थर्ड पार्टी को चेक जारी करने वाले व्यक्ति को अपने बैंक को भी अपने इस चेक की जानकारी भेजनी होगी।


इस सिस्टम से 50,000 रुपये से ज्यादा के भुगतान वाले चेक को रि-कंफर्म (Re-Confirmation) करना होगा। पॉजिटिव पे सिस्टम के जरिए चेक के क्लियरेंस में भी कम समय लगेगा। इस सुविधा का लाभ उठाने का निर्णय खाताधारक के हाथ में होगा। अगर बैंक चाहे तो 5 लाख और उससे अधिक राशि के चेक के मामले में भी पॉजिटिव पे सिस्टम को अनिवार्य कर सकता है।


सोशल मीडिया अपडेट्स के लिए हमें Facebook (https://www.facebook.com/moneycontrolhindi/) और Twitter (https://twitter.com/MoneycontrolH) पर फॉलो करें।