Moneycontrol » समाचार » फाइनेंशियल प्लानिंग

Systematic Investment Plan क्या है, कैसे ऑनलाइन स्टार्ट कर सकते है एसआईपी और क्या हैं इसके फायदे

एसआईपी प्लान ऐसे लोगों के लिए बेहतर होता है जो लोग शेयर बाजार में सीधे या एकमुश्त निवेश नहीं करना चाहते.
अपडेटेड Feb 20, 2021 पर 08:33  |  स्रोत : Moneycontrol.com

एसआईपी या सिस्टमैटिक इन्वेस्टमेंट प्लान म्युचुअल फंड में निवेश करने का सबसे पॉपुलर तरीका हो गया है। इसके नाम से ही पता चलता है कि इसके तहत आप अपनी पसंद के म्युचुअल फंड में अपनी सुविधा के हिसाब से अलग-अलग किश्तों में एक निश्चित धनराशि जमा कर सकते हैं।


एसआईपी या सिस्टमैटिक इन्वेस्टमेंट प्लान ऐसे लोगों के लिए बेहतर होता है जो लोग शेयर बाजार में सीधे या एकमुश्त निवेश नहीं करना चाहते। आइए हम यहां जानते है कि कैसे ऑनलाइन एसआईपी लिया जा सकता है और इसकी दूसरी अहम बातें क्या हैं।


बता दें बाजार में ऐसी बहुत सी एसआईपी स्कीम है जिनमें निवेशक 500 रुपये से अपना निवेश शुरु कर सकते हैं।


ऐसे करें शुरु करें ऑनलाइन एसआईपी


एसआईपी शुरु करने के लिए आपको पैनकॉर्ड, एड्रेसप्रूफ, पासपोर्ट आकार के फोटोग्रॉफ और चेकबुक की जरुरत होती है। बता दें कि म्युचुअल फंड में निवेश करने के लिए KYC की प्रक्रिया अनिवार्य होती है। ऑनलाइन एसआईपी शुरु करने के लिए आप किसी फंड हाउस के वेबसाइड पर जाकर अपने पसंद की एसपीआई चुन सकते हैं। इसके लिए पहले आपके  KYC के नियम पूरे करने होते हैं।


नए अकाउंट के लिए Register Now लिंक पर जाना होगा। फॉर्म सब्मिट करने के पहले आपको यहां अपनी सभी पर्सनल डिटेल और कॉन्टैक्ट इनफार्मेशन भरने होगें।


ऑनलाइन ट्रांसजैक्शन के लिए आपको एक यूजर नेम और पॉसवर्ड बनाना होगा। इसके अलावा SIP पेमेंट के डेबिट के लिए आपको बैंक अकाउंट डिटेल भी देने होंगे ।उसके बाद आप अपने यूजर नेम के साथ  लॉगइन करने के बाद अपने पसंद की स्कीम चुन सकते है।


रजिस्ट्रेशन कम्प्लीट होने और फंड हाउस से इसका कंन्फर्मेशन भेजने के बाद SIP शुरु हो सकता है। सामान्य तौर एसपीआई 15 से 40 दिन के गैप के बाद शुरु होती है।


एसआईपी के फायदे


एसआईपी इक्विटी या डेट फंड में निवेश शुरु करने वाले ऐसे नए या पुराने निवेशकों के लिए एक बेहतर विकल्प है जो बाजार की जोखिम को कम करना चाहते हैं। इसके जरिए बिना किसी परेशानी के हम बाजार में छोटे एमाउंट और किश्तों में निवेश कर सकते हैं।


इसके तहत फंड हाउस को SI (स्टैंडिंग इंस्ट्रक्शन) देकर बैंक अकाउंट से ऑटो डेबिट की सुविधा भी ले सकते हैं जिससे हर महीने आपके बैंक अकाउंट से अपने आप किश्त की राशि कट जाएगी।


एसआईपी में आपको कम्पाउंडिग (चक्रवृद्धि ब्याज) का फायदा मिलता है यानी अगर आप किसी म्युचुअल फंड में  1000 रुपये , 10 फीसदी के रिटर्न रेट पर निवेश करते हैं तो एक साल में आपके द्वारा कमाया हुआ ब्याज 100 रुपये होगा। तो अगले साल आपकी ब्याज की कमाई 1100 रुपये के आधार पर होगी।




सोशल मीडिया अपडेट्स के लिए हमें Facebook (https://www.facebook.com/moneycontrolhindi/) और Twitter (https://twitter.com/MoneycontrolH) पर फॉलो करें।