Moneycontrol » समाचार » फाइनेंशियल प्लानिंग

इंश्योरेंस क्यों जरूरी, ULIP और इंश्योरेंस में बेहतर कौन

प्रकाशित Wed, 26, 2019 पर 12:49  |  स्रोत : CNBC-Awaaz

योर मनी पर इस बार सीएनबीसी-आवाज़ इंश्योरेंस के विभिन्न पहलुओं पर प्रकाश डाल रहा है। कौन-कौन से इंश्योरेंस लेने चाहिए। इंश्योरंस के क्या-क्या फायदे हैं कितना इंश्योरेंस लेना है। कितनी अवधि तक लेना है। इन सब बातों से योर मनी आपको अवगत करायेगा।


इंश्योरेंस लेने के आसान टिप्स के तहत ऐसा करें


अपनी जरूरतों के हिसाब से इंश्योरेंस लें। परिवार के खर्चों का हिसाब रखें। डेट बैलेंस को भी जोड़ें। बच्चों की पढ़ाई के लिए कितनी राशि की जरूरत इसका हिसाब लगाएं। मौजूदा आय के स्रोत का आकलन करें। इंश्योरेंस की राशि के लिए प्लानिंग करें। रिटायरमेंट के बाद की जरूरतों की लिस्ट बनाएं। पॉलिसी प्रोवाइडर का स्टैंडर्ड, गुडविल चैक करें।


कैसे चुनें सही हेल्थ इंश्योरेंस?


बजट और जीवनशैली के हिसाब से हेल्थ इंश्योरेंस चुनें। निजी हेल्थ इंश्योरेंस और फैमिली फ्लोटर में बेहतर विकल्प चुनें। फैमिली फ्लोटर कवर सस्ता होता है। प्राइवेट इंश्योरेंस कंपनियों पर कैपिंग नहीं होती है। सोच-समझकर इंश्योरेंस पॉलिसी खरीदें। इंश्योरेंस पॉलिसी के डॉक्यूमेंट को ध्यान से पढ़ें।


जरूरी मेडिकल कवर चुनें


महंगाई के हिसाब से मेडिकल कवर चुनें। अपना मेडिकल कवर ध्यान से चुनें। भविष्य के खर्चों को ध्यान में रखकर कवर लें।
इंश्योरेंस की बारीकियों जानें को-पेमेंट प्लान और सब लिमिट पर ध्यान दें। ध्यान रखें कि को-पेमेंट का भुगतान खुद करना होता है। बाकी के क्लेम का भुगतान कंपनी करती है। कुछ बीमारियों पर सब लिमिट लागू होती है। कंपनी सब लिमिट में मेडिकल खर्च तय कर देती है। कंपनी और थर्ड पार्टी क्लेम पर ध्यान दें। थर्ड पार्टी क्लेम वाले विकल्प में पेमेंट में देर हो सकती है।


होम इंश्योरेंस में क्या-क्या कवर होता है


होम इंश्योरेंस में आग, भूकंप, आंधी, बाढ़, चोरी और आतंकवादी हमले (विकल्प) कवर होते हैं।


होम इंश्योरेंस की बारीकियां


होम इंश्योरेंस में घर के ढांचे का कवर लिया जा सकता है। घर के सामान का कवर होता है। 1 साल से 15 साल तक का इंश्योरेंस लिया जा सकता है। लंबी अवधि के इंश्योरेंस ज्यादा किफायती होते हैं। कम से कम 5 साल का इंश्योरेंस लेना चाहिए।


घर के ढांचे का कवर


घर के ढांचे का कवर लेने पर मार्केट वैल्यू के हिसाब से कवर नहीं मिलता है। रीकंस्ट्रकशन वैल्यू के आधार पर कवर मिलता है। दोबारा घर बनाने के खर्च का कवर मिल पाता है। बिल्ट-अप एरिया और कंस्ट्रक्शन रेट के आधार पर कवर मिल सकता है।


घर के सामान का कवर


फर्नीचर, ड्यूरेबल्स, कपड़े, गहने, बर्तन पर कवल मिल सकता है। मार्केट वैल्यू के हिसाब से कवर मिलता है। 50 लाख तक के फर्नीचर के लिए कवर उपलब्ध है। 5 साल के लिए इलेक्ट्रिक आइटम का कवर ले सकते हैं। 5 साल के लिए 12,000 प्रीमियम भरना होगा।


होम इंश्योरेंस की कंपनी


होम इंश्योरेंस देनेवाली कंपनियों में L&T इंश्योरेंस, HDFC ERGO, Bajaj Allianz, The New India Assurance, ICICI Lombard आदि शामिल हैं।