Moneycontrol » समाचार » फाइनेंशियल प्लानिंग

योर मनी: नए वित्त वर्ष के लिए निवेश के गुरुमंत्र

नए साल के लिए निवेश के गुरूमंत्र बताते हुए निखिल कोठारी ने कहा कि अपनी टैक्स प्लानिंग अभी से करें शुरू करें।
अपडेटेड Apr 05, 2016 पर 12:20  |  स्रोत : CNBC-Awaaz

योर मनी की हर दम यही कोशिश होती है के आपके निवेश को सही दिशा दी जाए, ताकी आपको हो ज्यादा से ज्यादा फायदा। यहां एटिका वेल्थ मैनेजमेंट के निखिल कोठारी आपके निवेश से जुड़े सवालों के जवाब के साथ ही दे रहे हैं नए वित्त वर्ष में फाइनेंशियल प्लानिंग के गुरूमंत्र।


2016-17 के लिए निवेश के 5 गुरूमंत्र बताते हुए निखिल कोठारी ने कहा कि अपनी टैक्स प्लानिंग अभी से करें शुरू करें। रिटर्न फाइल करने के लिए तैयारी  भी शुरू करें। अपने पोर्टफोलियो को व्यवस्थित करते हुए अपने निवेश को बढ़ाएं और टीडीएस से बचने के लिए फॉर्म 15 जी और 15 एच भरें।


निखिल कोठारी के मुताबिक साल के शुरुआत में ही टैक्स प्लानिंग करना बेहतर होता है। ईएलएसएस में साल के शुरुआत में निवेश करने से ज्यादा फायदा होता है। तमाम रिसर्च से यो भी पता चलता है कि साल के शुरुआत में एसआईपी करने से ज्यादा फायदा मिलता है। हर महीने निवेश करने से साल के अंत में बोझ नहीं पड़ता। हर महीने निवेश करने से उतार-चढ़ाव का असर भी कम होता हो।


निखिल कोठारी ने कहा कि टैक्स रिटर्न भरने की डेडलाइन में अभी 3 महीने है। टैक्स रिटर्न भरते के लिए अभी से दस्तावेज जुटाना शुरु कर दें। अगर आपको विदेश से आय हुई है तो जल्द दस्तावेज जुटाना बेहतर रहता है। आईटी विभाग इस साल ब्याज आय की गहराई से जांच करेगा। सभी तरह की ब्याज आय रिटर्न में भरें। अगर आपने होम या एजूकेशन लोन ले रखा है तो बैंक से सर्टिफिकेट ले लें। सर्टिफिकेट से सेक्शन 24 और 80 ई के तहत मिलने वाली छूट का पता लगाना आसान होगा।


निखिल कोठारी के मुताबिक बेहतर रिटर्न के लिए निवेश का ठीक तरह से अलोकेशन जरूरी होता है। अपने सभी निवेश की जानकारी एक जगह जुटाएं। अपने पोर्टफोलियो की जांच के लिए ट्रैकर का इस्तेमाल करें। सैलरी बढ़ने के साथ ही अपने निवेश को बढ़ाते जाएं।


वीडियो देखें