Moneycontrol » समाचार » फाइनेंशियल प्लानिंग

बजट में इन शब्दावलियों पर रखें नजर, निवेश निर्णय में होगी आसानी

प्रकाशित Fri, 05, 2019 पर 14:53  |  स्रोत : CNBC-Awaaz

आज भारत सरकार का बजट आया है। लेकिन बजट में आपको किन एलानों पर नजर रखनी चाहिए, योर मनी पर आज हमारे साथ करिए बजट की तैयारी। इसके अलावा हम बताएंगे कि आपके निवेश पोर्टफोलियो में सही संतुलन कैसे हो। आपके निवेश से जुड़े सवालों का जवाब देनें के लिए हमारे साथ हैं। फाइनेंशियल प्लानर अर्णव पंड्या।


बजट में बेसिक एग्जम्पशन लिमिट, टैक्स स्लैब में बदलाव, सरचार्ज लगना/हटना, सेस लगना/हटना, 80C में बदलाव, चुनिंदा निवेश पर फायदा, पेंशन बेनेफिट, कैपिटल गेन टैक्स, सरकारी कर्ज, बुजुर्गों, महिलाओं के लिए एलान पर नजर रखें।


बेसिक एग्जम्पशन लिमिट


इसमें वो आय आती है जिस पर कोई टैक्स नहीं लगता। अगर लिमिट बढ़ी तो टैक्स कम लगेगा।


टैक्स स्लैब में बदलाव


इससे ये पता चलता है कि कितने इनकम पर कितना टैक्स लगेगा। स्लैब में बदलाव से टैक्स में बदलाव होता है।


सरचार्ज


खास श्रेणियों पर सरचार्ज लगता है। देखें आपकी श्रेणी के लिए क्या सरचार्ज लगता है।


सेस


टैक्स के आधार पर सेस की गणना की जाती है। सेस लगने से टैक्स का भार बढ़ेगा।


80C में बदलाव


80C से टैक्स बचत की सीमा तय होती है। निवेश की राशि और विकल्प के लिए इसे देखें।


चुनिंदा निवेश पर फायदा


बजट में चुनिंदा निवेश एलानों पर नजर रखें। जैसे कि पहला घर खरीदने पर छूट।


पेंशन बेनेफिट


इसमें पेंशन निवेश पर नए फायदों का एलान होता है। इससे लंबी अवधि की प्लानिंग में सहायता मिलती है।


कैपिटल गेन टैक्स


इसके रेट में बदलाव हो सकता है। निवेश के लिहाज से ये अहम एलान होता है।


सरकारी कर्ज


सरकारी कर्ज बढ़ने से डेट मार्केट, यील्ड पर असर होता है। इसका डेट इंवेस्टमेंट के आउटकम पर असर होगा।


बुजुर्गों, महलाओं के लिए एलान


इसमें सीनियर सिटीजन, महिलाओं के लिए एलान होता है। इन वर्गों को ही इनका फायदा मिलेगा।