Moneycontrol » समाचार » विदेश

UAE के बाद IMF ने आर्थिक मोर्चे पर दिया पाकिस्तान को झटका, कर्ज देने से कर सकता है इनकार

आईएमएफ ने पाकिस्तान को जोरदार झटका दिया है उसने कहा कि वह पाकिस्तान को अल्पकालिक ऋण देने पर रोक लगा सकता है।
अपडेटेड Sep 24, 2020 पर 17:38  |  स्रोत : Moneycontrol.com

विदेशों के कर्ज हासिल करने के मुद्दे पर पाकिस्तान की मुश्किलें लगातार बढ़ती जा रही हैं। इमरान खान द्वारा अपने स्तर पर विदेशी मुल्कों से अच्छे संबंध बनाकर उनके कर्ज प्राप्त करने की कोशिशें जारी हैं लेकिन एक के बाद एक देश कर्ज देने के मामले में उसका साथ छोड़ते नजर आ रहे हैं। अभी हाल ही में संयुक्त अरब अमीरात (UAE) ने पाकिस्तान को कर्ज देने से इनकार कर दिया था अब खबरें आ रही है कि अंतरराष्ट्रीय मुद्रा कोष  (IMF) द्वारा  भी उसको कर्ज देने के फैसले पर रोक लगाई जा सकती है।


न्यूज 18 की खबर के अनुसार आईएमएफ ने पाकिस्तान को जोरदार झटका दिया है उसने कहा कि वह पाकिस्तान को अल्पकालिक ऋण देने पर रोक लगा सकता है। पहले से ही कोरोना की वजह से आर्थिक संकट से जूझ रहे पाकिस्तान की हालत आईएमएफ का इस रुख के कारण और पतली हो सकती है क्योंकि पाकिस्तान को आगामी वित्त वर्ष के लिए एक लाख करोड़ रुपये की जरूरत होगी।


हमेशा की तरह पाकिस्तान इस तरह के कर्जों से बजट संबंधी अनिवार्य प्रावधानों के लिए धन जुटा लेता था और इस साल उसे पिछले वर्ष के बजट की अपेक्षा करीब 1.5 प्रतिशत ज्यादा राशि की आवश्यकता होगा हालांकि पाकिस्तान के लिए यह राशि वर्तमान कर ढांचे में जुटा पाना मुश्किल दिखाई दे रहा है।


IMF के अनुमान के मुताबिक पाकिस्तान के वित्त मंत्रालय ने साफ कर दिया है कि देश को उसकी आवश्यकताओं की पूर्ति करने के लिए अल्प अवधि और मध्यम अवधि के कर्ज की आवश्यकता पड़ेगी। जिसके बिना सुचारू रूप से सरकार का काम काज नहीं चल पायेगा। लेकिन सऊदी अरब, यूएई और चीन से बड़े पैमाने पर पिछले कुछ वर्षों में कर्ज  लेने के कारण आने वाले समय में पाकिस्तान कर्ज मिलना मुश्किल हो जाएगा।


इकोनॉमिक एक्सपर्ट के मुताबिक पाकिस्तान में वैसे ही आय कर भरने वालों की संख्या बहुत कम है और दूसरी तरफ पिछले 7 महीनों में वसूली भी बराबर नहीं हो पाई है। कोरोना के कारण संस्थान बंद रहने की वजह से आयकर भरने या वसूलने की प्रक्रिया बुरी तरह प्रभावित हुई है। इससे लगता है आने वाले समय पाकिस्तान को आर्थिक परेशानी का सामना करना पड़ सकता है।


सोशल मीडिया अपडेट्स के लिए हमें Facebook (https://www.facebook.com/moneycontrolhindi/) और Twitter (https://twitter.com/MoneycontrolH) पर फॉलो करें।