Moneycontrol » समाचार » विदेश

अमेरिका के नवनिर्वाचित राष्ट्रपति बाइडेन ने की 5 लाख भारतीयों को नागरिकता देने की शुरुआत

बाइडेन ने प्रवासियों को सुकुन देने वाले एक कार्यकारी आदेश पर भी दस्तखत किया है। इस आदेश से 1.1 करोड़ ऐसे प्रवासियों को फायदा होगा जिनके पास कोई कानूनी दस्‍तावेज नहीं है
अपडेटेड Jan 21, 2021 पर 14:22  |  स्रोत : Moneycontrol.com

अमेरिका के नवनिर्वाचित राष्‍ट्रपति जो बाइडेन ताजपोशी के साथ ही ऐक्‍शन में नजर आ रहे हैं। अपने पूर्ववर्ती डोनाल्‍ड ट्रंप के कई आदेशों को बाइडन ने पलट दिया है। इस बीच बाइडेन ने प्रवासियों को सुकुन देने वाले एक कार्यकारी आदेश पर भी दस्तखत किया है। इस आदेश से 1.1 करोड़ ऐसे प्रवासियों को फायदा होगा जिनके पास कोई कानूनी दस्‍तावेज नहीं है। इसमें करीब 5 लाख लोग भारतीय हैं। इस तरह बाइडन ने भारतीय मूल के लोगों को नागरिकता प्राप्त करने का मार्ग सुलभ बना दिया है।


इस आदेश पर दस्तखत करना एक ऐसा कदम है जिससे अमेरिका में बिना कानूनी मान्यता के रह रहे 1 करोड़ 10 लाख लोगों को वहां की नागरिकता मिलने का रास्ता साफ हो जाएगा। इस 1 करोड़ 10 लाख लोगों  में बड़ी संख्या में भारतीय भी हैं जिनकी संख्या करीब 5 लाख के आस-पास है जिनके पास कानूनी दस्तावेज नहीं हैं।


अमेरिकी राष्ट्रपति जो बाइडेन ने शपथ लेने के बाद सबसे पहले आव्रजन प्रणाली को पूरी तरह से फेर-बदल करना शुरू किया है। उन्‍होंने अपने आदेशों के तहत कई ऐसे दस्‍तावेजों पर हस्‍ताक्षर किए जो ट्रंप की विवादास्‍पद आव्रजन नीतियों को पलटने वाले हैं। जो बाइडन ने अमेरिकी कांग्रेस से अनुरोध किया है कि वह 1.1 करोड़ अवैध प्रवासियों को स्‍थायी दर्जा और उन्‍हें नागरिकता मिलना आसान बनाने के लिए कानून बनाए।


बता दें कि राष्ट्रपति पद के चुनाव के दौरान प्रचार करते समय डेमोक्रेटिक उम्मीदवार के तौर पर बाइडन ने आव्रजन पर ट्रंप नीतियों को अमेरिकी मूल्यों पर कठोर प्रहार करार दिया था। ट्रंप की नीतियों से ऐसे 1.1 करोड़ अवैध लोगों को अमेरिका से बाहर भेजे जाने का खतरा मंडराने लगा था। अब जानकारी मिल रही है कि इस बारे में अब विधेयक भी लाया जा सकता है। यदि ये विधेयक लाया गया तो यह आव्रजन विधेयक ट्रंप प्रशासन की कठोर आव्रजन नीतियों के खिलाफ होगा। 


सोशल मीडिया अपडेट्स के लिए हमें Facebook (https://www.facebook.com/moneycontrolhindi/) और Twitter (https://twitter.com/MoneycontrolH) पर फॉलो करें।