Moneycontrol » समाचार » विदेश

दक्षिण अफ्रीका ने Covid-19 के सबसे खतरनाक स्ट्रेन के ब्रिटेन के दावे को नकारा, कहा- UK जैसा खतरनाक नहीं

दक्षिण अफ्रीका ने ब्रिटेन के उस दावे का खंडन किया है कि उसके यहां मिला कोविड-19 का नया स्ट्रेन ब्रिटेन में मिले स्ट्रेन से ज्यादा खतरनाक है
अपडेटेड Dec 26, 2020 पर 08:25  |  स्रोत : Moneycontrol.com

ब्रिटेन के स्वास्थ्य मंत्री मैट हैंकॉक ने बुधवार को दावा किया था कि दक्षिण अफ्रीका में सामने आया कोविड-19 (Covid-19) का नए स्वरूप (Strain) ब्रिटेन में मिले कोरोना के स्ट्रेन से ज्यादा संक्रामक और खतरनाक है। अब दक्षिण अफ्रीका ने ब्रिटेन के इस दावे का खंडन किया और कहा कि उसके यहां कोविड-19 का नया स्ट्रेन ब्रिटेन में मिले स्ट्रेन जितना खतरनाक नहीं है। आपको बता दें कि ब्रेटेन के स्वास्थ्य मंत्री मैट हैंकॉक ने कहा था कि वायरस के नए स्वरूप का सामने आना बहुत चिंताजनक है, क्योंकि यह बहुत तेजी से संक्रमण फैलाता है और ब्रिटेन में मिले नए स्वरूप के अलावा भी दक्षिण अफ्रीका से आए लोगों में मिले स्ट्रेन में बदलाव पाया गया है जो ज्यादा खतरनाक है।

इसके बाद ब्रिटेन ने दक्षिण अफ्रीका की यात्रा पर तुरंत प्रतिबंध लगा दिया था और वहां से आए लोगों को सेल्फ आइसोलेशन में जाने को कहा था। इस पर दक्षिण अफ्रीका के स्वास्थ्य मंत्री जेल्विनी मखिजे ने गुरुवार देर रात प्रकाशित एक बयान में कहा, वर्तमान में, ऐसे कोई सबूत नहीं मिले हैं कि 501.V2 ब्रिटेन में फैले कोविड-19 स्ट्रेन की तुलना में अधिक संक्रामक है, जैसा कि ब्रिटिश स्वास्थ्य मंत्री ने दावा किया है। मखिजे ने कहा कि ब्रिटिश मंत्री के शब्दों से यह धारणा बन गई है कि दक्षिण अफ्रीका का कोरोना वायरस स्ट्रेन, ब्रिटेन में दूसरी लहर के संक्रमण का प्रमुख कारण है। उन्होंने कहा कि यह बात बिल्कुल गलत है।

यात्रा प्रतिबंध लगाना दुर्भाग्यपूर्ण

उन्होंने सबूतों की ओर इशारा करते हुए कहा कि ब्रिटिश स्ट्रेन जो दक्षिण अफ्रीकी कोरोना वायरस वैरिएंट के समान है, ब्रिटेन के दक्षिण-पूर्वी काउंटी केंट में सितंबर के शुरू में ही दिखाई दिया था। जबकि, दक्षिण अफ्रीकी वैरिएंट एक महीने बाद विकसित हुआ है। उन्होंने कहा कि इस आधार पर दोनों देशों के बीच लगाया गया यात्रा प्रतिबंध दुर्भाग्यपूर्ण हैं। आपको बता दें कि ब्रिटेन के वैज्ञानिक दक्षिण पूर्व इंर्लैंड में एक प्रयोगशाला में वायरस के नए स्वरूप की जांच कर रहे हैं।

सोशल मीडिया अपडेट्स के लिए हमें Facebook (https://www.facebook.com/moneycontrolhindi/) और Twitter (https://twitter.com/MoneycontrolH) पर फॉलो करें।