Moneycontrol » समाचार » विदेश

वैक्सीन सर्टिफिकेशन के लिए इंटरनेशनल स्टैंडर्ड्स तय करने की जरूरतः पूनावाला

ब्रिटेन के भारत, तुर्की और कुछ अन्य देशों में वैक्सीन लगवा चुके लोगों को बिना वैक्सीन के मानने पर विवाद है
अपडेटेड Sep 20, 2021 पर 21:33  |  स्रोत : Moneycontrol.com

कोरोना वैक्सीन से बचाव के लिए कोवशील्ड वैक्सीन बना रही सीरम इंस्टीट्यूट (SII) के CEO अदार पूनावाला ने सोमवार को कहा कि वैक्सीन के लिए सर्टिफिकेशन के इंटरनेशनल स्टैंडर्ड्स जल्द तय करने की जरूरत है। ब्रिटेन के वैक्सीन लगवा चुके भारतीयों के क्वारनटाइन नियमों को सख्त करने से यह मुद्दा उठा है।


पूनावाला ने कहा कि उन्हें यह देखकर हैरानी हो रही है कि वैक्सीन ट्रायल और ट्रैवल पासपोर्ट के लिए स्टैंडर्ड्स बनाने में देशों को एक साथ आने में क्यों मुश्किल  हो रही है।


टाटा स्टील, जिंदल स्टील, हिंडाल्को में बड़ी गिरावट, निफ्टी मेटल इंडेक्स 6 प्रतिशत से अधिक नीचे


पूर्व केंद्रीय मंत्रियों जयराम रमेश और शशि थरूर ने वैक्सीन लगवा चुके भारतीयों के साथ ब्रिटेन में आने पर वैक्सीन नहीं लगवाने वाले लोगों जैसा व्यवहार करने पर ब्रिटेन की निंदा की थी।


ब्रिटेन सरकार के ऑर्डर के अनुसार, संयुक्त अरब अमीरात, तुर्की, जॉर्डन, भारत, रूस, अफ्रीकी देशों और दक्षिण अमेरिकी देशों में वैक्सीन लगवा चुके लोगों को ब्रिटेन में बिना वैक्सीन लगवाए लोगों की तरह माना जाएगा और उन्हें 10 दिनों के लिए क्वारनटाइन रहना होगा।


हालांकि, ब्रिटेन ने उसके देश में बनी एस्ट्राजेनेका की वैक्सीन का इस्तेमाल कर रहे ऑस्ट्रेलिया, बहरीन, इजरायल, सऊदी अरब, सिंगापुर और दक्षिण कोरिया जैसे देशों को इस नियम से छूट दी है।


पूनावाला ने CNBC TV 18 से कहा, "कोविशील्ड और एस्ट्राजेनेका वैक्सीन लगभग समान हैं और इसका डेटा ब्रिटेन और यूरोपियन यूनियन के रेगुलेटर्स को दिया गया है। इन रेगुलेटर्स से मैंने व्यक्तिगत तौर पर बात की है और इनकी ओर से जल्द उत्तर मिल सकता है। पश्चिमी देशों को वैक्सीन सर्टिफिकेशन सिस्टम को लेकर मुश्किल हो रही है।"


सोशल मीडिया अपडेट्स के लिए हमें Facebook (https://www.facebook.com/moneycontrolhindi/) और Twitter (https://twitter.com/MoneycontrolH) पर फॉलो करें।