Moneycontrol » समाचार » विदेश

LoC Ceasefire: बातचीत के लिए सही माहौल बनाना भारत की जिम्मेदारी, ये कहते हुए इमरान ने फिर अलापा कश्मीर राग

इमरान खान ने आगे कहा कि पाकिस्तान बातचीत के जरिए सभी बचे हुए दूसरे मुद्दों को हल करने के लिए आगे बढ़ने को तैयार है
अपडेटेड Feb 27, 2021 पर 15:14  |  स्रोत : Moneycontrol.com

साल 2003 के युद्धविराम (Ceasefire) की स्थिति पर वापस लौटने की भारत और पाकिस्तान की आश्चर्यजनक घोषणा के बाद, पाकिस्तान के प्रधान मंत्री इमरान खान (Imran Khan) ने शनिवार को कहा कि द्विपक्षीय संबंधों में "आगे बढ़ने के लिए सक्षम वातावरण" बनाना भारत पर निर्भर करता है। बालाकोट एयरस्ट्राइक (Balakot Airstrike) की दूसरी वर्षगांठ पर इमरना खान ने ट्वीट कर कहा कि भारत को कश्मीरी लोगों के अधिकार को पूरा करने के लिए कदम उठाने चाहिए।


इमरान खान ने आगे कहा कि पाकिस्तान "बातचीत के जरिए सभी बचे हुए दूसरे मुद्दों" को हल करने के लिए आगे बढ़ने के लिए तैयार है। खान ने ट्वीट किया, "मैं नियंत्रण रेखा पर संघर्ष विराम की बहाली का स्वागत करता हूं। आगे की प्रगति के लिए एक सक्षम वातावरण बनाने का आधार भारत के साथ है।"


उन्होंने कहा, "भारत को कश्मीरी लोगों की लंबे समय से चली आ रही मांग और अधिकार को पूरा करने के लिए आवश्यक कदम उठाने चाहिए ताकि UNSC के प्रस्तावों पर आत्मनिर्भरता हो सके।"


मालूम हो कि LoC पर सीजफायर को फिर से लागू करने का समझौता 24 फरवरी की आधी रात को दोनों देशों के DGMO के एलओसी पर हिंसा के स्तर को नीचे लाने के लिए सहमत होने के दो घंटे बाद से ही लागू हो गया था।


रक्षा मंत्रालय के सूत्रों का कहना है कि भारत और पाकिस्तान दोनों शांति के लिए एक और मौका देना चाहते हैं। युद्धविराम के तौर पर साल 2020 विशेष रूप से खराब ही रहा है। पिछले साल 4,645 बार युद्धविराम उल्लंघन हुआ, 2018 में 1,629 और 2019 में 3,168 की तुलना में ये एक नया रिकॉर्ड था। अकेले 2021 के पहले 2 महीनों में ही 591 बार सीजफायर उल्लंघन हुआ है। पुलवामा हमले और धारा 370 को निरस्त करने के बाद 2019 में एक नाटकीय ढंग से ये सब बढ़ा है।


दोनों देशों की सेनाओं की तरफ से जारी एक संयुक्त बयान में कहा गया, "हमने नियंत्रण रेखा और अन्य सभी क्षेत्रों के साथ एक स्वतंत्र, स्पष्ट और सौहार्दपूर्ण वातावरण में स्थिति की समीक्षा की है। दोनों पक्षों ने नियंत्रण रेखा को लेकर हुए सभी समझौतों, समझ और संघर्ष विराम का कड़ाई से पालन करने पर सहमति जताई और 24/25 फरवरी 2021 की आधी रात से इस लागू कर दिया गया है।"


सोशल मीडिया अपडेट्स के लिए हमें Facebook (https://www.facebook.com/moneycontrolhindi/) और Twitter (https://twitter.com/MoneycontrolH) पर फॉलो करें।