Moneycontrol » समाचार » विदेश

क्या चीन को मात देने के लिए मॉरीशस द्वीप पर सैन्य ठिकाने का निर्माण कर रहा भारत? रिपोर्ट में दावा

भारत सरकार की तरफ से अल जजीरा की इस रिपोर्ट पर कोई प्रतिक्रिया नहीं दी गई है
अपडेटेड Aug 04, 2021 पर 08:48  |  स्रोत : Moneycontrol.com

अल जजीरा (Al Jazeera) की एक रिपोर्ट में दावा किया गया है कि भारत धीरे-धीरे अफ्रीका की ओर अपना प्रभाव बढ़ा रहा है। इस क्रम में भारत द्वारा सैन्य उपयोग के लिए हवाई पट्टी (airstrip) और जेट्टी (jetty) का निर्माण किया जा रहा है। रिपोर्ट के मुताबिक, मॉरिशस के मुख्य द्वीप से करीब 1,100 किलोमीटर दूर अगालेगा द्वीप (Mauritian island of Agaléga) पर भारत नौसैनिक सुविधाओं का निर्माण कर रहा है।


अल जजीरा की एक रिपोर्ट में अल जज़ीरा इन्वेस्टिगेटिव यूनिट द्वारा प्राप्त सेटेलाइट इमेज, फाइनेंशियल डेटा और जमीनी साक्ष्यों के आधार पर यह दावा किया गया है। इस रिपोर्ट को स्टडी करने वाले मिलिट्री एक्सपर्ट्स का मानना है कि इस हवाई पट्टी का इस्तेमाल निश्चित तौर पर इंडियन नेवी द्वारा समुद्री गश्ती मिशन (Maritime Patrol Missions) के लिए किया जाएगा।


CBDT ने Income Tax Return की इलेक्ट्रॉनिक फाइलिंग की डेडलाइन बढ़ाईं, जानें आखिरी तारीख


साल 2018 से इस तरह की रिपोर्ट्स आ रही थी कि भारत, मॉरिशस के एक द्वीप पर सैन्य ठिकाने का निर्माण कर रहा है। हालांकि, भारत और मॉरीशस दोनों देशों ने इस तरह की बातों से इनकार किया है। दोनों देशों ने लगातार कहा है कि द्वीप पर जारी डेवलपमेंट प्रोजेक्ट्स स्थानीय लोगों की बेहतरी के लिए है। फिलहाल, भारत सरकार की तरफ से अल जजीरा की इस रिपोर्ट पर कोई प्रतिक्रिया नहीं दी गई है।


सेटेलाइट तस्वीरों के आधार पर दावा किया गया है कि मॉरिशस के मुख्य द्वीप से करीब 1,100 किलोमीटर (684 miles) दूर अगालेगा द्वीप पर दो बड़े जेटी और एक 3 किलोमीटर से लंबा रनवे का निर्माण किया गया है। मॉरीशस सरकार ने अल जजीरा की रिपोर्ट पर कहा है कि मॉरिशस और भारत के बीच अगालेगा में सैन्य अड्डा स्थापित करने के लिए कोई समझौता नहीं है।


IndiGo ने गलत टिकट जारी कर रद्द की उड़ान, यात्री से कहा आपकी फ्लाइट छूट गई


नई दिल्ली में ऑब्जर्वर रिसर्च फाउंडेशन (ORF) थिंक-टैंक के एसोसिएट फेलो अभिषेक मिश्रा ने मामले को लेकर कहा कि यह भारत के लिए दक्षिण-पश्चिम हिंद महासागर और मोजाम्बिक चैनल में निगरानी बढ़ाने के लिए हवाई और नौसैनिक उपस्थिति है। यह कम्युनिकेशन और इलेक्ट्रॉनिक खुफिया संग्रह के लिए एक उपयोगी जगह साबित होगी।


सोशल मीडिया अपडेट्स के लिए हमें Facebook (https://www.facebook.com/moneycontrolhindi/) और Twitter (https://twitter.com/MoneycontrolH) पर फॉलो करें।