Moneycontrol » समाचार » विदेश

चाइनीज ऐप बैन करने पर चीन ने कहा, विदेशी निवेशकों के बारे में सोचे भारत

गलवान घाटी में झड़प के बाद भारत ने चीन के 59 ऐप्स पर पाबंदी लगा दी है
अपडेटेड Jul 01, 2020 पर 13:11  |  स्रोत : Moneycontrol.com

भारत चीन की तनातनी बढ़ती जा रही है। गलवान घाटी में हिंसात्म झड़प के बाद भारत ने सख्त रवैया अपनाया है। कल भारत सरकार ने चीन के 59 ऐप पर पाबंदी लगा दी। इस पाबंदी से चीन चिंतित हो गया है। उसका पहली बार आधिकारिक बयान आया है। जिसमें चीन ने कहा है कि वो इस पाबंदी से चिंतित है। फिलहाल वो इस मामले में पूरी जानकारी हासिल कर रहा है।


चीन के विदेश मंत्रालय (Chinese Foreign Ministry) के प्रवक्ता झाओ लिजियन (Zhao Lijian) ने कहा कि हम इस बात पर बल देना चाहते हैं कि चीनी सरकार हमेशा कारोबारियों को अंतरराष्ट्रीय और स्थानीय कानूनों का पालन करने के लिए कहती है। भारत की जिम्मेदारी है कि वो अंतरराष्ट्रीय निवेशकों (international investors) के कानूनी अधिकारों का सम्मान करे, जिनमें चीनी निवेशक (Chinese investor) भी शामिल हैं।


भारत ने सोमवार को चीनी लिंक के 59 ऐप पर पाबंदी लगा दी है। जिसमें बहुचर्चित टिकटॉक और यूसी ब्राउजर शामिल है। सरकार की तरफ से कहा गया है कि ये ऐप्स भारत की संप्रभुता और अखंडता, भारत की सुरक्षा, देश की सुरक्षा और सार्वजनिक व्यवस्था के लिए पूर्वाग्रह से भरा है।


पाबंदी लगने के बाद कंपनी ने मंगलवार को कहा है कि TikTok ने किसी भी भारतीय यूजर्स की जानकारी चीन या दूसरे विदेशी सरकार के साथ साझा नहीं की है। TikTok इंडिया के हेड निखिल गांधी ने एक बयान जारी करके कहा, हमें इस मामले से जुड़े सरकारी अधिकारियों ने बातचीत के लिए बुलाया था और हमें अपनी सफाई पेश करने को कहा था। गांधी ने कहा, TikTok भारतीय नियमों के मुताबिक, डाटा प्राइवेसी और सिक्योरिटी की शर्तों का पालन करता रहा है। इसने भारतीय यूजर्स की जानकारी चीन या किसी विदेशी सरकार को नहीं दी है। TikTok ने यह भी कहा कि अगर हमसे भविष्य में भी ऐसा करने को कहा गया तो हम नहीं करेंगे।


कानून, इलेक्ट्रॉनिक्स और सूचना तकनीकी मंत्री (Law, Electronics and Information Technology Minister), रविशंकर प्रसाद (Ravi Shankar Prasad) ने कहा कि सरकार ने भारत की सुरक्षा, सुरक्षा रक्षा, संप्रभुता और अखंडता के लिए इन ऐप पर पाबंदी लगा दी है। उन्होंने ट्वीट कर लिखा है कि भारत के लोगों के डेटा और गोपनीयता की रक्षा के लिए सरकार ने 59 मोबाइल ऐप पर पाबंदी लगा दी है।


IT के एक सीनियर अधिकारी ने कहा कि इन्फर्मेशन टेक्नोलॉजी एक्ट (Information Technology Act) के सेक्शन 69 A के तहत इन चीनी ऐप्स को बैन किया है। इस बैन का मकसद प्राइवेसी, और डेटा लीक को रोकना है।


सोशल मीडिया अपडेट्स के लिए हमें Facebook (https://www.facebook.com/moneycontrolhindi/) और Twitter (https://twitter.com/MoneycontrolH) पर फॉलो करें।