Moneycontrol » समाचार » विदेश

Moderna ने कहा, वैक्सीन कैंडिडेट को लेकर कई देशों और Covax से चल रही है बातचीत

हालांकि कंपनी ने यह साफ नहीं किया कि भारत उन देशों में शामिल है, जिनके साथ उसकी इस पर चर्चा हो रही है
अपडेटेड Nov 26, 2020 पर 12:03  |  स्रोत : Moneycontrol.com

अमेरिकी बायोटेक कंपनी मॉडर्ना (Moderna) ने कहा कि वह दुनिया के कई देशों और पार्टियों के साथ कोरोना वायरस के खिलाफ अपने वैक्सीन कैंडिडेट को उतारने के बारे में चर्चा कर रही है। हालांकि कंपनी ने यह साफ नहीं किया कि भारत उन देशों में शामिल है, जिनके साथ उसकी इस पर चर्चा हो रही है। मॉडर्ना ने Covax में शामिल होने की संभावना के बारे में संकेत दिया और कहा कि चर्चा जारी है। बता दें कि मॉडर्ना की ओर कहा गया है कि कोरोना के खिलाफ तैयार की जा रही वैक्सीन बीमारी को रोकने में 94.5 फीसदी तक कारगर है। यह दावा क्लीनिकल ट्रायल के विश्लेषण के आधार पर किया जा रहा है।


बता दें कि दुनिया के सभी देशों को सुचारू रूप से कोरोना वैक्सीन देने के लिए विश्व स्वास्थ्य संगठन (World Health Organization) की पहल पर इसी साल अप्रैल में पब्लिक-प्राइवेट वैक्सीन पार्टनरशिप GAVI ने COVAX योजना लॉन्च की थी। इसमें वैक्सीन की फंडिंग और परचेजिंग पावर का पूल बनाने का लक्ष्य रखा गया, ताकि साझेदार देशों को कम कीमत पर वैक्सीन की उपलब्धता सुनिश्चित कराई जा सके।


इस अभियान में दुनिया के गरीब देशों को वैक्सीन की दो डोज 4 डॉलर में मुहैया कराए जाने का लक्ष्य रखा गया है। इस योजना में अबतक 2 अरब डॉलर से अधिक की फंडिंग हो चुकी है और 82 से अधिक देश इस समझौते में शामिल हो चुके हैं। इस परियोजना का लक्ष्य है साल 2021 के अंत तक दो अरब डोज वैक्सीन तैयार करना।


Moderna के प्रवक्ता ने भारत के लिए अपने प्लान के बारे में एक ईमेल के जवाब में कहा कि हम बहुत रुचि देख रहे हैं और कोरोना के खिलाफ मॉडर्ना के वैक्सीन कैंडिडेट के बारे में कई देशों के साथ चर्चा कर रहे हैं। भारत में वैक्सीन के डिस्ट्रीब्यूशन के लिए भारतीय दवा कंपनियों या अस्पतालों के साथ साझेदारी पर मॉडर्ना ने कहा कि हम विचार-विमर्श कर रहे हैं, लेकिन इस समय घोषणा करने के लिए कोई नया विशिष्ट समझौता नहीं है। हालांकि, मीडिया रिपोर्ट के मुताबिक, भारत सरकार, मॉडर्ना के संपर्क में है, ताकि जल्‍द से जल्‍द यह वैक्‍सीन यहां उपलब्‍ध हो सके।


बता दें कि कोरोना वायरस संक्रमण से लड़ने के लिए जल्‍द ही कई वैक्‍सीन हमारे पास होंगी। कई वैक्‍सीन अपने अंतिम चरण से गुजर रही हैं। फाइजर (Pfizer) और मॉडर्ना (Moderna) कोरोना वायरस के खिलाफ तैयार की जा रही अपनी वैक्सीन को 90 प्रतिशत से ज्यादा प्रभावी बता चुकी हैं। इन दोनों के अलावा एस्‍ट्राजेनेका/ऑक्‍सफोर्ड (Oxford-AstraZeneca) ने भी कहा है कि उसकी कोरोना वैक्‍सीन 70 फीसदी असरदार दिख रही है। वहीं, टेस्‍टिंग से यह पता चला है कि यह वैक्‍सीन कोरोना वायरस संक्रमण से बचाव में 90 फीसदी प्रभावी है।


University of Oxford के साथ मिलकर कोरोना वैक्सीन बना रही AstraZeneca ने सोमवार को कहा कि उसकी वैक्सीन एक डोज के रेजीमेन के तहत 90 फीसदी तक प्रभावी हो सकती है। इस वैक्‍सीन का भारत में आखिरी दौर का ट्रायल चल रहा है। सोमवार को जारी अंतरिम एनालिसिस के मुताबिक, दो तरह की डोज के आंकड़े एक साथ रखने पर वैक्‍सीन 70.4 फीसदी प्रभावी रही। रिसर्चर्स के मुताबिक, अलग-अलग करने पर वैक्‍सीन 90 प्रतिशत तक असरदार मिली। इसके अलावा रूस (Russia) ने भी दावा किया है कि उसकी कोरोना वायरस वैक्सीन (Coronavirus Vaccine) स्पूतनिक वी (Sputnik V) 95 प्रतिशत प्रभावी है।


सोशल मीडिया अपडेट्स के लिए हमें Facebook (https://www.facebook.com/moneycontrolhindi/) और Twitter (https://twitter.com/MoneycontrolH) पर फॉलो करें।