Moneycontrol » समाचार » विदेश

तुर्की के म्यूजियम में 86 साल बाद गूंजेगी अजान, 1500 साल पहले यह था चर्च

हागिया सोफिया को म्यूजियम बनाए रखने की याचिका को तुर्की की एक अदालत ने खारिज कर दिया है
अपडेटेड Jul 13, 2020 पर 08:06  |  स्रोत : Moneycontrol.com

तुर्की के हागिया सोफिया (Hagia Sophia) म्यूजियम को मस्जिद में बदल दिया गया है। राष्ट्रपति रेशेप तैयप एर्दोगन (Recep Tayyip Erdogan) ने शुक्रवार को कहा, हम 24 जुलाई से हागिया सोफिया (Hagia Sophia) को नमाज के लिए खोलने की योजना बना रहे हैं। हमारी मस्जिदों की तरह हागिया सोफिया के दरवाजे भी सभी के लिए खुले रहेंगे। यहां स्थानीय, विदेशी मुसलमान और गैर मुसलमान भी आ सकेंगे। तुर्की की एक अदालत ने शुक्रवार को हागिया सोफिया को म्यूजियम बनाए रखने से जुड़ी याचिका खारिज कर दी थी। कोर्ट ने अपने फ़ैसले में कहा था कि हागिया सोफ़िया अब म्यूज़ियम नहीं रहेगा।  इसके बाद इसे मस्जिद में बदलने का रास्ता साफ हो गया था।


गौरतलब है कि तुर्की सरकार की कैबिनेट ने 1930 में इसे म्यूजियम में बदल दिया था। कोर्ट ने 86 साल बाद इस फैसले को रद्द कर दिया। तुर्की के राष्ट्रपतिरेशेप तैयप एर्दोगन (Recep Tayyip Erdogan)  ने पिछले साल चुनाव में इसे मस्जिद बनाने का वादा किया था।


क्या है हागिया सोफिया


तुर्की का हागिया सोफ़िया दुनिया के सबसे बड़े चर्चों में से एक रहा है। इसे 15 सौ साल पहले यूनानी साम्राज्य में एक कैथेड्रल चर्च (Orthodox Christian cathedral) के तौर पर बनाया गया था। हालांकि, 1453 में यूरोप में हुए आटोमन वॉर के बाद इसे मस्जिद में बदल दिया गया था। 1934 में कैबिनेट के फैसले के बाद इसे एक म्यूजियम में बदला गया। फिलहाल यह यूनेस्को के वैश्विक धरोहरों (UNESCO World Heritage) में शामिल है। तुर्की के मुस्लिम लोग इसे मस्जिद में बदलने की मांग कर रहे थे वहीं, देश के सेकुलर वर्ग ऐसा करने के खिलाफ थे।


कहने का मतलब ये हुआ कि डेढ़ हज़ार साल पुराने चर्च को पहले मस्जिद, फिर म्यूज़ियम बनाया गया, अब फिर से मस्जिद बनाने का फ़ैसला किया गया है।


सोशल मीडिया अपडेट्स के लिए हमें Facebook (https://www.facebook.com/moneycontrolhindi/) और Twitter (https://twitter.com/MoneycontrolH) पर फॉलो करें।