Moneycontrol » समाचार » विदेश

Pakistan: इस कदर बिगड़ गए आर्थिक हालात, किराय पर देना पड़ रहा है प्रधानमंत्री का आधिकारिक आवास

मीडिया रिपोर्ट्स के मुताबिक सरकार ने प्रधान मंत्री के आधिकारिक आवास को किराय पर देने का फैसला किया है
अपडेटेड Aug 04, 2021 पर 15:37  |  स्रोत : Moneycontrol.com

पाकिस्तान (Pakistan), जो आतंकवाद के बलबूते पनपने की कोशिश में रहता है, असल में अंदर से आर्थिक तौर पर ये देश बहुत बुरी मार झेल रहा है। ऐसे में खबर आई है कि हालात इस कदर बिगड़ चुके हैं कि प्रधानमंत्री का आधिकारिक आवास गिरवी रखने तक की नौबत आ गई है। ANI ने स्थानीय मीडिया के हवाले से बताया कि वित्तीय संकट से जूझ रहे पाकिस्तान ने अब इस्लामाबाद में अपने प्रधान मंत्री इमरान खान (Imran Khan) के आधिकारिक आवास को किराए पर बाजार में रख दिया है।


इससे पहले, खान के नेतृत्व वाली तहरीक-पाकिस्तान तहरीक-ए-इंसाफ (PTI) सरकार ने प्रधानमंत्री के आवास को यूनिवर्सिटी में बदलने की अपनी योजना की घोषणा की थी। हालांकि, सरकार ने उस योजना को अब कथित तौर पर हटा दिया गया है और इसके बजाय प्रॉपर्टी को किराए पर देने का फैसला किया है।


अगस्त 2019 में पाकिस्तान सरकार द्वारा प्रधान मंत्री के घर को स्टेट ऑफ आर्ट फेडरल एजुकेशन इंस्टिट्यूट में बदलने की अपनी योजना की घोषणा के बाद इमरान खान ने इस्लामाबाद में अपना आधिकारिक निवास खाली कर दिया था।


परिवार से झगड़ कर पाकिस्तानी किशोर ने पार की भारत की सीमा लेकिन यहां भी चैन कहां!


समा टीवी की एक रिपोर्ट के अनुसार, संघीय सरकार ने उन लोगों को प्रॉपर्टी किराए पर देने का फैसला किया है, जो इस्लामाबाद में रेड जोन स्थित परिसर में सांस्कृतिक, फैशन, शैक्षिक और दूसरे कार्यक्रम आयोजित करना चाहते हैं।


सामा टीवी ने कहा, "इस मकसद के लिए दो समितियों का भी गठन किया गया है। उनकी जिम्मेदारी ये होगी कि ऐसे किसी भी प्रोग्राम के दौरान पीएम हाउस के अनुशासन और मर्यादा का उल्लंघन न हो।"


स्थानीय मीडिया के अनुसार, संघीय मंत्रिमंडल बैठक करेगा और पीएम हाउस बिल्डिंग से रेवेन्यू जुटाने के तरीकों पर चर्चा करेगा। प्रधानमंत्री आवास का ऑडिटोरियम, दो गेस्ट विंग और एक लॉन संभवत: फंड जुटाने के लिए किराए पर दिए जाएंगे। पाकिस्तानी प्रधानमंत्री के पूर्व प्रमुख कार्यस्थल पर हाई लेवल राजनयिक कार्यक्रम और अंतरराष्ट्रीय सेमिनार भी आयोजित किए जाएंगे।


इमरान खान ने पाकिस्तान के प्रधान मंत्री का पद संभालने के बाद घोषणा की थी कि सरकार के पास जन कल्याणकारी योजनाओं पर खर्च करने के लिए पैसा नहीं है, जबकि देश में कुछ लोग "बड़ी ही अमीरी में जी रहे हैं।" तब से वह अपने बानी गाला आवास पर रह रहे हैं और केवल प्रधान मंत्री ऑफिस का ही इस्तेमाल करते हैं।


खान के सत्ता में आने के बाद से पिछले तीन सालों में पाकिस्तान की अर्थव्यवस्था 19 अरब डॉलर तक सिकुड़ गई है। जब वे प्रधान मंत्री बने, तो उन्होंने देश की अर्थव्यवस्था को राहत देने के लिए सरकारी खर्चों में कटौती करने के लिए कई कड़े कदम उठाए थे।


सोशल मीडिया अपडेट्स के लिए हमें Facebook (https://www.facebook.com/moneycontrolhindi/) और Twitter (https://twitter.com/MoneycontrolH) पर फॉलो करें।