Moneycontrol » समाचार » विदेश

US के राष्ट्रपति जो बाइडेन का ऐलान- 11 सितंबर तक अफगानिस्तान से वापस लौटेंगे सभी अमेरिकी सैनिक

बाइडेन इस निष्कर्ष पर पहुंचे हैं कि अमेरिका 11 सितंबर से पहले अफगानिस्तान से अपने बलों को वापस बुला लेगा और यह प्रक्रिया पूरी कर ली जाएगी
अपडेटेड Apr 15, 2021 पर 10:00  |  स्रोत : Moneycontrol.com

अमेरिका के राष्ट्रपति जो बाइडेन (Joe Biden) ने युद्धग्रस्त अफगानिस्तान से सभी अमेरिकी सैनिकों को वापस बुलाने की एक मई की समय सीमा को बढ़ाकर 11 सितंबर करने का फैसला किया है, जो 9/11 आतंकी हमले की 20वीं बरसी है। अधिकारियों ने कहा कि अमेरिकी राष्ट्रपति अफगानिस्तान से इस साल 11 सितंबर तक सभी अमेरिकी सैनिकों को वापस बुलाने की अपनी योजना का ब्योरा बुधवार को प्रस्तुत कर आधिकारिक ऐलान सकते हैं।


औपचारिक घोषणा से पहले, एक वरिष्ठ अधिकारी ने कहा कि बाइडेन ने अफगानिस्तान में शेष बचे अमेरिकी सैनिकों को वापस बुलाने और अंत में 20 साल बाद वहां जारी अमेरिकी युद्ध को समाप्त करने का फैसला किया है। अफगानिस्तान में फिलहाल 2,500 अमेरिकी सैनिक हैं।


बाइडेन कई हफ्तों से डेडलाइन बढ़ाने के संकेत दे रहे थे कि वह उस समय सीमा को बढ़ा सकते हैं जो ट्रंप प्रशासन ने तालिबान के साथ बातचीत कर के तय की थी बाइडेन कई हफ्तों से डेडलाइन बढ़ाने के संकेत दे रहे थे।


व्हाइट हाउस की प्रेस सचिव जेन साकी ने मंगलवार को कहा कि राष्ट्रपति, अफगानिस्तान में आगे बढ़ने की योजना पर कल ब्योरा देंगे जिसमें हमारे साझेदारों, सहयोगियों और अफगान सरकार के साथ करीब से समंवय कर अमेरिकी सैनिकों को वापस बुलाने की योजना एवं घटनाक्रम शामिल होगा। साथ ही दुनिया भर के अवसरों एवं खतरों पर ध्यान देने की उनकी प्रतिबद्धता पर भी बात करेंगे।


एक अधिकारी के मुताबिक, बाइडेन इस निष्कर्ष पर पहुंचे हैं कि अमेरिका 11 सितंबर से पहले अफगानिस्तान से अपने बलों को वापस बुला लेगा और यह प्रक्रिया पूरी कर ली जाएगी। अधिकारी ने कहा कि हम शेष बलों को एक मई से पहले क्रमवार तरीके से वापस बुलाना शुरू कर देंगे और हमारी योजना है कि 9/11 की 20वीं बरसी से पहले अमेरिकी सैनिकों को देश से वापस बुला लें।


उन्होंने कहा कि सैनिकों की वापसी शर्तों पर आधारित नहीं होगी। वरिष्ठ अधिकारी ने कहा कि राष्ट्रपति का अनुमान है कि शर्तें लगाने वाला रवैया, जैसा कि पिछले दो दशकों में रहा है, वह अफगानिस्तान में सदा के लिए बना रहने वाला है। पिछले साल फरवरी में ट्रंप प्रशासन ने कतर के दोहा में तालिबान के साथ समझौते में एक मई डेडलाइन तय की थी।


सोशल मीडिया अपडेट्स के लिए हमें Facebook (https://www.facebook.com/moneycontrolhindi/) और Twitter (https://twitter.com/MoneycontrolH) पर फॉलो करें.