Moneycontrol » समाचार » विदेश

इस छोटे अफ्रीकी देश ने चीन को दिया अरबों रुपये का झटका

चीन का महत्वाकांक्षी बेल्ट एंड रोड प्रोजेक्ट के जरिये चीन केन्या तक एक स्टैंडर्ड गेज रेलवे मार्ग शुरू करने वाला था।
अपडेटेड Jun 26, 2020 पर 13:24  |  स्रोत : Moneycontrol.com

अफ्रीका के गरीब देशों को मदद करने के नाम पर अपने जाल में फंसाने वाले चीन को एक छोटे देश ने बड़ा झटका दिया है। केन्या ने चीन के साथ किया हुआ अरबों रुपये का रेल प्रोजेक्ट रद्द कर दिया है। इस रेल प्रोजेक्ट से संबंधित कुछ मुद्दों पर कोर्ट में याचिका दायर की गई थी। जिसके बाद कोर्ट ने इस प्रोजेक्ट को रद्द करने का आदेश दिया है।


चीन ने विश्व के अनेक देशों को कर्ज दिया है। इसके अलावा उसने अनेक देशों में महत्वपूर्ण प्रोजेक्ट में निवेश भी किया है। इसके साथ ही चीन का महत्वाकांक्षी बेल्ट एंड रोड प्रोजेक्ट के जरिये चीन केन्या तक एक स्टैंडर्ड गेज रेलवे मार्ग शुरू करने वाला था। इस प्रोजेक्ट के चलते कुछ दिनों पहले चीन के राष्ट्रपति शी जिन पिंग ने केन्या के राष्ट्रपति उहुरू केन्याटा का अभिनंदन भी किया था। इसके बाद भी करार रद्द होने से लगता है कि कोरोना के बाद चीन की मुसीबतें कम होने का नाम नहीं ले रही हैं।


केन्या के साथ चीन ने रेलवे मार्ग के प्रोजेक्ट के लिए 2017 में करार किया था। उसके अनुसार चाइना रोड एंड ब्रिज कॉर्पोरेशन ने केन्या में अरबों डॉलर का निवेश करके बेल्ड एंड रोड इनीशिएटिव प्रोजेक्ट के तहत रेल मार्ग का विस्तार किया जाने वाला था। महाराष्ट्र टाइम्स में छपी खबर के मुताबिक इसके लिए केन्या ने एक्सिस बैंक ऑफ चाइना से 3.2 अरब डॉलर का कर्ज लिया था।


केन्या के कोर्ट ने केन्या सरकार और चाइना रोड एंड ब्रिज कॉर्पोरेशन के बीच हुए रेल करार को अवैध घोषित किया है। इस करार में देश के कानून और नियम को ताक पर रख दिया है ऐसा कोर्ट ने कहा है। इस करार के विरोध में केन्या के सामाजिक कार्यकर्ता ओकिया ओमतातह ने याचिका दायर की थी। रेलवे सार्वजनिक संपत्ति है इसलिए उससे संबंधित सभी करार, खरीदारी, निविदा आदि में पारदर्शिता होनी चाहिए परंतु इस मामले में साधारण निविदा प्रक्रिया का काम भी संपन्न नहीं कराया गया ऐसा आरोप याचिकाकर्ता ने अपनी याचिका में लगाया था। हालांकि इस निर्णय के खिलाफ केन्या सरकार सुप्रीम कोर्ट में अपील करने वाली है।


सोशल मीडिया अपडेट्स के लिए हमें Facebook (https://www.facebook.com/moneycontrolhindi/) और Twitter (https://twitter.com/MoneycontrolH) पर फॉलो करें।