Moneycontrol » समाचार » विदेश

एमेजॉन ने कहा, TikTok बैन करने वाला मेल गलती से गया

इससे पहले Amazon ने एक ई-मेल भेजकर अपने कर्मचारियों से चीनी ऐप TikTok को डिलीट करने की बात कही थी
अपडेटेड Jul 11, 2020 पर 14:47  |  स्रोत : Moneycontrol.com

ई-कॉमर्स की सबसे बड़ी कंपनी Amazon के कर्मचारियों को अपने फोन से वीडियो ऐप TikTok डिलीट करने संबंधी एक आंतरिक ईमेल भेजे जाने के करीब पांच घंटे बाद Amazon ने इस पर सफाई दी और इसे एक गलती करार दिया है। दरअसल, Amazon ने एक ई-मेल भेजकर अपने कर्मचारियों से चीनी ऐप TikTok को डिलीट करने की बात कही थी। लेकिन विवाद बढ़ता देख सिर्फ पांच घंटे के बाद ही Amazon ने सफाई देते हुए कहा है कि ये मेल गलती से चला गया था।


पीटीआई के मुताबिक, Amazon के आधिकारिक बयान में कहा गया कि आज सुबह हमारे कुछ कर्मचारियों को गलती से ई-मेल भेजा गया। Amazon ने कहा कि TikTok के संबंध में अभी हमारी नीतियों में कोई बदलाव नहीं हुआ है। Amazon प्रवक्ता Jaci Anderson ने मीडिया को एक मेल कर बताया कि वो मेल गलती से चला गया था और उसके बारे में सवालों के जवाब देने से इनकार कर दिया।


प्रारंभिक ईमेल में कर्मचारियों से TikTok को हटाने के लिए कहा गया था। email में ऐप से सुरक्षा खतरों का हवाला दिया गया था। कंपनी के एक कर्मचारी ने इस प्रकार का मेल मिलने की पुष्टि की, लेकिन उसने नाम गोपनीय रखने की शर्त पर बताया कि ईमेल को वापस नहीं लिया गया है।


गौरतलब है कि अमेरिका में Walmart के बाद Amazon दूसरी कंपनी है, जिसके दुनिया भर में 8,40,000 से अधिक कर्मचारी हैं और टिकटॉक के खिलाफ उसके किसी भी प्रकार के कदम से ऐप पर दबाव बढ़ता। अमेरिकी सेना ने अपने कर्मचारियों के मोबाइल में इसे प्रतिबंधित किया है और कंपनी अपनी विलय इतिहास को लेकर राष्ट्रीय सुरक्षा समीक्षा के दायरे में है।


अमेरिकी विदेश मंत्री माइक पोंपियो ने इस सप्ताह कहा था कि सरकार ऐप पर प्रतिबंध लगाने पर यकीनन विचार कर रही है। TikTok चीनी इंटरनेट कंपनी बाइटडांस की ऐप है, जिसे चीन के बाहर के उपयोगकर्ताओं के लिए बनाया गया है। यह डॉयिन नाम से एक चीनी संस्करण भी बनाता है।


इस घटनाक्रम के बीच TikTok ने कहा कि Amazon ने पहले ईमेल भेजने से पहले उसे आधिकारिक सूचना नहीं दी। TikTok ने कहा कि हमें अब भी उनकी चिंताओ के बारे में नहीं पता और कंपनी Amazon के मसले को दूर करने के लिए बातचीत का स्वागत करेगी।


आपको बता दें कि TikTok की मालिकाना कंपनी चीन की बाइटडांस (ByteDance) है। यह ऐप दुनियाभर में शॉर्ट वीडियो बनाने के लिए काफी प्रचलित है। भारत में बैन किए जाने के बाद अमेरिका में भी इस पर प्रतिबंध लगाए जाने की खबरें सामने आई थीं। इन खबरों में कहा गया था कि निजी डाटा की सुरक्षा को मुद्दे को देखते हुए ट्रंप प्रशासन भी TikTok पर बैन लगाने पर विचार कर रहा है।


सोशल मीडिया अपडेट्स के लिए हमें Facebook (https://www.facebook.com/moneycontrolhindi/) और Twitter (https://twitter.com/MoneycontrolH) पर फॉलो करें।