Moneycontrol » समाचार » विदेश

Bubonic Plague: चीन के शहरों पर मंडराया नया खतरा, जानिए कितना खतरनाक है यह प्लेग?

WHO के मुताबिक, अगर इस बीमारी का इलाज ना किया जाए तो 24 घंटों के भीतर इससे किसी व्यस्क की मौत हो सकती है
अपडेटेड Jul 07, 2020 पर 10:17  |  स्रोत : Moneycontrol.com

चीन के उत्तरी इलाके में रविवार को bubonic plague का एक संदेहास्पद केस सामने आया है। इसके बाद पूरे शहर को अलर्ट कर दिया गया है। चीन के आधिकारिक मीडिया ने यह जानकारी दी है। सरकारी न्यूज एजेंसी पीपल्स डेली ऑनलाइन ने खबर दी है कि मंगोलिया के अंदरूनी इलाके बायानूर (Bayannur) में प्लेग प्रीवेंशन और कंट्रोल के लिए लेवल III की वॉर्निंग दी है। 1 जुलाई को चीन की सरकारी न्यूज एजेंसी शिंहुआ (Xinhua) ने कहा था कि पश्चिमी मंगोलिया के खोव्द (Khovd) प्रांत में bubonic plague के दो मामले सामने आए हैं। यह मामला 27 साल के एक शख्स और उसके 17 साल के एक भाई का है। दोनों भाइयों ने मारमोट (Marmot) की मांस खाया था। मारमोट एक तरह की बड़ी गिलहरी होती है। हेल्थ मिनिस्ट्री  के अधिकारियों ने फिलहाल मारमोट का मांस खाने पर रोक लगा दी है।


क्या है bubonic Plague?


यह प्लेग बहुत कम होता है। लेकिन इसमें गंभीर बैक्टीरियल इंफेक्शन होता है। यह प्लेग चूहों के जरिए भी फैलता है।  इस प्लेग का संक्रमण दूसरे जानवरों या इनसानों में भी हो सकता है। प्लेग से मरे हुए किसी जानवर के शरीर से निकलने वाले तरल पदार्थ से भी यह प्लेग फैल सकता है।


WHO के मुताबिक, अगर इस बीमारी का इलाज ना किया जाए तो  24 घंटों के भीतर इससे किसी व्यस्क की मौत हो सकती है।


क्या है लक्षण?


इस बीमारी के शुरुआती लक्षण में गले या कांख में दर्द हो सकता है। गर्दन में मुर्गी के अंडे के बराबर गांठ निकल सकता है। इसके अलावा बुखार, सिरदर्द, थकान और मांसपेशियों में दर्द भी हो सकता है।


2010 से 2015 के बीच Bubonic Plague के कुल 3200 मामले आए जिनमें से 584 लोगों की मौत हो चुकी हा। 14वीं शताब्दी में एशिया, यूरोप और अफ्रीका में Bubonic Plague को ब्लैक डेथ (Black Death) कहा गया। इस महामारी की वजह से 5 करोड़ लोगों की मौत हुई थी।