Moneycontrol » समाचार » बाजार आउटलुक- फंडामेंटल

करेक्शन से डरें नहीं, इन सेक्टर पर रखें नजर

प्रकाशित Tue, 13, 2018 पर 11:09  |  स्रोत : CNBC-Awaaz

कोटक महिंद्रा एएमसी के एमडी और सीईओ नीलेश शाह ने बाजार की आगे की दशा और दिशा पर बात करते हुए कहा कि ट्रेड वॉर को लेकर हल्ला जरूरत से कुछ ज्यादा ही हो रहा। भारतीय बाजारों पर इस ट्रेड वार का कोई बड़ा असर नहीं होगा। भारत से एल्यूमिनियम का अमेरिका में बहुत कम इंपोर्ट होता है। लेकिन आगे भी अगर अमेरिका की तरफ ट्रेड टैरिफ बढ़ाने का सिलसिला जारी रहता है तो हम पर इसका असर पड़ सकता है। साथ ही, वे मानते हैं कि एच1बी-वीजा के नए नियमों से भारत को फायदा होगा।


नीलेश शाह का कहना है कि फिलहाल अमेरिका के ट्रेड वॉर से भारत को डरने की जरूरत नहीं है। अमेरिका का ये सारा खेल चाइना पर दबाव बनाने को लिए है। भारत को भी अमेरिका से सबक लेकर चीन पर दबाव बनाना चाहिए।


नीलेश शाह का कहना है कि गिरते बाजार में भी एसआईपी के जरिए निवेश कम नहीं हुआ है। ये बाजार के लिए बहुत अच्छी बात है जो बाजार को आगे भी मजबूती देगा। उन्हें उम्मीद है कि आगे भी घरेलू म्यूचुअल फंड से बाजार को सपोर्ट मिलेगा। एलटीसीजी पर बात करते हुए नीलेश शाह ने कहा कि बड़े निवेशकों ने एलटीसीजी को स्वीकार कर लिया है इनको अब इससे दिक्कत नहीं है।


पीएसयू बैंकों पर नीलेश शाह की राय है कि सारे पीएसयू बैंकों को हम एक ही तराजू पर नहीं तोल सकते। लेकिन आम निवेशक का विश्वास पीएसयू बैंको से हिल गया है। फिलहाल पीएसयू बैंको में निवेश की सलाह नहीं होगी हां इनमें ट्रेडिंग की जा सकती है।