Moneycontrol » समाचार » बाजार आउटलुक- फंडामेंटल

शेयर चुनने से ज्यादा अच्छे सेक्टर पर करें फोकसः केआर चोकसी

अच्छी कंपनी में disciplined निवेश करो, रिटर्न खुद-व-खुद मिलेगा।
अपडेटेड Jan 13, 2020 पर 16:46  |  स्रोत : CNBC-Awaaz

किशनभाई रतिलाल चोकसी ऐसा चकमता सितारा जिसने शेयर बाजार की धड़कन यानी सेंसेक्स को को शून्य से 41 हजार अपनी आखों से होते देखा है। किशनभाई चोकसी को शेयर बाजार में 50 साल से ज्यादा का अनुभव है। इतना अनुभव दूसरों के पास भी हो सकता है लेकिन सभी को किशनभाई चोकसी की तरह भारतीय कॉरपोरेट सेक्टर का encyclopedia नहीं कहा जाता। किशनभाई चोकसी को भारतीय कॉरपोरेट जगत का करीब-करीब हर दिग्गज बेहद करीब से जानता है। इस दोस्ती के पीछे सबसे बड़ा कारण किशनभाई का मीठा स्वभाव और इंसान को पहचानने की पैनी नजर है। किशनभाई पहली नजर से भांप लेते हैं कि कॉरपोरेट में कितना दम है। इसके लिएउनका रिसर्च करने का अनोखा तरीका इनका साथ देता है।


निवेशकों का स्वभाव दूसरों की रिसर्च में निवेश करने का होता है लेकिन किशनभाई बाकी सबसे बिलकुल अलग हैं। इनका शौक ही है कंपनियों के बारे में पढ़ना और उन्हें समझना। इसके साथ ही वो सिर्फ उन कंपनियों में लंबा निवेश करते हैं जिनके प्रोमोटर अच्छे हों और जिनमें कॉर्पोरेट गवर्नेंस के मसले नहीं हों। यही कारण है कि उनकी खोजी हुई कई छोटी कंपनियां आज शेयर बाजार के आसमान में चमकता हुआ सितारा हैं। 80 साल से किशनभाई का बाजार में निवेश का सिर्फ एक मंत्र है। अच्छी कंपनी में disciplined निवेश करो, रिटर्न खुद-व-खुद मिलेगा।


किशनभाई ने ही 1979 में देश की सबसे जानी मानी ब्रोकरेज फर्म के आर चोकसी की नींव रखी। ये किशनभाई का ही कमाल है कि आज के आर चोकसी देश के 250 locations में 75000 निवेशकों के 1500 करोड़ रुपये संभाल रही है। BSE के साथ किशनभाई का जुड़ाव सालों पुराना है। किशनभाई BSE के साथ इनवेस्टर प्रोटेक्शन फंड के ट्रस्टी भी हैं। चोकसी आज CNBC-आवाज़ के 15वें जन्मदिन में इस कार्यक्रम में शामिल हैं।


इस अवसर पर केआर चोकसी ने कहा कि निवेश करने से पहले वे कंपनी की बैलेंस शीट पढ़ते थे, मैनेजमेंट से मिलते थे और उनकी एजीएम में भी जाते थे और फंडामेंटल रिसर्च करते थे उसके बाद ही उस कंपनी में निवेश करते और करवाते थे।


चोकसी ने आगे कहा कि सरकार की इच्छा से कि इकोनॉमी में फिर से तेजी आये और पिछले 6 से 8 महीने के बाद इसमें कुछ अच्छा होना चाहिए और बाजार में रिवाइवल भी शुरू हो गया है। ऑटो सेक्टर की बात करें तो इसमें साल दर साल आधार पर तुलना न करते हुए तिमाही और मासिक आधार पर तुलना करने पर ऑटो सेक्टर में सुधार दिखाई दे रहा है।


मिडकैप और स्मॉल कैप शेयरों में निवेश करने से पहले इस बात की रिसर्च करना जरूरी है कौन सी कंपनी के आगे चलकर अच्छा करने की उम्मीद है और किस कंपनी का ग्रोथ प्लान अच्छा और मजबूत है।


केआर चोकसी ने आगे कहा कि इकोनॉमी में महीना आधार पर सुधार के संकेत दिखाई दे रही है। इसके साथ ही निवेश के लिए शेयर चुनने से ज्यादा ऐसे सेक्टर चुनने चाहिए जो अच्छा कारोबार कर रहे हैं। शुगर इंडस्ट्री के बारे में उन्होंने कहा कि पहले गन्ने का उपयोग सिर्फ चीनी बनाने के लिए होता है जबकि अब इसका उपयोग इथेनॉल के उत्पादन के लिए भी किया जाता है इसलिए आने वाला समय शुगर इंडस्ट्री के लिए अच्छा साबित होगा।


सोशल मीडिया अपडेट्स के लिए हमें Facebook (https://www.facebook.com/moneycontrolhindi/) और Twitter (https://twitter.com/MoneycontrolH) पर फॉलो करें।