Moneycontrol » समाचार » बाजार आउटलुक- फंडामेंटल

9000 तक टूटेगा निफ्टी पर घबराएं नहीं, इन शेयरों में जमकर लगाएं पैसा

करेक्शन के इस दौर में जुलाई के अंत तक निफ्टी के 9000 के नीचे तक जाने के आसार हैं।
अपडेटेड Jun 28, 2017 पर 11:31  |  स्रोत : CNBC-Awaaz

इंडिया इंफोलाइन के एक्जिक्यूटिव वाइस प्रेसिडेंट, संजीव भसीन का कहना है कि बाजार में करेक्शन की शुरुआत हो चुकी है। करेक्शन के इस दौर में जुलाई के अंत तक निफ्टी के 9000 के नीचे तक जाने के आसार हैं। लिहाजा इस समय बाजार में खरीदारी करने की सलाह नहीं होगी।


संजीव भसीन के मुताबिक पीएसयू बैंक और ऑयल मार्केटिंग कंपनियों में काफी गिरावट देखने को मिली है। आगे जीएसटी के डर से एफएमसीजी शेयरों पर भी दबाव की आशंका है। ऑटो शेयरों में भी किसी खास एक्शन की उम्मीद नहीं है। मेटल शेयरों की तेजी भी धीरे-धीरे खत्म हो रही है। मौजूदा माहौल में प्राइवेट सेक्टर बैंकों पर थोड़ा भरोसा किया जा सकता है, लेकिन यहां भी वैल्युएशन की चिंताएं बनी हुई हैं। बाजार में करेक्शन और कंसोलिडेशन का दौर 2-3 महीनों तक चलने की उम्मीद है।


संजीव भसीन ने कहा कि कंपनियों के नतीजों में अच्छी ग्रोथ नामुमकिन नजर आ रही है। साथ ही बाजार पर जीएसटी का असर भी देखने को मिलेगा। अमेरिका में ब्याज दरों में एक और बढ़ोतरी के संकेत मिल रहे हैं और इससे ग्लोबल बाजारों में दबाव देखने को मिल सकता है। रुपये में भी मजबूती के आसार कम ही नजर आ रहे हैं, ऐसे में डॉलर के मुकाबले रुपया 65 के स्तर पर जाता है तो इससे बाजार में अस्थिरता मुमकिन है। घरेलू बाजारों में जिस तरह एसआईपी के जरिए निवेश की बाढ़ आई तो आगे इसमें भी कमी आने के संकेत हैं।


संजीव भसीन का मानना है कि बाजार के लिए कंसोलिडेशन का दौर बेहतर ही होगा। बाजार में गिरावट के समय खरीदारी करने का अच्छा मौका हो सकता है। संजीव भसीन का कहना है कि एनबीसीसी और इंजीनियर्स इंडिया में खरीदारी करनी चाहिए। साथ ही सुप्रजित इंजीनियरिंग में 10 फीसदी की तेजी संभव है। माइक्रोफाइनेंस कंपनियों में उज्जीवन फाइनेंशियल और इक्विटास होल्डिंग्स में खरीदारी की जा सकती है।


वहीं संजीव भसीन का कहना है कि अगले 1 साल में रिलायंस पावर के 65-75 रुपये तक पहुंचने की उम्मीद है। जयप्रकाश एसोसिएट्स में मुनाफावसूली कर रिलायंस पावर में पैसे लगाने की सलाह होगी। जीएसटी से यूनाइटेड स्पिरिट्स को फायदा होने की उम्मीद है और किसी भी गिरावट में इस शेयर में खरीदारी करने की सलाह होगी। अगले 12-18 महीनों में मौजूदा स्तरों से यूनाइटेड स्पिरिट्स में 50 फीसदी की तेजी मुमकिन है। इसके अलावा 1025-1050 रुपये के आसपास एशियन पेंट्स में खरीदारी की जा सकती है। छोटी अवधि में जीएसटी से एशियन पेंट्स पर दबाव दिख सकता है, लेकिन कच्चे तेल की कीमतों में नरमी से लंबी अवधि में इस शेयर को अच्छा फायदा होगा।


साथ ही संजीव भसीन ने कहा कि एसआईपी के जरिए केनरा बैंक और बैंक ऑफ बड़ौदा में निवेश किया जा सकता है। फार्मा शेयरों में ल्यूपिन, डॉ रेड्डीज, सन फार्मा, फाइजर और अरविंदो फार्मा में भी एसआईपी के जरिए निवेश करने की सलाह होगी। इस साल के अंत तक फार्मा शेयरों में उछाल देखने को मिल सकता है।