जारी रहेगा उतार-चढ़ाव, गिरावट में तलाशे मौके -
Moneycontrol » समाचार » बाजार आउटलुक- फंडामेंटल

जारी रहेगा उतार-चढ़ाव, गिरावट में तलाशे मौके

प्रकाशित Tue, 12, 2018 पर 10:36  |  स्रोत : CNBC-Awaaz

बाजार की आगे की चाल और दिशा पर बात करते हुए बाजार के दिग्गज मधु केला ने कहा कि कच्चे तेल में अब ज्यादा तेजी की उम्मीद नहीं हैं। बाजार में उतार-चढ़ाव जारी रह सकता है। इस साल बाजार में पैसा कमाना आसान नहीं होगा।


फाइनेंशियल सेक्टर पर बात करते हुए मधु केला ने कहा कि उनको फाइनेंशियल सेक्टर में बजाज फाइनेंस पसंद है। पूरे फाइनेंशियल सेक्टर की री-रेटिंग नहीं होगी। मधु केला की राय है कि चुनिंदा सरकारी बैंकों में निवेश कर सकते हैं।


फार्मा पर मधु केला की राय है कि चुनिंदा फार्मा शेयरों में अब भी निवेश के मौके हैं। फार्मा सेक्टर में अब गिरावट की आशंका कम है। फार्मा में 2-3 साल की लंबी अवधि के लिए निवेश करें।


मधु केला फार्मा क्षेत्र में अच्छी कमाई के मौके देख रहे हैं। फार्मा सेक्टर में हालात बेहतर हो रहे हैं। पिछले कुछ सालों में इस सेक्टर में वैल्यूएशन अनाप-शनाप बढ़े थे। अब वैल्यूएशन बेहद आकर्षक हो गया है। उनका कहना है उन्होंने अपने पूरे करियर में फार्मा क्षेत्रों में इतना आकर्षक वैल्युएशन नहीं देखा।


मधु केला ने एएसएम लिस्ट में भी मजबूत फंडामेंटल वाले शेयरों में निवेश की सलाह दी है। एएसएम शेयर 30-40 फीसदी गिर जाएं तो खरीदना चाहिए। उनका कहना है कि ऐसा नहीं है कि जो शेयर निगरानी वाली सूची में गए हैं, वो सब खराब हैं। उन्होंने बताया कि उनके पोर्टफोलियो के कुछ शेयर एएसएम लिस्ट में हैं। हालांकि उन्होंने ये भी कहा कि एडिशनल सर्विलांस मेजर यानि एएसएम पर सफाई की जरूरत है।


सेबी की बढ़ती एएसएम सूचि पर मधु केला ने कहा कि किसी कंपनी का एएसएम में आना चिंता की बात नहीं  है। एएसएम के कारण गिरावट में भी खरीदारी के मौके मिल रहे हैं। एएसएम की सूची केवल टेक्निकल झटका भर है। एएसएम की सूची से घबराने की जरूरत नहीं हैं। गिरावट में निवेश के मौके तलाशने की जरूरत है।


हाल ही में आए कई कंपनियों के ऑडिटर्स के इस्तीफों पर बात करते हुए मधु केला ने कहा कि इन इस्तीफों के कारण कुछ और भी हो सकते हैं। ऑडिटर के इस्तीफे का मतलब कंपनी खराब होना नहीं है। इस स्थिति में हमें गिरावट में अच्छे शेयरों में निवेश के मौके तलाशने की जरूरत है।


मिडकैप शेयरों में आई गिरावट पर अपनी राय देते हुए मधु केला ने कहा कि मिडकैप में गिरावट आनी ही थी। मिडकैप शेयर काफी महंगे हो गए थे। मिडकैप में निवेश के लिए मैनेजमेंट की क्वालिटी और मजबूत फाइनेंशियल जरूरी है। वहीं लार्जकैप में ज्यादा गिरावट की आशंका नहीं है। ग्रामीण खपत वाले सेक्टर में निवेश के अच्छे मौके हैं।