Moneycontrol » समाचार » चर्चित स्टॉक खबरें

न चूके नजर, खबरों के दम पर इन शेयरों में रहेगी हलचल

प्रकाशित Thu, 29, 2018 पर 08:56  |  स्रोत : CNBC-Awaaz

शेयरों की हर हलचल पर पैनी नजर रखकर अपने निवेश को सुरक्षित जरूर किया जा सकता है। यहां हम बता रहे हैं ऐसे शेयर जो रहेंगे आज खबरों में और जिन पर होगी बाजार की नजर।


एचयूएल/जीएसके कंज्यूमर


सूत्रों के मुताबिक जीएसके कंज्यूमर को यूनिलीवर 400 करोड़ डॉलर में खरीद सकता है। जीएसके कंज्यूमर हेल्थ और यूनिलीवर के विलय का प्रस्ताव है।


टीसीएस


टीसीएस ने यूएस मैनेजमेंट कन्सल्टिंग फर्म ब्रिज प्वाइंट कैपिटल का अधिग्रहण कर लिया है। ब्रिज प्वाइंट की पूरी टीम टीसीएस को ज्वाइन करेगी।


जेट एयरवेज की सफाई


जेट एयरवेज ने एक्सचेंजों को सफाई दी है जिसमें कहा गया है कि नरेश गोयल के हिस्सा बेचने पर कोई चर्चा या फैसला नहीं हुआ है। नरेश गोयल की हिस्सेदारी बेचने की खबरें महज कयास हैं।


यस बैंक पर इक्रा


इक्रा ने यस बैंक के बॉन्ड को डाउनग्रेड किया है। इक्रा ने यस बैंक के टियर-2 बॉन्ड की रेटिंग AA+ से घटाकर AA की है। वहीं यस बैंक के 7030 करोड़ रुपये के इंफ्रा बॉन्ड की रेटिंग AA से घटाकर AA- की गई है। इक्रा का कहना है कि बैंक बोर्ड से इस्तीफों से कॉरपोरेट गवर्नेंस की चिंताएं बढ़ीं है। इस्तीफों की वजह से पूंजी जुटाने में दिक्कत संभव है। एसेट क्वालिटी सुधरी तो वॉच यस बैंक लिस्ट से हट सकता है।


इंडियाबुल्स वेंचर्स


इंडियाबुल्स वेंचर्स खबरों में है। कंपनी के प्रोमोटर समीर गहलोत ने ओपन मार्केट से 3.11 लाख शेयर खरीदे हैं।
 
गति


कंपनी के प्रोमोटर ने ओपन मार्केट से 2.5 लाख शेयर या 0.23 फीसदी हिस्सा खरीदा है। प्रोमोटर मनीष अग्रवाल बेनेफिट ट्रस्ट ने 2.5 लाख शेयर खरीदे हैं।


मवाना शुगर


मवाना शुगर कर्ज चुकाएगी, कंपनी के बोर्ड ने 146 करोड़ रुपये के सॉफ्ट लोन के इस्तेमाल की मंजूरी दे दी है। सॉफ्ट लोन की रकम किसानों का बकाया चुकाने में इस्तेमाल होगी। कंपनी सॉफ्ट लोन पर 5 फीसदी का ब्याज चुकाएगी।


मर्केटर ने पूंजी जुटाई


कंपनी ने एक पुराना जहाज 28.54 करोड़ रुपये में बेचा है। रकम का इस्तेमाल कर्ज चुकाने में होगा।


बैंक ऑफ बड़ौदा


एम्प्लॉई परचेज स्कीम के तहत नए शेयर जारी करने पर बैंक ऑफ बड़ौदा की बोर्ड बैठक होने वाली है।


आईएलएंडएफएस


आईएलएंडएफएस की संपत्तियां बेचने की प्रक्रिया शुरू हो गई है। कुछ संपत्तियां बेचने के लिए बोली मंगाई गई है। कंपनी की रीन्यूएबल एनर्जी एसेट बेचने के लिए बोली मंगाई गई है।