Moneycontrol » समाचार » चर्चित स्टॉक खबरें

खबरों वाले शेयर, इन पर बना रहे फोकस

प्रकाशित Mon, 04, 2019 पर 08:04  |  स्रोत : CNBC-Awaaz

शेयरों की हर हलचल पर पैनी नजर रखकर अपने निवेश को सुरक्षित जरूर किया जा सकता है। यहां हम बता रहे हैं ऐसे शेयर जो रहेंगे आज खबरों में और जिन पर होगी बाजार की नजर।


डीएचएफएल


डीएचएफएल के प्रोमोटर ने आधार हाउसिंग को बेच दिया है। कंपनी के प्रमोटर वाधवान ग्लोबल कैपिटल ने ब्लैकस्टोन को आधार हाउसिंग का 70 फीसदी हिस्सा बेचा है। डीएचएफएल भी आधार हाउसिंग में अपना हिस्सा बेचेगा। आधार हाउसिंग फाइनेंस में ब्लैकस्टोन 800 करोड़ रुपये लगाएगा। इस बीच केयर रेटिंग ने डीएचएफएल के 1.12 लाख करोड़ के लोन की रेटिंग घटा दी है।


रिलायंस कम्युनिकेशंस
 
रिलायंस कम्युनिकेशंस दिवालिया होने की अर्जी देगी। कंपनी के बोर्ड ने एनसीएलटी में अर्जी देने का फैसला किया है। 12 महीनों में लेंडर्स से समझौता नहीं होने पर ये फैसला लिया गया है।


हीरो मोटो


जनवरी में हीरो मोटो की बिक्री सालाना आधार पर 9.15 फीसदी घटकर 582,756 यूनिट रही है।


टाइटन


वित्त वर्ष 2019 की तीसरी तिमाही में टाइटन का मुनाफा 35 फीसदी बढ़कर 416  करोड़ रुपये हो गया है। वित्त वर्ष 2018 की तीसरी तिमाही में टाइटन का मुनाफा 308.2 करोड़ रुपये रहा था।


वित्त वर्ष 2019 की तीसरी तिमाही में टाइटन की आय 34.4 फीसदी बढ़कर 5,672.2 करोड़ रुपये हो गया है। वित्त वर्ष 2018 की तीसरी तिमाही में टाइटन की आय 4,224.8 करोड़ रुपये रहा थी।


सालाना आधार पर वित्त वर्ष 2019 की तीसरी तिमाही में टाइटन की एबिटडा 444.8 करोड़ रुपये से बढ़कर 584.2 करोड़ रुपये रही है। साल दर साल आधार पर वित्त वर्ष 2019 की तीसरी तिमाही में टाइटन की एबिटडा मार्जिन 10.5 फीसदी से घटकर 10.3 फीसदी रही है।


बीईएमएल


वित्त वर्ष 2019 की तीसरी तिमाही में बीईएमएल को 44 करोड़ रुपये का मुनाफा हुआ है। वित्त वर्ष 2018 की तीसरी तिमाही में बीईएमएल का मुनाफा 16.6 करोड़ रुपये रहा था।


वित्त वर्ष 2019 की तीसरी तिमाही में बीईएमएल की आय 26.3 फीसदी बढ़कर 923.8 करोड़ रुपये हो गया है। वित्त वर्ष 2018 की तीसरी तिमाही में बीईएमएल की आय 731.5 करोड़ रुपये रहा थी।


सालाना आधार पर वित्त वर्ष 2019 की तीसरी तिमाही में बीईएमएल की एबिटडा 41.5 करोड़ रुपये से बढ़कर 75 करोड़ रुपये रही है। साल दर साल आधार पर वित्त वर्ष 2019 की तीसरी तिमाही में बीईएमएल की एबिटडा मार्जिन 5.6 फीसदी से बढ़कर 8 फीसदी रही है।


डिवीज लैब


वित्त वर्ष 2019 की तीसरी तिमाही में डिवीज लैब्स का मुनाफा 68.9 फीसदी बढ़कर 379.4 करोड़ रुपये हो गया है। वित्त वर्ष 2018 की तीसरी तिमाही में डिवीज लैब्स का मुनाफा 224.6 करोड़ रुपये रहा था।


वित्त वर्ष 2019 की तीसरी तिमाही में डिवीज लैब्स की आय 29.4 फीसदी बढ़कर 1,342.9 करोड़ रुपये हो गया है। वित्त वर्ष 2018 की तीसरी तिमाही में डिवीज लैब्स की आय 1,037.8 करोड़ रुपये रहा थी।


सालाना आधार पर वित्त वर्ष 2019 की तीसरी तिमाही में डिवीज लैब्स की एबिटडा 371.4 करोड़ रुपये से बढ़कर 523.3 करोड़ रुपये रही है। साल दर साल आधार पर वित्त वर्ष 2019 की तीसरी तिमाही में डिवीज लैब्स की एबिटडा मार्जिन 35.8 फीसदी से बढ़कर 38.9 फीसदी रही है।


सायंट


सायंट ने शेयर बायबैक का एलान किया है। ये बायबैक 700 रुपये प्रति शेयर के भाव पर होगा। कंपनी बायबैक पर 200 करोड़ रुपये खर्च करेगी।


टाटा मोटर्स


जनवरी में टाटा मोटर्स की घरेलू बिक्री 8 फीसदी घटकर 54915 यूनिट रही है। जनवरी 2018 में टाटा मोटर्स की घरेलू बिक्री 59441 यूनिट रही थी। जनवरी में टाटा मोटर्स की कमर्शियल वाहन बिक्री 6 फीसदी घटकर 37089 यूनिट रही है। जनवरी 2018 में टाटा मोटर्स की कमर्शियल वाहन बिक्री 39386 यूनिट रही थी।


जनवरी में टाटा मोटर्स की मीडियम एंड हैवी कमर्शियल वाहन बिक्री 9 फीसदी घटकर 11694 यूनिट रही है। जनवरी 2018 में टाटा मोटर्स की मीडियम एंड हैवी कमर्शियल वाहन बिक्री 12804 यूनिट रही थी।


जेएसपीएल


वित्त वर्ष 2019 की तीसरी तिमाही में जेएसपीएल को 87.2 करोड़ रुपये का घाटा हुआ है। वित्त वर्ष 2018 की तीसरी तिमाही में जेएसपीएल को 276.9 करोड़ रुपये का घाटा हुआ था।


वित्त वर्ष 2019 की तीसरी तिमाही में जेएसपीएल की आय 36.8 फीसदी बढ़कर 9,565.5 करोड़ रुपये हो गया है। वित्त वर्ष 2018 की तीसरी तिमाही में जेएसपीएल की आय 6,992.5 करोड़ रुपये रहा थी।


सालाना आधार पर वित्त वर्ष 2019 की तीसरी तिमाही में जेएसपीएल की एबिटडा 1,606.4 करोड़ रुपये से बढ़कर 2,076.8 करोड़ रुपये रही है। साल दर साल आधार पर वित्त वर्ष 2019 की तीसरी तिमाही में जेएसपीएल की एबिटडा मार्जिन 22.9 फीसदी से घटकर 21.7 फीसदी रही है।


सिंडीकेट


वित्त वर्ष 2019 की तीसरी तिमाही में सिंडिकेट बैंक को 107.9 करोड़ रुपये का मुनाफा हुआ है जबकि वित्त वर्ष 2018 की तीसरी तिमाही में सिंडिकेट बैंक को 869.7 करोड़ रुपये का घाटा हुआ था।


वित्त वर्ष 2019 की तीसरी तिमाही में सिंडिकेट बैंक की ब्याज आय 0.3 फीसदी घटकर 1,618.5 करोड़ रुपये पर पहुंच गई है। वित्त वर्ष 2018 की तीसरी तिमाही में सिंडिकेट बैंक की ब्याज आय 1,623  करोड़ रुपये रही थी।


तिमाही दर तिमाही आधार पर अक्टूबर-दिसंबर तिमाही में सिंडिकेट बैंक का ग्रॉस एनपीए 12.98 फीसदी से घटकर 12.54 फीसदी रहा है। तिमाही आधार पर अक्टूबर-दिसंबर तिमाही में सिंडिकेट बैंक का नेट एनपीए 6.83 फीसदी से घटकर 6.75 फीसदी रहा है।


तिमाही आधार पर तीसरी तिमाही में सिंडिकेट बैंक की प्रोविजनिंग 2,217.2 करोड़ रुपये से घटकर 497 करोड़ रुपये रही है।


मॉयल


वित्त वर्ष 2019 की तीसरी तिमाही में मॉयल का मुनाफा 15.9 फीसदी बढ़कर 120.2 करोड़ रुपये हो गया है। वित्त वर्ष 2018 की तीसरी तिमाही में मॉयल का मुनाफा 103.7 करोड़ रुपये रहा था।


वित्त वर्ष 2019 की तीसरी तिमाही में मॉयल की आय 11 फीसदी बढ़कर 332.7 करोड़ रुपये हो गया है। वित्त वर्ष 2018 की तीसरी तिमाही में मॉयल की आय 299.8 करोड़ रुपये रहा थी।


सालाना आधार पर वित्त वर्ष 2019 की तीसरी तिमाही में मॉयल की एबिटडा 122.8 करोड़ रुपये से बढ़कर 154.5 करोड़ रुपये रही है। साल दर साल आधार पर वित्त वर्ष 2019 की तीसरी तिमाही में मॉयल की एबिटडा मार्जिन 40.9 फीसदी से बढ़कर 46.4 फीसदी रही है।


सेंट्रल बैंक ऑफ इंडिया


वित्त वर्ष 2019 की तीसरी तिमाही में सेंट्रल बैंक ऑफ इंडिया को 718.2 करोड़ रुपये का घाटा हुआ है जबकि वित्त वर्ष 2018 की तीसरी तिमाही में सेंट्रल बैंक ऑफ इंडिया को 1,664.2 करोड़ रुपये का घाटा हुआ था।


वित्त वर्ष 2019 की तीसरी तिमाही में सेंट्रल बैंक ऑफ इंडिया की ब्याज आय 8.2 फीसदी घटकर 1,816 करोड़ रुपये पर पहुंच गई है। वित्त वर्ष 2018 की तीसरी तिमाही में सेंट्रल बैंक ऑफ इंडिया की ब्याज आय 1,977.5 करोड़ रुपये रही थी।


तिमाही दर तिमाही आधार पर अक्टूबर-दिसंबर तिमाही में सेंट्रल बैंक ऑफ इंडिया का ग्रॉस एनपीए 21.48 फीसदी से घटकर 20.64 फीसदी रहा है। तिमाही आधार पर अक्टूबर-दिसंबर तिमाही में सेंट्रल बैंक ऑफ इंडिया का नेट एनपीए 10.36 फीसदी से घटकर 10.32 फीसदी रहा है।


जेके सीमेंट


वित्त वर्ष 2019 की तीसरी तिमाही में जेके सीमेंट का मुनाफा 16.5 फीसदी घटकर 60.9 करोड़ रुपये हो गया है। वित्त वर्ष 2018 की तीसरी तिमाही में जेके सीमेंट का मुनाफा 72.9 करोड़ रुपये रहा था।


वित्त वर्ष 2019 की तीसरी तिमाही में जेके सीमेंट की आय 13 फीसदी बढ़कर 1,273 करोड़ रुपये हो गया है। वित्त वर्ष 2018 की तीसरी तिमाही में जेके सीमेंट की आय 1,126 करोड़ रुपये रहा थी।


सालाना आधार पर वित्त वर्ष 2019 की तीसरी तिमाही में जेके सीमेंट की एबिटडा 170 करोड़ रुपये से बढ़कर 210.3 करोड़ रुपये रही है। साल दर साल आधार पर वित्त वर्ष 2019 की तीसरी तिमाही में जेके सीमेंट की एबिटडा मार्जिन 15 फीसदी से बढ़कर 16.5 फीसदी रही है।


गॉडफ्रे फिलिप्स


वित्त वर्ष 2019 की तीसरी तिमाही में गॉडफ्रे फिलिप्स का मुनाफा 26.7 फीसदी बढ़कर 78.4 करोड़ रुपये हो गया है। वित्त वर्ष 2018 की तीसरी तिमाही में गॉडफ्रे फिलिप्स का मुनाफा 61.9 करोड़ रुपये रहा था।


वित्त वर्ष 2019 की तीसरी तिमाही में गॉडफ्रे फिलिप्स की आय 13.4 फीसदी बढ़कर 659.5 करोड़ रुपये हो गया है। वित्त वर्ष 2018 की तीसरी तिमाही में गॉडफ्रे फिलिप्स की आय 581.6 करोड़ रुपये रहा थी।


सालाना आधार पर वित्त वर्ष 2019 की तीसरी तिमाही में गॉडफ्रे फिलिप्स की एबिटडा 91 करोड़ रुपये से बढ़कर 115.2 करोड़ रुपये रही है। साल दर साल आधार पर वित्त वर्ष 2019 की तीसरी तिमाही में गॉडफ्रे फिलिप्स की एबिटडा मार्जिन 15.6 फीसदी से बढ़कर 17.4 फीसदी रही है।