Moneycontrol » समाचार » चर्चित स्टॉक खबरें

खबरों के दम पर, इन शेयरों में आज जरूर रहेगी हलचल

प्रकाशित Wed, 06, 2019 पर 07:43  |  स्रोत : CNBC-Awaaz

शेयरों की हर हलचल पर पैनी नजर रखकर अपने निवेश को सुरक्षित जरूर किया जा सकता है। यहां हम बता रहे हैं ऐसे शेयर जो रहेंगे आज खबरों में और जिन पर होगी बाजार की नजर।


जुबिलेंट फूड


जुबिलेंट फूड के प्रोमोटर्स ने रॉयल्टी का फैसला वापस ले लिया है। जुबिलेंट फूड से 0.25 फीसदी रॉयल्टी का फैसला वापस लिया गया है। प्रोमोटर जुबिलेंट एन्प्रो ने 5 घंटे में फैसला पलट दिया। कल शेयर की जोरदार पिटाई के बाद ये फैसला वापस लिया गया है।


चीनी कंपनियों को राहत संभव


एथेनॉल प्लांट लगाने पर सब्सिडी को मंजूरी मिल गई है। खाद्य मंत्रालय ने इस प्रस्ताव को मंजूरी दे दी है। इससे संबंधित मसौदा कैबिनेट में भेजा गया है। आज शाम कैबिनेट की बैठक में इस प्रताव को मंजूरी संभव है। अब गैर चीनी कंपनियों को भी मोलासिस से सीधे एथेनॉल बनाने के लिए सॉफ्ट लोन मिलेगा। कर्ज पर ब्याज में अधिकतम 5 फीसदी सालाना की छूट मिलेगी। ब्याज में छूट 5 साल के लिए मिलेगी। इसके लिए करीब 12000 करोड़ रुपये के सॉफ्ट लोन का प्रस्ताव है। 1300 करोड़ ब्याज सब्सिडी देने का प्रस्ताव है।


टेक महिंद्रा


वित्त वर्ष 2019 की तीसरी तिमाही में टेक महिंद्रा का मुनाफा 13 फीसदी बढ़कर 1,203 करोड़ रुपये हो गया है। वित्त वर्ष 2019 की दूसरी तिमाही में टेक महिंद्रा का मुनाफा 1,064 करोड़ रुपये रहा था।


वित्त वर्ष 2019 की तीसरी तिमाही में टेक महिंद्रा की आय 14.6 फीसदी बढ़कर 8,944 करोड़ रुपये हो गया है। वित्त वर्ष 2019 की दूसरी तिमाही में टेक महिंद्रा की आय 8,630 करोड़ रुपये रहा थी।


तिमाही दर तिमाही आधार पर वित्त वर्ष 2019 की तीसरी तिमाही में टेक महिंद्रा की एबिटडा 1,324.3 करोड़ रुपये से बढ़कर 1,439 करोड़ रुपये रही है। तिमाही आधार पर वित्त वर्ष 2019 की तीसरी तिमाही में टेक महिंद्रा की एबिटडा मार्जिन 15.3 फीसदी से बढ़कर 16.1 फीसदी रही है।


एचपीसीएल


वित्त वर्ष 2019 की तीसरी तिमाही में एचपीसीएल का मुनाफा 77.3 फीसदी घटकर 247.5 करोड़ रुपये हो गया है। वित्त वर्ष 2019 की दूसरी तिमाही में एचपीसीएल का मुनाफा 1,092 करोड़ रुपये रहा था।


वित्त वर्ष 2019 की तीसरी तिमाही में एचपीसीएल की आय 6.8 फीसदी बढ़कर 72,111.8 करोड़ रुपये हो गया है। वित्त वर्ष 2019 की दूसरी तिमाही में एचपीसीएल की आय 67,518.2 करोड़ रुपये रहा थी।


तिमाही दर तिमाही आधार पर वित्त वर्ष 2019 की तीसरी तिमाही में एचपीसीएल की एबिटडा 3,009 करोड़ रुपये से घटकर 963.2 करोड़ रुपये रही है। तिमाही आधार पर वित्त वर्ष 2019 की तीसरी तिमाही में एचपीसीएल की एबिटडा मार्जिन 4.5 फीसदी से घटकर 1.3 फीसदी रही है।


आईडीएफसी फर्स्ट


वित्त वर्ष 2019 की तीसरी तिमाही में आईडीएफसी फर्स्ट को 1538 करोड़ रुपये का घाटा हुआ है। वित्त वर्ष 2018 की तीसरी तिमाही में आईडीएफसी फर्स्ट को 146.1  करोड़ रुपये का घाटा हुआ था।


वित्त वर्ष 2019 की तीसरी तिमाही में आईडीएफसी फर्स्ट की ब्याज आय 1145 करोड़ रुपये रही है। वित्त वर्ष 2018 की तीसरी तिमाही में आईडीएफसी फर्स्ट की ब्याज आय 494.9 करोड़ रुपये रही थी।


तिमाही आधार पर तीसरी तिमाही में आईडीएफसी फर्स्ट का नेट एनपीए 0.59 फीसदी से बढ़कर 0.95 फीसदी हो गया है। वहीं ग्रॉस एनपीए 1.63 फीसदी से बढ़कर 1.97 फीसदी हो गया है।


वी-मार्ट


वित्त वर्ष 2019 की तीसरी तिमाही में वी-मार्ट का मुनाफा 13.6 फीसदी बढ़कर 41.7 करोड़ रुपये रहा है। वित्त वर्ष 2019 की तीसरी तिमाही में वी-मार्ट का मुनाफा 36.7 करोड़ रुपये रहा है।


वित्त वर्ष 2019 की तीसरी तिमाही में वी-मार्ट की आय 26.6 फीसदी बढ़कर 465.8 करोड़ रुपये रही है। वित्त वर्ष 2019 की तीसरी तिमाही में वी-मार्ट की आय 368 करोड़ रुपये रही थी।


यूनियन बैंक


वित्त वर्ष 2019 की तीसरी तिमाही में यूनियन बैंक को 1139.2 करोड़ रुपये का घाटा हुआ है। वित्त वर्ष 2018 की तीसरी तिमाही में यूनियन बैंक को 637.5 करोड़ रुपये का घाटा हुआ था।


वित्त वर्ष 2019 की तीसरी तिमाही में यूनियन बैंक की ब्याज आय 9.2 फीसदी बढ़कर 380 करोड़ रुपये रही है। वित्त वर्ष 2018 की तीसरी तिमाही में यूनियन बैंक की ब्याज आय 347.9 करोड़ रुपये रही थी।


तिमाही आधार पर तीसरी तिमाही में यूनियन बैंक का नेट एनपीए 14.36 फीसदी से घटकर 12.08 फीसदी हो गया है। वहीं ग्रॉस एनपीए 22.69 फीसदी से घटकर 21.27 फीसदी हो गया है।