Charanjit Singh Channi: जानें कौन हैं चरणजीत सिंह चन्नी, जिन्हें कांग्रेस ने दी पंजाब की बागडोर

Charanjit Singh Channi: जानें कौन हैं चरणजीत सिंह चन्नी, जिन्हें कांग्रेस ने दी पंजाब की बागडोर

चन्नी दलित सिख समुदाय से आते हैं और अमरिंदर सरकार में तकनीकी शिक्षा मंत्री थे

अपडेटेड Sep 19, 2021 पर 8:35 PM | स्रोत : Moneycontrol.com

Punjab Congress Crisis: तीन बार के कांग्रेस विधायक चरणजीत सिंह चन्नी (Charanjit Singh Channi) पंजाब के नए कैप्टन होंगे। चरणजीत सिंह चन्नी को रविवार को पार्टी विधायक दल का नया नेता चुना गया और अब वह राज्य के अगले मुख्यमंत्री होंगे। वह कैप्टन अमरिंदर सिंह (Captain Amarinder Singh) की जगह राज्य का नेतृत्व करेंगे, जिन्होंने शनिवार को अचानक अपने पद से इस्तीफा दे दिया था।

इस बारे में वरिष्ठ कांग्रेस नेता हरीश रावत (Harish Rawat) ने ट्वीट कर जानकारी दी है। रावत ने ट्वीट कर कहा कि चरणजीत सिंह चन्नी को कांग्रेस की विधायक दल की बैठक में एकमत से पंजाब का मुख्यमंत्री बनाए जाने का फैसला लिया गया है। विधायक दल का नेता चुने जाने के बाद समेत कांग्रेस नेता रविवार शाम को राज्यपाल से मुलाकात कर सरकार बनाने का दावा पेश कर दिया।

चरणजीत सिंह चन्नी होंगे पंजाब के नए मुख्यमंत्री, सोमवार सुबह 11 बजे लेंगे शपथ

राज्यपाल से मिलने के बाद पंजाब के पहले दलित सीएम चन्नी ने पत्रकारों से बताया कि सोमवार को सुबह 11 बजे शपथ ग्रहण समारोह होगा। इससे पहले कयास लगाए जा रहे थे कि सुखजिंदर सिंह रंधावा को मुख्यमंत्री बनाया जा सकता है, लेकिन आला कमान ने चरणजीत सिंह चन्नी के नाम पर मुहर लगाई है। कांग्रेस के पंजाब प्रभारी हरीश रावत ने बताया कि चन्नी को कांग्रेस विधायक दल का नेता चुना गया।

कौन हैं चरणजीत सिंह चन्नी?

पंजाब के मनोनीत मुख्यमंत्री चरणजीत सिंह चन्नी (Who is Charanjit Singh Channi) दलित सिख समुदाय से आते हैं और वह फिलहाल अमरिंदर सरकार में तकनीकी शिक्षा मंत्री थे। यह पहली बार है, जब पंजाब में दलित नेता को राज्य की कमान सौंपी गई है। चन्नी पंजाब के पहले दलित-सिख मुख्यमंत्री होंगे

58 वर्षीय चन्नी पंजाब राज्य के चमकौर साहिब (Chamkur Sahib) निर्वाचन क्षेत्र से कांग्रेस के विधायक हैं। उन्होंने 2017 के चुनाव में आम आदमी पार्टी के चरनजीत सिंह को करीब 12 हजार वोटों के अंतर से हराया था। इससे पहले 2012 के विधानसभा चुनावों में उन्होंने करीब 3,600 वोट से जीत दर्ज की थी।

वह कांग्रेस नेता राहुल गांधी के करीबी बताए जाते हैं। चमकौर साहिब से वह तीसरी बार विधायक हैं। चिन्नी कांग्रेस आलाकमान द्वारा घोषित पहले अनुसूचित जाति के मुख्यमंत्री हैं। चरणजीत सिंह पंजाब में एक मुखर नेता के रूप में जाने जाते हैं।

वह राज्य में एक अहम दलित सिख चेहरा माने जाते हैं। कहा जा रहा है कि दलित नेता को राज्य की कमान देकर कांग्रेस ने बड़ी आबादी को साधने का काम किया है। उन्हें सीएम बनाकर कांग्रेस हिंदू, दलित और सिखों को एक साथ साधने का प्रयास करेगी।

बीजेपी ने पहले घोषणा की थी कि अगर पंजाब में वह सत्ता में आती है तो एक दलित को मुख्यमंत्री बनाया जाएगा। जबकि आगामी चुनाव BSP के साथ गठबंधन में लड़ रही अकाली दल ने भी कहा था कि उसका उपमुख्यमंत्री दलित समुदाय से होगा।

अमरिंदर सिंह ने शनिवार को मुख्यमंत्री पद से इस्तीफा दे दिया था और कहा था कि विधायकों की बार-बार बैठक बुलाए जाने से उन्होंने अपमानित महसूस किया, जिसके बाद उन्होंने यह कदम उठाया। सिंह ने चिन्नी को सीएम बनाए जाने पर बधाई दी है। चन्नी उन राज्य नेताओं में से थे जिन्होंने अमरिंदर के खिलाफ बगावत का झंडा सबसे पहले बुलंद किया था।

सोशल मीडिया अपडेट्स के लिए हमें Facebook (https://www.facebook.com/moneycontrolhindi/) और Twitter (https://twitter.com/MoneycontrolH) पर फॉलो करें।

MoneyControl News

MoneyControl News

First Published: Sep 19, 2021 8:35 PM

सब समाचार

+ और भी पढ़ें