Power Crisis: देश के बिजली संकट से किसे हो रहा है सबसे ज्यादा फायदा?

Power Crisis: देश के बिजली संकट से किसे हो रहा है सबसे ज्यादा फायदा?

पावर एक्सचेंज पर बिजली की कीमतें करीब तीन गुना बढ़ गई हैं

अपडेटेड Oct 16, 2021 पर 9:00 PM | स्रोत : Moneycontrol.com

कोयले की कमी के चलते जहां एक तरफ देश बिजली संकट से जूझ रहा है। वहीं दूसरी तरफ बिजली उत्पादन करने वाली कंपनियां को इससे फायदा होते हुए दिख रहा है। बिजली कंपनियां पावर एक्सचेंज के जरिए बिजली बेचती हैं, जहां कीमतें करीब तीन गुनी हो गई हैं।

पावर सेक्रेटरी आलोक कुमार ने इस संबंध में राज्यों को चेतावनी दी है और उनसे कहा कि अगर आयातित कोयला आधारित पावर प्लांट किसी वजह से अपनी क्षमता मुताबिक उत्पादन या आपूर्ति से इनकार करते हैं, तो उनके खिलाफ कार्रवाई करें।

CWC Meeting: राहुल गांधी दोबारा बनेंगे कांग्रेस अध्यक्ष? प्रस्ताव पर बोले, मैं विचार करूंगा
 
ट्रांसमिशन कंपनियां इस समय 16-18 रुपये प्रति यूनिट के दर पर बिजली बेच रही हैं, जो आमतौर पर 4-6 रुपये प्रति यूनिट रहती है। हिंदुस्तान पावर लिमिटेड, अडानी पावर स्टेज-II और तीस्ता स्टेज-III, सबसे अधिक 18 रुपये प्रति यूनिट चार्ज कर रही हैं।

टाटा पावर, अडानी पावर, एस्सार एनर्जी आदि के पास आयातित कोल आधारित प्लांट हैं। हाल ही में इन कंपनियों के साथ गुजरात, महाराष्ट्र, राजस्थान और पंजाब के अधिकारियों ने बैठक की थी, जिनका प्लांट के साथ बिजली को लेकर समझौता है। इस बैठक के दौरान पावर सेक्रेटरी आलोक कुमार भी थे और उन्होंने कई अहम टिप्पणियां कीं।

मल्टीबैगर रिटर्न देने वाले इस स्टॉक में लगातार हिस्सेदारी घटा रहे हैं Radhakishan Damani, एक्सपर्ट भी हैरान

उन्होंने कहा कि उत्पाद के बाद उपलब्ध बिजली को किसी भी बहाने से देने से इनकार करना  "अक्षम्य" है। उन्होंने बिजली उत्पादन कंपनियों की ओर से मार्केट में खेले जा किसी भी तरह के खेल को लेकर भी राज्यों को आगाह किया। उन्होंने कहा, "अगर विक्रेता के तरफ से किसी तरह के खेल का पता चलता है, जैसे कि वह समझौते के तहत बिजली सप्लाई न करके उसे मार्केट में बेच रहा है, तो ऐसे मामले को बिना किसी देरी के रेगुलेटर के ध्यान में लाया जाना चाहिए।"

सोशल मीडिया अपडेट्स के लिए हमें Facebook (https://www.facebook.com/moneycontrolhindi/) और Twitter (https://twitter.com/MoneycontrolH) पर फॉलो करें।

MoneyControl News

MoneyControl News

First Published: Oct 16, 2021 9:00 PM

सब समाचार

+ और भी पढ़ें