Moneycontrol » समाचार » बीमा

एयर टिकट में बीमा का पैसा बचाना कहीं महंगा न पड़ जाए

प्रकाशित Fri, 19, 2019 पर 11:34  |  स्रोत : Moneycontrol.com

जमीन पर आ चुकी जेट एयरवेज एयरलाइंस ने अपने सभी ऑपरेशन बंद कर दिए हैं। इस एयरलाइंस के साथ एडवांस में टिकट बुक कराने वाले यात्री अब अपने रिफंड की समस्या से जूझ रहे हैं।


एयरलाइंस वैसे तो फ्लाइट्स कैंसल होने पर टिकट के पैसे रिफंड कर देती हैं। लेकिन फ्लाइट अगर डिले होती है तो वो आपके पैसे चुकाने के लिए बाध्य नहीं होतीं। साथ ही अगर ऐसी कोई स्थिति पैदा होती है कि फ्लाइट के कैंसल होने में एयरलाइंस का कंट्रोल नहीं है, तो एयरलाइंस की ओर से उपलब्ध कराए जा रहे दूसरे विकल्प को न चुनने पर यात्री को किसी तरह का कम्पनसेशन नहीं मिलता।


लेकिन इन सारी स्थितियों से बचने के लिए आप पहले ही ट्रैवल इंश्योरेंस ले सकते हैं। ट्रैवल इंश्योरेंस आपके पैसे तो बचाता ही है, अचानक पैदा हुई समस्याओं को भी कवर करता है।


क्या हैं फायदे


ट्रैवल इंश्योरेंस लेने पर पैसेंजर को फ्लाइट के कैंसल होने के साथ ही डिले होने की स्थिति में भी यात्री को मुआवजा मिलेगा। अगर एयरलाइंस की ओर से फ्लाइट कैंसल या डिले की गई है तो इंश्योरर की ओर से यात्री को इंश्योरेंस लेते वक्त ट्रिप डिले एंड मिस्ड कनेक्शन के तहत तयशुदा रकम मुआवजे में मिलेगी लेकिन अगर फ्लाइट यात्री की गलती की वजह से मिस हुई है तो इंश्योरर इसकी कोई भरपाई नहीं करेगा।


इंश्योरेंस लेते वक्त कैंसिलेशन और डिले दोनों स्थितियों का कवर लेना चाहिए। खासकर विदेश यात्रा के समय। विदेश यात्रा के समय यूएस और 26 यूरोपीय देशों की यात्रा के लिए इशू किए जाने वाले शेनजेन वीजा के साथ ट्रैवल इंश्योरेंस लेना अनिवार्य है।


विदेश यात्रा के समय ट्रैवल इंश्योरेंस लेना और भी अनिवार्य हो जाता है क्योंकि ऐसी फ्लाइट्स में ऐसी स्थितियां बन सकती हैं, जिनपर एयरलाइन का कोई कंट्रोल न हो। अगर आपने इंश्योरेंस नहीं लिया है और इस दौरान राजनीतिक अस्थिरता या आतंकी हमले जैसी कोई स्थिति आ जाती है तो एयरलाइन आपको मुआवजा भरने के लिए बाध्य नहीं है। लेकिन अगर आपने इंश्योरेंस लिया है तो आपको इसका मुआवजा मिलेगा। इसके लिए आपको अपनी पॉलिसी में ये ऑप्शन चुनने होंगे।


इंश्योरेंस लेते वक्त मेडिकल और नॉन-मेडिकल इमरजेंसी के लिए कवर लेना न भूलें।  अगर आपको मेडिकल एक्सपेंसेस की जरूरत पड़ती है तो उसकी भरपाई भी इंश्योरेंस कंपनी करेगी। इसमें आपको प्राकृतिक कारणों से हुए कैंसिलेशन या डिले पर कवर मिलेगा। वहीं सामान खोने पर भी इंश्योरेंस कंपनी इसकी भरपाई करेगी। इसके लिए आपको पॉलिसी में अपने सामान की डिटेल और कीमत देनी होगी, जिसके हिसाब से आपको कवर मिलेगा। साथ ही अगर आपने अपनी पॉलिसी में कनेक्टिंग फ्लाइट के मिस होने या होटल में ज्यादा स्टे करने के लिए ऑप्शन भी चुना है तो आपको इसके लिए भी कवर मिलेगा।


बस याद रखिए कि आप जितने ज्यादा कवर के लिए अप्लाई करेंगे, आपको उतना ज्यादा प्रीमियम भरना पड़ेगा। प्रीमियम का अमाउंट आपकी ट्रिप के दिन, आपके सहयात्रियों और विजिटिंग लोकेशन्स की संख्या के हिसाब से तय होगा।


इंश्योरेंस कंपनियां इंडिविजुअल्स, फैमिली प्लान, सीनियर सिटीजन या स्टूडेंट प्लान के साथ साथ बिजनेस ट्रैवलर्स के लिए भी अलग अलग ट्रैवल इंश्योरेंस प्लान देती हैं। तो अपने हिसाब से इंश्योरेंस प्लान चुनिए और बिना किसी टेंशन यात्रा का लुत्फ उठाइए।