Moneycontrol » समाचार » बीमा

योर मनी: कैसे पाएं कम प्रीमियम में ज्यादा कवर

अगर आप कम प्रीमियम में ज्यादा कवर ढ़ूंढ़ रहे है तो आइए जानते है किफायती हेल्थ इंश्योरेंस के टिप्स।
अपडेटेड Nov 30, 2016 पर 16:15  |  स्रोत : CNBC-Awaaz

अगर आप महंगे हेल्थ इंश्योरेंस से परेशान है और कम प्रीमियम में ज्यादा कवर ढ़ूंढ़ रहे है तो आइए जानते है रूंगटा सिक्योरिटीज के हर्षवर्धन रूंगटा से किफायती हेल्थ इंश्योरेंस के टिप्स और साथ ही लेंगे इंश्योरेंस से जुड़े आपके सभी सवाल।


सस्ते इंश्योरेंस के टिप्स

इलाज का खर्च लगातार बढ़ता जा रहा है। लिहाजा सभी को अपने लिए अलग से हेल्थ इंश्योरेंस लेना चाहिए। हेल्थ इंश्योरेंस में सामान्य रूप से 5-10 लाख रुपये के हेल्थ कवर की सलाह दी जाती है, लेकिन 5-10 लाख रुपये का हेल्थ कवर कई बार नाकाफी हो सकता है और 10-15 लाख रुपये का हेल्थ प्लान काफी महंगा पड़ता है। ऐसे में अगर टॉप या सुपर टॉप प्लान देखें तो इसमें कम प्रीमियम में आप ज्यादा कवर ले सकते हैं। साथ हीं बेस प्लान के साथ फैमिली फ्लोटर सुपर टॉप प्लान भी ले सकते हैं। टॉप अप प्लान के मुकाबले सुपर टॉप प्लान फायदेमंद होता है।


सुपर टॉप अप प्लान Vs टॉप अप प्लान

बेस कवर की सीमा खत्म होने के बाद सुपर टॉप प्लान से क्लेम मिलता है। बेस प्लान की सीमा में सभी क्लेम की राशि शामिल होती है। वहीं टॉप अप प्लान में हरेक क्लेम बेस कवर के ऊपर जाने पर मिलता है। एचडीएफसी जनरल इंश्योरेंस सुपर टॉप अप, बजाज आलियांज टॉप अप, न्यू इंडिया टॉप अप मेडिक्लेम और यूनाइटेड इंडिया सुपर टॉप अप जैसे टॉप अप और सुपर टॉप अप प्लान देख सकते हैं। 


अगर 4 लोगों का परिवार है और उसमें प्रति व्यक्ति 5 लाख रुपये का कवर लेते है तो सालाना प्रीमियम 20000 रुपये का भरना होगा। वहीं 15 लाख रुपये के हेल्थ प्लान के लिए सालाना प्रीमियम 50000 रुपये रुपये का भरना होगा। लेकिन अगर आप 5 लाख रुपये के बेस कवर पर 20 लाख का सुपर टॉप अप लेते है तो फैमिली फ्लोटर कवर 20 लाख रुपये होगा और इसके लिए सालाना प्रीमियम 25000 रुपये होगा।


सवालः मेरी उम्र 30 साल है। पोस्टल लाइफ इंश्योरेंस 20 लाख रुपये का है और युगल सुरक्षा 10 लाख रुपये का है। क्या चुनी हुई इंश्योरेंस पॉलिसी सही है? और क्या किसी इंश्योरेंस पॉलिसी से निकलकर म्युचुअल फंड मे निवेश कर सकते हैं?


जवाबः इंश्योरेंस परिवार और अपनी सुरक्षा के लिए होता है। आर्थिक लक्ष्यों को पूरा करने के लिए म्युचुअल फंड मे निवेश करते हैं। आर्थिक लक्ष्यों के लिए एफडी, पीपीएफ, डेट और इक्विटी फंड में निवेश कर सकते हैं। लाइफ इंश्योरेंस के लिए सामान्य टर्म प्लान खरीद सकते है और बचे हुए पैसे को म्युचुअल फंड में लगा सकते हैं।


सवालः टर्म प्लान क्या होता है?


जवाबः निवेश आधारित पॉलिसी में इंश्योरेंस कवर के साथ मैच्योरिटी बेनेफिट भी मिलता है। लेकिन टर्म प्लान में अनहोनी होने पर नॉमिनी को इंश्योरेंस का पैसा मिलता है। इंश्योरेंस को निवेश से अलग रखे और इंश्योरेंस के लिए टर्म प्लान खरीदें।