Moneycontrol » समाचार » बीमा

योर मनीः हेल्थ इंश्योरेंस और एनसीडी से जुड़े सवाल

योर मनी में लेंगे हेल्थ इंश्योरेंस और एनसीडी से जुड़े सवाल जनके जबाव देंगे रूंगटा सिक्योरिटीज के डायरेक्टर हर्षवर्धन रूंगटा।
अपडेटेड Jan 21, 2017 पर 15:03  |  स्रोत : CNBC-Awaaz

आज हम योर मनी में लेंगे हेल्थ इंश्योरेंस और एनसीडी से जुड़े सवाल जनके जबाव देंगे रूंगटा सिक्योरिटीज के डायरेक्टर हर्षवर्धन रूंगटा।


सवालः मां को डायबिटीज है, उनके लिए हेल्थ इंश्योरेंस खरीदना है, कौन सा हेल्थ इंश्योरेंस खरीदना बेहतर है?


जबावः मां को हेल्थ इंश्योरेंस मिलना मुश्किल है। पुरानी बीमारियों को देखते हुए इंश्योरेंस महंगा मिलेगा। आप हेल्थ इंश्योरेंस के लिए बजाज आलियांज, अपोलो म्युनिख या एचडीएफसी जनरल इंश्योरेंस देख सकते हैं।


सवालः क्या है एनसीडी और कौन सा एनसीडी बेहतर है?
जबावः एनसीडी यानि नॉन कन्वर्टिबल डिबेंचर। कॉर्पोरेट कंपनियों में निवेश विकल्प मिलता है। कॉर्पोरेट कंपनियों के लिए पैसे जुटाने का आसान विकल्प है। एफडी के मुकाबले एनसीडी में ब्याज दरें ज्यादा है।


कॉर्पोरेट्स के लिए एनसीडी से रकम जुटाना आसान होता है। एफडी के मुकाबले एनसीडी में ब्याज दरें ज्यादा है। क्रिसिल से एनसीडी को क्रेडिट रेटिंग मिलती है। एएए रेटिंग वाले एनसीडी में ब्याज दरें कम और जोखिम भी कम होता है।


सवालः क्या एनसीडी के जोखिम जानना आसान है।

जबावः
एनसीडी के लिए सेबी रिस्कोमीटर ला रही है। रिस्कोमीटर से एनसीडी का जोखिम पता चलेगा। रिस्कोमीटर से एनसीडी का जोखिम जानना आसान है। म्युचुअल फंड के लिए रिस्कोमीटर मौजूद है। रिस्कोमीटर कार के स्पीडोमीटर जैसा है। सेबी रिटेल निवेशकों के एसेट एलोकेशन के लिए भी नियम ला रही है।