Moneycontrol » समाचार » निवेश

NPS में निवेश के फायदे, जानिए क्या रिटायरमेंट के लिए NPS है काफी?

बदलते वक्त के साथ साथ रिटायरमेंट का concept भी बदल रहा। ऐसे में क्या NPS में रिटायरमेंट प्लान के लिए बेहतर है?
अपडेटेड Feb 27, 2020 पर 11:10  |  स्रोत : CNBC-Awaaz

बदलते वक्त के साथ साथ रिटायरमेंट का concept भी बदल रहा। ऐसे में जरूरी है के आप अपने रिटायरमेंट, और रिटायरमेंट के बाद की जिंदगी को जल्द से जल्द- फाइनेंशिलयी प्लान करें और इसके लिए जरूरी है एक आर्थिक रणनीति। योर मनी पर हमने लगाई है NPS की पाठशाला, जहां, NPS को लेकर तमाम बारीकियों के साथ साथ रिटायरमेंट से जुडे आपके सवालों के जवाब भी देंगें जिसमें हमारे साथ मौजूद है Subramoney.com के CEO PV Subramaniam और NSDL के एग्जीक्यूटिव वाइस प्रेसिडेंट अमित सिन्हा।



NPS खाता कैसे खुलवाएं?


स्कीम में निवेश के लिए NPS खाता जरूरी होता है। परमानेंट रिटायरमेंट अकाउंट नंबर मिलेगा। सबसे पहले टियर-1 अकाउंट खोलें। टियर-1 खाते से आप पैसे नहीं निकाल सकते है। टियर-1 खाते के बाद टियर-2 खाता खोलें। टियर-2 खाता रिटायरमेंट के लिए निवेश का अच्छा विकल्प है। इसमें पहले सरकारी कर्मचारी निवेश करते थे लेकिन अब हर कोई स्कीम में निवेश कर सकता है।
टियर-1 खाते का न्यूनतम निवेश 500 रुपये है जबकि टियर-2 खाते में न्यूनतम निवेश 1000 रुपये है। न्यूनतम बैलेंस ना रखने पर खाता फ्रीज हो जाएगा। NRI, OCI भी NPS में निवेश कर सकते हैं। 60 से पहले खाता बंद करने पर 10 साल निवेश करना होगा। खाता बंद होने पर 80% निवेश एन्युटी में जरूरी है।
 
NPS से कहां होता है निवेश?


 इक्विटी, बॉन्ड, सरकारी सिक्योरिटीज में निवेश होता है।  इक्विटी में अधिकतम 75% निवेश होता है। 35 साल तक इक्विटी में निवेश के दो और विकल्प होते है। 35 साल तक इक्विटी में 75% या 25% निवेश ऑप्शन है।


NPS के फंड मैनेजर


नेशनल पेंशन स्कीम के 8 फंड मैनेजर होते है। हर फंड मैनेजर 3 फंड मैनेज करता है। NPS के जरिए एक ही फंड मैनेजर का चुनाव कर सकते हैं।


                  
NPS में विकल्प


NPS में निवेश के दो ऑप्शन हैं। एक्टिव विकल्प और ऑटो विकल्प। इसमें सब्सक्राइबर खुद फंड चुनते हैं। ऑटो विकल्प में उम्र के मुताबिक इक्विटी-डेट में निवेश करना होता है। एक्टिव में इक्विटी निवेश की अधिकतम सीमा 75% होती है।
 


ऑटो च्वाइस के विकल्प


- एग्रेसिव लाइफसाइकल फंड
- मॉडरेट लाइफसाइकल फंड
- कंजर्वेटिव लाइफसाइकल फंड
 
NPS में फंड विकल्प


- इक्विटी
- कॉरपोरेट डेट
 - सरकारी बॉन्ड
- AIF


NPS से निकासी कैसे करें?


स्कीम का 40% हिस्सा एन्युटी में होता है। एन्युटी से नियमित आमदनी होती है। स्कीम से बाकी 60% पैसा एकमुश्त मिलेगा। तीसरे साल से आधी राशि निकाल सकते हैं। शादी, बच्चों की पढ़ाई, घर खरीदने के लिए NPS से निकासी निकाली जा सकती है। साथ ही कैंसर, किडनी फेलियर जैसी क्रिटिकल इलनेस के लिए निकासी की सुविधा दी जाती है।



NPS निवेश पर टैक्स


NPS में निवेश पर 50,000 रुपये की अतिरिक्त टैक्स छूट मिलती है। ये छूट सेक्शन 80CCD के तहत मिलती है। सेक्शन 80C के 1.5 लाख के बाद टैक्स छूट मिलती है।
 
NPS (PRAN) को आधार से जोड़ें


NPS को आधार से 3 तरीकों में जोड़ सकते हैं। www.npstrust.org.in पर जाकर जोड़ें। ऑफलाइन फॉर्म भरकर भी इसे अधार से जोड़ सकते है। NPS मोबाइल ऐप पर CRA यानी ( सेंट्रल रिकॉर्ड कीपिंग एजेंसी) के जरिए भी आधार जोड़ा जा सकता है।


सोशल मीडिया अपडेट्स के लिए हमें Facebook (https://www.facebook.com/moneycontrolhindi/) और Twitter (https://twitter.com/MoneycontrolH) पर फॉलो करें।