Moneycontrol » समाचार » निवेश

COVID 19: लॉकडाउन में फाइनेंशियल रूटीन को रखें दुरुस्त ताकि ना हो बड़े कॉपर्स के छूटने का खतरा

लॉकडाउन खत्म होने का इंतजार सभी को है लेकिन लॉकडाउन खत्म होने के बाद बड़ी संख्या में नौकरियां जाने का खतरा मंडरा रहा है।
अपडेटेड Apr 08, 2020 पर 09:57  |  स्रोत : CNBC-Awaaz

बाजार की हाल की गिरावट में कई निवेशकों को घाटा हुआ है। 4 से 5 साल की आपकी कमाई घाटे में बदल गई है। खासतौर से अब तक अगर हम इक्विटी से हुए घाटे की बात करें तो 60% से ज्यादा कमाई जिन निवेशकों की हवा हुई है, उनका आंकडा 4%  है। 30 से 45%  का घाटा झेल रहे लोग लगभग 36%  हैं। वहीं 12%  लोगों ने 45 से 60% इक्विटी लॉस अब तक फेस किय़ा है।  15%  घाटा हुआ है 14%  लोगों को और 15 से 30%  घाटा लेने वालों में से 33%  हैं। अब ऐसे में क्योंकि आपकी फाइनेंशियल प्लानिंग डगमगा गई है तो योर मनी आपकी सहायता के लिए मौजूद है।


इधर लॉकडाउन खत्म होने का इंतजार सभी को है लेकिन लॉकडाउन खत्म होने के बाद बड़ी संख्या में नौकरियां जाने का खतरा मंडरा रहा है। वहीं कंपनियों के राजस्व में भी 10% तक की कमी आने का अनुमान है। इंडस्ट्री चैंबर CII की ओर से 200 कंपनियों के CEO पर किए गए सर्वे में ये बात सामने आई है।


सर्वे में शामिल 200 कंपनियों के शामिल CEO में से 47 % CEO का मानना है कि लॉकडाउन खत्म होने के बाद 15% तक जॉब लॉस की संभवना है जबकि 32% CEOs के मुताबिक 15-30% जॉब लॉस होने की संभावनाएं है।


सर्वे में शामिल 52% CEOs के मुताबिक वित्त वर्ष 2020 की अंतिम तिमाही में राजस्व में 10% की कमी आ सकती है जबकि 74% CEOs ने वित्त वर्ष 2021 की पहली तिमाही में राजस्व में 10% कमी का अनुमान जताया है। ऐसे में लॉकडाउन और उसके बाद आप अपनी फाइनेशिंयल रूटीन को कैसे बैलेंश करें इसके लिए क्या सहीं सुझाव है। साथ ही सवालों के जवाब देने के लिए मौजूद है  Wiseinvest Advisors के CEO हेमंत रुस्तगी।


लॉकडाउन में फाइनेंशियल रूटीन


लॉकडाउन में फाइनेंशियली हेल्दी रहने के लिए आप सभी बिल का भुगतान समय पर करें। EMI, क्रेडिट कार्ड, प्रीमियम समय सीमा में भरें। बैंक खातों के बैलेंस को चेक करते रहें। एक साथ सभी खातों से पैसे ना निकालें। अपने  निवेश पोर्टफोलियो की जांच करते रहें। साथ ही अपने लक्ष्यों की समीक्षा जरूर करें। कॉस्ट कट या जॉब लॉस के लिए तैयार रहें। इमरजेंसी फंड का इंतजाम अभी से कर लेनी ही समझदारी होगी।


सवालः 5 साल के लिए SIP करने का विचार है। SIP के जरिए कुछ 5 फंड जोड़ेगे। हर फंड में 2,000 रुपये की SIP करना चाहते है। सही पोर्टफोलियो डायवर्सिफिकेशन कैसे करें और क्या करना होगा?


जवाब: पोर्टफोलियो में बैलेंस जरूरी है। सही पोर्टफोलियो में डायवर्सिफिकेशन जरूरी होता है। 2.5 साल  की अवधि के मुताबिक बैलेंस्ड एडवांटेज और हाइब्रिड इक्विटी फंड में निवेश करना सही है। 10,000  रुपये के निवेश के लिए 5 फंड जोड़ना सही नहीं है। ज्यादा फंड से पोर्टफोलियो ओवर-डायवर्सिफाइड होता है। इस निवेश के लिए पोर्टफोलियो में 3 ही फंड रखें। निवेश अवधि 1 साल और बढ़ाना बेहतर रहेगा।


एक्सपर्ट का कहना है कि इन्हें  Kotak Balanced Advantage में 3000 रुपये, ICICI Pru Balanced Advantage Fund में 3000 रुपये  और SBI Equity Hybrid Fund में 4000 रुपये निवेश करें।



सवालः 5 साल में बहन की शादी के लिए 30 लाख रुपये चाहिए। 3 लाख रुपये  का निवेश करना है। मौजूदा पोर्टफोलियो को देखें तो मैने SBI Bluechip में 7000 रुपये प्रति माह, Mirae Asset India Equity Fund में 20000 रुपये प्रति माह, Nippon Small Cap फंड में 2000 रुपये प्रति माह, HDFC Nifty 50 में 5000 रुपये प्रति माह, HDFC Midcap में प्रति माह 5000 रुपये और PPF में हर महीने 40,000 रुपये  निवेश किए है। अब ICICI Balanced Advantage में 3 लाख रुपये एकमुश्त निवेश करने का विचार कर रहे है क्या करें?


जवाब: 3 लाख का निवेश मौजूदा फंड्स में ही कर सकते हैं।  Mirae Asset Largecap और HDFC Nifty50 फंड में निवेश कर सकते हैं।  SBI Bluechip की जगह SBI Focused Equity Fund बेहतर है।


सोशल मीडिया अपडेट्स के लिए हमें Facebook (https://www.facebook.com/moneycontrolhindi/) और Twitter (https://twitter.com/MoneycontrolH) पर फॉलो करें।